Connect with us

बिजनेस

चीन की वाहन कंपनियों की वैश्विक बाजार हिस्सेदारी बढ़ेगी : केपीएमजी

Published

on

बीजिंग। चीन की वाहन निर्माता कंपनियों की अगले पांच साल में वैश्विक बाजार हिस्सेदारी बढ़ेगी। यह बात सोमवार को केपीएमजी द्वारा जारी एक सर्वेक्षण रिपोर्ट में कही गई। 17वें ग्लोबल ऑटोमोटिव एग्जिक्यूटिव सर्वेक्षण के मुताबिक, अगले पांच साल में 20 ऑरिजिनल इक्विपमेंट मैन्यूफैक्चर्स (ओईएम) की वैश्विक बाजार में हिस्सेदारी बढ़ेगी। इनमें 20 ओईएम में पांच चीन की कंपनियां भी हैं।

सर्वेक्षण में 17 फीसदी कार्यकारी अधिकारियों ने बताया कि उत्पादन बढ़ाने के लिए वे चीन में सर्वाधिक निवेश बढ़ाएंगे। चीन के बाद उनका निवेश क्रमश: भारत और जर्मनी में सर्वाधिक होगा। सर्वेक्षण में 38 देशों के 800 वाहन कंपनियों के अधिकारियों से राय ली गई, जिसमें 100 चीन की कंपनियां शामिल हैं।

यह सर्वेक्षण वैश्विक रूप से 2,100 से अधिक ग्राहकों पर भी किया गया। ऑटोमोटिव चाइना (केपीएमजी चाइना) के प्रमुख एवं साझेदार हु होइ त्रान ने कहा कि चीन के उपभोक्ताओं के लिए कार का स्वामित्व अभी भी एक प्राथमिकता और रुतबे का प्रतीक बना हुआ है।

गैजेट्स

चीनी कंपनियों की मांग में भारतीय फोन बाज़ार सबसे आगे, टॉप-5 स्मार्टफोन ब्रांड में 04 चाइना के

Published

on

By

भारत में 2020 की पहली तिमाही यानी जनवरी से मार्च के बीच भारतीय स्मार्टफोन मार्केट में चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी 70% से भी ज्यादा है। स्मार्टफोन मार्केट करीब 2 लाख करोड़ रुपए का है।

वहीं अगर देश के टॉप-5 स्मार्टफोन ब्रांड की बात करें, तो इनमें से 04 चीनी कंपनी हैं। 30% मार्केट शेयर श्याओमी का है। दूसरे नंबर पर 17% मार्केट शेयर के साथ वीवो है। टॉप-5 में सिर्फ सैमसंग ही है, है जो चीन की कंपनी नहीं है। ( सैमसंग दक्षिण कोरियाई कंपनी है।

इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स के कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कही ये बड़ी बात

इसके अलावा भारतीय ऐप मार्केट में 40% तक हिस्सा सिर्फ चाइनीज ऐप्स का है। चीन की कंपनियां सस्ते स्मार्टफोन भारत में लॉन्च करती हैं और यही लोगों को पसंद भी आते हैं। पिछले साल दिसंबर 2019 तक भारत में 50 करोड़ से ज्यादा लोग स्मार्टफोन प्रयोग कर रहे थे।

Continue Reading

Trending