Connect with us

मनोरंजन

अंतिम बार रंगमंच पर नजर आएंगे अली

Published

on

नई दिल्ली| रंगमंच से फिल्मों में आए अभिनेता अली फजल एक बार फिर रंगमंच पर नजर आने वाले हैं, लेकिन रंगमंच पर यह उनकी आखिरी प्रस्तुति होगी। अली ने ‘अ गइ थिंग’ नाटक से रंगमंच पर अपना अभिनय करियर शुरू किया था, जिसे अमेरिकी लेखक माइकल पुज्जो ने लिखा और निर्देशित किया था। नाटक की रजत जयंती गुरुवार को यहां मनाई जाएगी और अली नाटक में लीनो का अपना किरदार अंतिम बार निभाएंगे।

अली को फिल्मों में पहला मौका फिल्मकार राजकुमार हिरानी की फिल्म ‘थ्री ईडियट्स’ में एक छोटी-सी भूमिका के रूप में मिला था। उसके बाद उन्होंने हिंदी फिल्मों ‘फुकरे’ और ‘बॉबी जासूस’ और ‘फास्ट एंड फ्यूरियस 7’ जैसी मशहूर अंतर्राष्ट्रीय फिल्म में काम किया।

अली ने एक बयान में कहा, “मैंने एक रंगमंच कलाकार के रूप में अपना करियर शुरू किया था और यह नाटक मेरे लिए काफी मायने रखता है, क्योंकि राजकुमार हिरानी ने मुझे इसी नाटक के मंचन में पहली बार देखा था।”

उन्होंने कहा, “संक्षेप में कहूं, तो ‘ए गाइ थिंग’ के कारण मुझे पहली फिल्म मिली। मुझे खुशी है कि यह नाटक इतना कामयाब रहा और मैं इसके सुखद अंत का साक्षी बनूंगा।”

अली के नाटक को देखने के लिए उनकी ‘बॉबी जासूस’ की सहकलाकार अभिनेत्री विद्या बालन सहित दिया मिर्जा, महेश भट्ट, पूजा भट्ट और ऋचा चड्ढा जैसी फिल्मी हस्तियों आने वाली हैं।

प्रादेशिक

हाथरस के दरिंदों को सार्वजनिक रूप से गोली मारो: कंगना रनौत

Published

on

मुंबई। उत्तर प्रदेश के हाथरस में दुष्कर्म का शिकार युवती का दिल्ली में अस्पताल में इलाज के दौरान मौत होने से पूरा देश गुस्से में है। सभी आरोपियों की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई कर जल्द से जल्द फांसी देने की मांग कर रहे हैं। जहां प्रदेश में सभी विपक्ष दलों ने मामले को लेकर योगी सरकार पर जमकर हमला बोला है, वहीं इस मामले में एक्ट्रेस कंगना रनौत ने भी अपना गुस्सा जाहिर किया है.

अभिनेत्री कंगना ने ट्वीट किया, ”इन दुष्कर्मियों को सार्वजनिक रूप से गोली मार देनी चाहिए। इन सामूहिक दुष्कर्मों का क्या समाधान है, जिनकी संख्या में हर साल बढ़ोतरी हो रही है। यह इस देश के लिए कितना दुखद और शर्मनाक दिन है। हम शर्मिंदा हैं क्योंकि हम अपनी बेटियों की सुरक्षा करने में विफल रहे।

दिल्ली के अस्पताल में हुई मौत

बता दें कि हाथरस में गैंगरेप की शिकार 19 वर्षीय दलित युवती की मंगलवार को दिल्ली के एक अस्पताल में मौत हो गई। चार लोगों ने कुछ दिन पहले उसके साथ गैंगरेप किया था। गैंगरेप के बाद दलित बिटिया की जुबान काटी गई और भयानक जख्म दिए गए थे। 14 सितंबर को, पीड़िता के गर्दन में पड़े दुपट्टे से एक खेत में उसे खींचा गया, जब वह पशुओं का चारा लेने गई थी, जिससे उसकी रीढ़ की हड्डी में चोट लग गई। जब उसका गला घोंटने की कोशिश की गई तो उसने अपनी जीभ को दांतों से जोर से काटा जिससे जीभ पर गहरा जख्म हो गया।

अलीगढ़ अस्पताल में न्यूरोसर्जरी के प्रमुख फखरुल होदा ने कहा कि उसकी रीढ़ को ठीक करने के लिए सर्जरी केवल उसकी स्थिति में सुधार के बाद ही की जा सकती थी। रीढ़ की हड्डी को नुकसान स्थायी रूप से दिखाई दिया। पांच भाई-बहनों में सबसे छोटी पीड़िता कुछ समय के लिए लाइफ सपोर्ट पर भी रखी गई। पिता के कहने पर लड़की को सोमवार को दिल्ली रेफर किया गया था। उसका भाई उसे दिल्ली ले गया। अस्पताल में भर्ती होने के एक हफ्ते बाद, लड़की ने पुलिस को बताया कि उसके साथ चार लोगों ने दुष्कर्म किया था, जिसका नाम भी उसने बताया था। सभी चार आरोपियों के नाम संदीप, रामू, लवकुश और रवि हैं, जिन्हें दुष्कर्म, हत्या के प्रयास और एससी / एसटी अधिनियम की धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया।

Continue Reading

Trending