Connect with us

मुख्य समाचार

गजेंद्र चौहान को विद्यार्थियों की सुननी चाहिए : सलमान

Published

on

मुंबई| बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान, उनके पिता सलीम खान और फिल्म निर्देशक कबीर खान ने कहा कि भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) के अध्यक्ष तथा अभिनेता गजेंद्र सिंह चौहान को संस्थान के प्रदर्शनकारियों विद्यार्थियों की मांग की इज्जत करनी चाहिए और पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। पिछले एक माह से अधिक समय से गजेंद्र को एफटीआईआई अध्यक्ष बनाए जाने का विरोध चल रहा है। कई बॉलीवुड हस्तियां इस मसले पर अपने विचार व्यक्त कर चुकी हैं और कई ने प्रदर्शनकारियों विद्यार्थियों से हमदर्दी भी जताई।

सलमान ने गुरुवार को अपनी फिल्म ‘बजरंगी भाईजान’ पर एक खास पुस्तक के लांच पर मीडिया को बताया, “मेरे ख्याल से उन्हें (गजेंद्र)विद्यार्थियों की सुननी चाहिए। क्योंकि हमारा फिल्मोद्योग आज जो कुछ है, वह विद्यार्थियों की बदौलत है और उनमें से अधिकांश को बर्खास्त कर दिया गया है।”

वहीं, ‘बजरंगी भाईजान’ के निर्देशक कबीर खान ने कहा कि सज्जन को इज्जत के साथ स्वयं पद छोड़ने के बारे में फिक्रमंद होना चाहिए।

कबीर ने कहा, “मेरे ख्याल से एक फिल्म स्कूल के अध्यक्ष और विद्यार्थियों के बीच एक घनिष्ठ नाता है। आप इज्जत मांग नहीं सकते, यह आपको कमानी होगी।”

 

प्रादेशिक

महाराष्ट्र के मंत्री अशोक चव्हाण ने जीती कोरोना से जंग, अस्पताल से मिली छुट्टी

Published

on

मुंबई। महाराष्ट्र के पीडब्ल्यूडी मंत्री अशोक चव्हाण ने कोरोना से जंग जीत ली है। अब ठीक होकर अस्पताल से वापस अपने घर आ गए हैं। गुरुवार को पार्टी के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री का कोविड -19 परीक्षण पॉजिटिव आया था, लेकिन उनमें कोरोना के लक्षण नहीं थे। 24 मई को उनके गृह स्थान नांदेड़ में और फिर उसके अगले दिन मुंबई के एक निजी अस्पताल में उन्हें स्थानांतरित कर दिया गया था।

उपचार पूरा होने के बाद चव्हाण को गुरुवार दोपहर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई, लेकिन प्रोटोकॉल के अनुसार वह अभी भी क्वारंटीन में रहेंगे।

चव्हाण, कैबिनेट के दूसरे सदस्य हैं, जिन्हें कोरोना संक्रमण हुआ। इससे पहले अप्रैल में आवास मंत्री जितेंद्र अव्हाड संक्रमित पाए गए थे।अव्हाड ने क्वारंटीन में समय बिताया और फिर उन्हें एक अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया और उसके बाद भी वह घर पर आइसोलेशन में रहे। मई के आखिर से उन्होंने अपनी मंत्रिस्तरीय जिम्मेदारियों को फिर से संभालना शुरू किया था।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending