Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

आईएस के खिलाफ हमलों से सुरक्षित होगा ब्रिटेन : कैमरन

Published

on

लंदन| ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा कि सीरिया में इस्लामिक स्टेट (आईएस) के खिलाफ हवाई हमलों से देश सुरक्षित बनेगा। इसका प्रतिकूल असर नहीं होगा और देश आतंकवादी हमलों का निशाना नहीं बनेगा। प्रधानमंत्री कैमरन ने गुरुवार को ब्रिटिश संसद के निचले सदन कॉमन सभा में सांसदों से सीरिया में आईएस के खिलाफ ब्रिटिश सैन्य कार्रवाई की अपनी योजना को समर्थन देने की अपील करते हुए कहा कि ब्रिटेन पहले से ही आईएस के निशाने पर है और हमें इस वक्त आतंकवाद को जड़ से खत्म करने के लिए कार्रवाई करनी होगी।

कैमरन ने गुरुवार को सीरिया में ब्रिटिश हवाई हमलों की योजना से संबंधित दस्तावेज भी जारी किए, जिसमें उन्होंने लिखा है, “सीरिया और इराक में आईएस को हराने के लिए ठोस सैन्य रणनीति बनाई गई है। हमें यह उम्मीद नहीं करनी चाहिए कि यह जल्द ही होगा। इसके लिए धर्य व दृढ़ता की जरूरत है। हम अपने लक्ष्य में कामयाब हो सकते हैं।”

ब्रिटेन की सबसे बड़ी विपक्षी लेबर पार्टी में हालांकि सीरिया में सैन्य हस्तक्षेप को लेकर मतभेद हैं। लेबर पार्टी के नेता कॉरबिन का जहां मानना है कि सीरिया व इराक में ब्रिटेन की सैन्य भागीदारी का देश पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है, वहीं पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर ने कैमरन के कदम को समर्थन देने की बात कही है।

उन्होंने लंदन में एक लाइव शो के दौरान कहा, “यह (आतंकवाद) 21वीं सदी की सबसे बड़ी सुरक्षा चुनौती है। इसे समाप्त करने में वक्त लगेगा। इसे विभिन्न स्तरों से समाप्त करना होगा।”

लेबर पार्टी के कुछ अन्य वरिष्ठ नेताओं का भी कहना है कि कॉरबिन के रुख से पार्टी में विद्रोह बढ़ सकता है और कई नेता इस्तीफा दे सकते हैं।

अन्तर्राष्ट्रीय

कांपते हुए कुरैशी ने कहा था- 9 बजे भारत हम पर हमला कर देगा, डर के मारे पाकिस्तान ने अभिनंदन को किया था रिहा

Published

on

नई दिल्ली। बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद भारत में घुसने की कोशिश कर रहे पाकिस्तानी एफ 16 को भारतीय पायलट अभिनंदन ने अपने मिग विमान से मार गिराया था। हालांकि इस कार्रवाई में अभिनंदन का विमान पाकिस्तानी सीमा में क्रैश कर गया था जिसके बाद पाकिस्तान ने भारतीय पायलट को बंदी बना लिया था। हालांकि भारत सरकार के दबाव में पाकिस्तान को उन्हें कुछ ही घंटों के अंदर भारत वापस भेजना पड़ा।

अभिनंदन को भारत वापस भेजने के पीछे पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने इलाके में शांति की दुहाई दी थी, जो पूरी दुनिया के किसी भी शांति प्रिय देश को रास नहीं आई थी। अब पाकिस्तान के एक बड़े नेता सरदार अयाज सादिक ने जो खुलासा किया है उसने दुनिया को बता दिया है कि भारत जैसे शक्तिशाली देश के आगे पाकिस्तान क्या औकात रखता है।

उन्होंने पाकिस्तानी संसद में बताया कि अभिनंदन को भारत को सौंपने से पहले पाकिस्तानी सरकार में हड़कंप मचा हुआ था। अभिनंदन को छोड़ जाने से पहले एक मीटिंग में पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के पैर कांप रहे थे। उन्होंने कहा, “मझे याद है शाह महमूद कुरैशी साहब उस मीटिंग में थे जिसमें आने से वजीर-ए-आलम ने इंकार कर दिया, चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ तशरीफ लाए। पैर कांप रहे थे, पसीने माथे पर थे और हमसे शाह महमूद साहब ने कहा, फॉरेन मिनिस्टर साहब ने, कि खुदा का वास्ता अब इसको वापस जाने दें, क्योंकि 9 बजे रात को हिंदुस्तान पाकिस्तान पर अटैक कर रहा है।”

पाकिस्तानी नेता के इस खुलासे के बाद पाकिस्तान में हड़कंप मच गया है। सोशल मीडिया पर पाकिस्तानी लोग जमकर चर्चा कर रहे हैं। आपको बता दें कि बालाकोट स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने अपने एयर स्पेस में विमानों की मूवमेंट को पूरी तरह से रोक दिया था, जानकारों ने कहना है कि इसके पीछे भी इमरान सरकार को भारतीय वायुसेना के हवाई हमले का डर था।

Continue Reading

Trending