Connect with us

मुख्य समाचार

गृह मंत्रालय सीएनजी घोटाले की जांच को ‘अवैध’ नहीं कह सकता : सिसोदिया

Published

on

नई दिल्ली| केंद्रीय गृहमंत्रालय को कथित सीएनजी फिटनेस घोटाले में दिल्ली सरकार की जांच को ‘अवैध’ करार देने का अधिकार नहीं है। यह बात बुधवार को दिल्ली सरकार ने कही है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने करोड़ों रुपये के इस कथित घोटाले की जांच को लेकर उपराज्यपाल नजीब जंग के पत्र का जवाब देते हुए कहा कि दिल्ली सरकार न तो गृहमंत्रालय का ‘अधीनस्थ विभाग’ है और न ही इसके प्रति ‘जवाबदेह’ है।)

सिसोदिया ने पत्र में लिखा, “संविधान के तहत गृहमंत्रालय के पास दिल्ली सरकार (जीएनसीटीडी) के किसी भी आदेश को निर्थक घोषित करने का अधिकार नहीं है।”

उन्होंने लिखा, “जीएनसीटीडी के किसी भी आदेश को निर्थक और अमान्य करार देने का अधिकार सिर्फ न्यायपालिक को है।”

सिसोदिया ने पत्र में कहा है, “गृह मंत्रालय न्यायपालिका के अधिकार क्षेत्र में अतिक्रमण करता दिख रहा है।”

सीएनजी फिटनेस घोटाला 2012 में सामने आया था। भ्रष्टाचार निरोधी शाखा(एसीबी) की जांच में खुलासा हुआ था कि दिल्ली सरकार को बुराड़ी स्थित परिवहन प्राधिकरण कार्यालय में सीएनजी वाहनों की जांच एवं प्रमाणन के संचालन का ठेका ईएसपी यूएस के बजाय ईएसपी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को दिए जाने में हुई कथित अनियमितता के कारण 100 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

नेशनल

कमांडर लेवल मीटिंग में भारत की दो टूक-अप्रैल वाली पोजिशन में लौटे चीनी सेना

Published

on

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच लगभग 1 महीने से चल रहे विवाद को खत्म करने के लिए आज यानी शनिवार को अहम बैठक हुई। यह मीटिंग कमांडर लेवल की थी।

इस मीटिंग में भारत की ओर से लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह थे और साथ में ब्रिगेडियर ऑपरेशंस और दो चाइनीज इंटरप्रेटर भी मौजूद थे। चीन की तरफ से साउथ शिनजियांग मिलिट्री कमांड के कमांडर मेजर जनरल लियो लिन मौजूद थे।

जानकारी के मुताबिक यह मीटिंग 3 घंटे से ज्यादा चली। इस बैठक में चीन ने भारत की ओर किए जा रहे सड़क निर्माण को रोकने की बात कही जिसपर भारत की ओर से आपत्ति जताई गई। सूत्रों के मुताबिक, मीटिंग में चीन को साफतौर पर कहा गया है कि वह अप्रैल 2020 का स्टेटस कायम करे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending