Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

‘वियतनाम-चीन के संबंधों में मैत्री, सहयोग अहम’

Published

on

हनोई। वियतनाम और चीन के संबंधों में पिछले 66 वर्षो में हालांकि कई उतार-चढ़ाव आए हैं, फिर भी दोनों देशों के बीच मित्रता, सहयोग और सकरात्मक विकास अहम रहा। यह बात वियतनाम के संस्कृति, खेल और पर्यटन मंत्री होआंग तुआन अन्ह ने यहां दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संबंधों की स्थापना की 66वीं वर्षगांठ पर आयोजित समारोह में कही, जिसका आयोजन चीनी दूतावास ने यहां गुरुवार को किया था।

होआंग ने कहा, “वियतनाम और चीन के बीच 66 साल पहले आधिकारिक तौर पर कूटनीतिक संबंध स्थापित हुए थे, जो दोनों देशों की दीर्घकालिक परंपरागत मित्रता की दिशा में मील का पत्थर था। इसने दोनों देशों के संबंधों के इतिहास में एक नए अध्याय की शुरुआत की।”

वियतनाम में चीन के राजदूत होंग शियाओयोंग ने कहा कि 2015 में चीन-वियतनाम के संबंधों में महत्वपूर्ण प्रगति हुई। दोनों देशों के उच्च स्तरीय नेताओं की एक-दूसरे के यहां यात्रा हुई, जिसमें उन्होंने आपसी संबंधों को आगे बढ़ाने पर सहमति जताई।

शियाओयोंग ने कहा, “चीन और वियतनाम दो घनिष्ठ पड़ोसी और भाई हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि अंतर्राष्ट्रीय परिस्थितियां किस प्रकार बदलती हैं, महत्वपूर्ण यह है कि दोनों देशों की इस सोच में कोई बदलाव नहीं है कि हमें आपसी संबंधों को आगे बढ़ाना है, जो दोनों देशों के नागरिकों के हित में है।”

अन्तर्राष्ट्रीय

अमेरिकी सरकार ने दी अपने नागरिकों को चेतावनी, भारत के इस इलाके में न जाएं

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिकी सरकार ने अपने नागरिकों को नागरिकता (संशोधन) अधिनियम, 2019 को लेकर जारी विरोध प्रदर्शनों के कारण भारत के पूर्वोत्तर राज्यों का दौरा करने के खिलाफ चेतावनी दी है।

अमेरिकी दूतावास द्वारा शुक्रवार को यहां जारी एक एडवाइजरी में कहा गया है कि अमेरिकी नागरिकों को ‘नागरिकता (संशोधन) कानून’ बनाए जाने के कारण मीडिया में आ रही विरोध और हिंसा की खबरों के मद्देनजर सावधानी बरतनी चाहिए।अमेरिका ने कहा कि उन्होंने असम की आधिकारिक यात्रा को अस्थायी रूप से रद्द कर दिया है।

एडवाइजरी में कहा गया, “इंटरनेट और मोबाइल संचार बाधित हो सकता है। इस क्षेत्र के विभिन्न हिस्सों में परिवहन प्रभावित हो सकता है। देश के अन्य हिस्सों में भी विरोध प्रदर्शन होने की खबरें हैं।”

अमेरिकी नागरिकों को आसपास के माहौल के बारे में जागरूक रहने, अपडेट के लिए स्थानीय मीडिया की खबरों पर नजर रखने, व्यक्तिगत सुरक्षा योजनाओं की समीक्षा करने और अपनी सुरक्षा के संबंध में दोस्तों और परिवार को सूचित करने के लिए कहा है।

अब कानून बन चुके सीएबी के खिलाफ हजारों प्रदर्शनकारी बुधवार से पूर्वोत्तर की सड़कों पर हैं, प्रदर्शनकारियों की पुलिस से झड़पें हो रही हैं और इस क्षेत्र में अराजकता का माहौल है।

केंद्र सरकार ने इन क्षेत्रों में भारी संख्या में सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया है और सभी हितधारकों के साथ बातचीत कर रही है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending