Connect with us

मुख्य समाचार

एनआईए ने आईएस के 14 संदिग्धों को लिया हिरासत में

Published

on

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए), 14 संदिग्ध आतंकी हिरासत में, राज्यों की एटीएस के साथ संयुक्‍त आपरेशन, खतरनाक इस्लामिक आतंकी संगठन आईएसआईएस

नई दिल्ली। देश में गणतंत्र दिवस के समारोह से महज चार दिन पहले राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने राज्यों की एटीएस के साथ ताबड़तोड़ छापेमार कर संयुक्त ऑपरेशन में 14 संदिग्ध आतंकियों को हिरासत में लिया है। इन सभी पर खतरनाक इस्लामिक आतंकी संगठन आईएसआईएस के नेटवर्क में शामिल होने का शक है। एनआईए सभी संदिग्धों से पूछताछ कर रही है। इन्हें अदालतों में पेश करके रिमांड पर लेने की कोशिश की जाएगी। छह संदिग्धों को कर्नाटक से, चार को तेलंगाना के हैदराबाद से, एक को राजस्थान से और दो को महाराष्ट्र से हिरासत में लिया गया है। टीवी रिपोर्ट्स के अनुसार ये सभी देशभर में धमाके करने की साजिश में शामिल हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि हैदराबाद से नफीज़ के पास से विस्फोट भी मिले हैं।

कर्नाटक पुलिस के मुताबिक, शुक्रवार की सुबह तुमकुर से सैयद हुसैन और मंगलुरु में मोहम्मद नजमुल हुदा को गिरफ्तार किया गया। इन दोनों को आईएसआईएस से संबंध रखने के मामले में संदिग्ध माना जा रहा है। दोनों पर लंबे समय से नजर रखी जा रही थी। सैयद हुसैन और मोहम्मद हुदा पर आईएसआईएस रंगरूट होने का शक है। पुलिस को छानबीन में पता चला कि 25 वर्षीय नजमुल हुदा ने इंजिनियरिंग की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी थी और जुनूद-अल-खलीफा-ए-हिंद नामक एक संगठन के संपर्क में था, जिसका ताल्लुक आईएसआईएस से बताया जाता है। इस बीच, दिल्ली पुलिस ने एक ऑल्टो कार को लेकर अलर्ट जारी किया है। इस ऑल्टो कार को पठाकोट से किराए पर लिया गया था, लेकिन बाद में इसके ड्राइवर का शव मिला। ऑल्टो कार अभी गायब बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि सफेद रंग की इस अल्टो कार पर हिमाचल का नंबर है और इसे तीन लोगों ने पठानकोट में किराए पर लिया था। कार का ड्राइवर विजय कुमार 20 जनवरी को हिमाचल के कांगड़ा में मृत पाया गया।

नेशनल

कमांडर लेवल मीटिंग में भारत की दो टूक-अप्रैल वाली पोजिशन में लौटे चीनी सेना

Published

on

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच लगभग 1 महीने से चल रहे विवाद को खत्म करने के लिए आज यानी शनिवार को अहम बैठक हुई। यह मीटिंग कमांडर लेवल की थी।

इस मीटिंग में भारत की ओर से लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह थे और साथ में ब्रिगेडियर ऑपरेशंस और दो चाइनीज इंटरप्रेटर भी मौजूद थे। चीन की तरफ से साउथ शिनजियांग मिलिट्री कमांड के कमांडर मेजर जनरल लियो लिन मौजूद थे।

जानकारी के मुताबिक यह मीटिंग 3 घंटे से ज्यादा चली। इस बैठक में चीन ने भारत की ओर किए जा रहे सड़क निर्माण को रोकने की बात कही जिसपर भारत की ओर से आपत्ति जताई गई। सूत्रों के मुताबिक, मीटिंग में चीन को साफतौर पर कहा गया है कि वह अप्रैल 2020 का स्टेटस कायम करे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending