Connect with us

मुख्य समाचार

अशोक वाजपेयी ने भी लौटाया साहित्य अकादमी पुरस्कार

Published

on

नई दिल्ली। लेखक नयनतारा सहगल के बाद ललित कला अकादमी के पूर्व अध्यक्ष अशोक वाजपेयी ने ‘‘जीवन और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार पर हमले’’ के खिलाफ साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटा दिया है। उनकी विभिन्न कविताओं के लिए वर्ष 1994 में उन्हें भारत सरकार द्वारा साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाज़ा गया था।

वाजपेयी ने दादरी में एक व्यक्ति की पीट पीटकर हत्या और तर्कवादियों की श्रृंखलाबद्ध हत्याओं पर दुख जताते हुए इन घटनाओं पर पीएम नरेंद्र मोदी की लगातार चुप्पी पर सवाल उठाया है। वाजपेयी ने कहा, ‘‘सहगल सही हैं। वह :मोदी: बहुत ही बातूनी प्रधानमंत्री हैं। वह देश से यह क्यों नहीं कहते कि देश के बहुलतावाद की किसी भी कीमत पर रक्षा की जाएगी?’’

उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि लेखकों को कट्टरता के खिलाफ़ एकजुट होकर आवाज़ उठानी चाहिए। लेखक के पास विरोध करने का यही तरीका है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले प्रसिद्ध लेखिका नयनतारा सहगल ने भी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर देश की सांस्कृतिक विविधता कायम न रख पाने का आरोप लगाते हुए उन्हें दिया गया साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने की घोषणा की थी।

नेशनल

Covaxin : भारत को जल्द मिलने वाली है कोरोना की पहली मान्यता प्राप्त वैक्सीन

Published

on

By

15 अगस्त को देश में कोरोना की दवा कोवैक्सीन लॉन्च हो सकती है। इस वैक्सीन को भारत बायोटेक नाम की एक दवा कंपनी ने तैयार किया है। भारत बायोटेक और आईसीएमआर संयुक्त रूप से इस वैक्सीन को लॉन्च कर सकते हैं।

कोवैक्सीन को ह्यूमन ट्रायल की इजाजत मिल चुकी है। आईसीएमआर के मुताबिक, 7 जुलाई से ह्यूमन ट्रायल के लिए इनरोलमेंट शुरू होना है। साथ ही आशा है कि 15 अगस्त तक कोवैक्सीन को लॉन्च किया जा सकता है।

फिल्मों की दुनिया की जानी मानी कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन

अगर सभी ट्रायल हर चरण में पास होते हैं तो देश को पहली कोरोना वैक्सीन मिल जाएगी। फिलहाल आईसीएमआर का ये अनुमान है कि कोवैक्सीन मार्केट में 15 अगस्त तक आ सकती है। भारत में कोरोना के लिए कोरोना की वैक्सीन को भारत बायोटेक कंपनी सबसे पहले उतारने जा रही है।

#covaxin #coronavaccine #vaccine #health #covid19

Continue Reading

Trending