Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

चीन परमाणु सुरक्षा कानून का मसौदा जल्द तैयार करेगा

Published

on

6a00d8341bfae553ef016304e76617970d-800wiबीजिंग। चीन परमाणु सुरक्षा कानून एवं आणविक ऊर्जा कानून का मसौदा जल्द तैयार करेगा। यह जानकारी बुधवार को जारी एक श्वेत-पत्र में दी गई है। स्टेट काउंसिल इंफॉरमेशन ऑफिस की ओर से जारी श्वेत-पत्र में कहा गया है कि चीन ने 1985 में अपने पहले परमाणु ऊर्जा संयंत्र के निर्माण का कार्य शुरू किया था और तब से इसने परमाणु ऊर्जा प्रतिक्रिया से संबंधित कानून बनाने में तेजी लाई है।

चीन ने 1993 में पहली बार परमाणु दुर्घटनाओं के आपात प्रबंधन पर एक अधिनियम को अंगीकार किया था और उसके बाद रेडियोधर्मी प्रदूषण के नियंत्रण व रोकथाम का एक कानून अंगीकार किया। श्वेत पत्र में कहा गया है आपातकालीन प्रतिक्रिया से संबंधित कानून में परमाणु हादसों को भी शामिल किया गया है।

जुलाई 2015 में राष्ट्र सुरक्षा कानून में संशोधन किया गया और परमाणु आपातस्थिति नियम को मजबूत बनाया गया। बीते वर्षो में चीन ने एक परमाणु आपात प्रबंधन प्रणाली भी स्थापित की है। राष्ट्र स्तर पर नागरिक विभागों और सेना को मिलाकर नेशनल न्यूक्लीयर एक्सीडेंट इमरजेंसी कोर्डिनेशन कमेटी बनाई गई है और नियमित काम के लिए एक सामान्य प्रभारी अधिकारी है।

अन्तर्राष्ट्रीय

एक ऐसा देश जहां पराई लड़कियों से संबंध बनाने के लिए ‘सरकार’ पैसे देती है

Published

on

By

हर देश में प्रॉस्टीटूशन यानि वैश्यावृति काफी सक्रिय तौर पर चल रहा है, फिर चाहे वो हमारा देश ही क्यों न हो। वेश्यावृति का कारोबार हमारे देश में आग की तरह फैलता जा रहा है।

कुछ देशों में इसे कानूनी घोषित कर दिया तो कही इसे गैरकानूनी तरीके से चलाया जाता है जिसे रेड लाइट एरिया बोलते हैं। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां कॉलगर्ल का खर्च वहां की सरकार उठाती है।

दुनिया में हर देश की सरकार अपने देश की वृत्ति को आगे बढ़ने के लिए जनता की मदद करती है, लेकिन इस देश में परै महिलाओं के साथ संबंध बनाने के लिए उसका खर्च सरकार देती है।

हम बात कर रहे हैं नीदरलैंड की जहां सरकार कॉल गर्ल्स के साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए पैसे देती है। जानकारी के मुताबिक, नीदरलैंड में किसी मरीज के इलाज के दौरान डॉक्टर की सलाह पर दवाओं के साथ-साथ कॉलगर्ल के साथ संबंध बनाने पर होने वाले खर्च को भी इलाज के खर्च में शामिल करने का प्रावधान है। ये बात बेहद अजीब है लेकिन सच भी है।

Continue Reading

Trending