Connect with us

मुख्य समाचार

रमजान : बाजार में छाईं खजूर की नायाब किस्में

Published

on

लखनऊ। मुकद्दस माह रमजान में सहरी व इफ्तार का बड़ा महत्व है। रमजान की आमद के साथ ही बाजारों में चहल-पहल खासी बढ़ गई है। मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में इन दिनों बाजार देर रात तक खुल रहते हैं। वहीं सहरी और इफ्तारी के लिए बड़ी संख्या में लोग खरीदारी करने आ रहे हैं। रमजान में सजे दस्तरख्वान पर अपनी खास जगह रखने वाले खजूर की कई किस्में मॉल से लेकर बाजारों तक में सजी हुई हैं।

मियां जीशान खां चालीस साल से रमजान के दिनों में खजूर की बिक्री करते आए हैं। उनका कहना है कि वैसे तो बाजार में खजूर की कई किस्में उपलब्ध हैं, मगर सबसे ज्यादा मांग कीमिया व ईरानी खजूर की हो रही है। कीमिया खजूर जहां 80 रुपये किलो के भाव मिल रहा है, वहीं कीमिया खजूर 120 रुपये प्रति किलो में मिल रहा है।

खजूर की बिक्री कर रहे मोहम्मद उम्मेद खान बताते हैं कि खजूर की सैकड़ों किस्म होती हैं। रमजान पर बाजार में करीब सोलह किस्म के खजूर उपलब्ध हैं। इनमें शबानी, खुबानी, शुमरी, कश, तईबा, मगरूम, सगई, अजूबा, हयात आदि की खासी मांग हो रही है। हयात खजूर जहां ढाई सौ रुपये किलो के रेट में मिल रहा है, वहीं अजूबा तीन हजार रुपये किलो की दर पर बिक रहा है।

इस समय रमजान की तैयारियों पर फूड बाजार भी खजूर से सजे हुए हैं। विक्रेता दीपक सिंघल ने बताया कि रोजेदारों के लिए एक तरफ जहां बिना बीज का खजूर रखा गया है, वहीं ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए ‘बाई वन गेट वन’ ऑफर भी चलाया जा रहा है।

खजूर विक्रेता जुनैद, हामिद व दिलदार बताते हैं कि रोजेदारों ने गर्मी व धूप से बचने के लिए कई दिन पहले से ही अपनी पसंद के खजूरों की खरीदारी शुरू कर दी थी। अब रमजान में रोजाना नया माल मंगाया जा रहा है।

रमजान में सहरी करना सुन्नत माना जाता है। ऐसे में खजला, सेवई, फेन, रस व खासे की मांग बढ़ गई है। बाजार भी इन उत्पादों से सजे हुए हैं। सेवई विक्रेता मेराजुद्दीन ने बताया कि रिफाइंड, वनस्पति घी व देसी घी से बनी हुई सेवई व लच्छों की जमकर खरीदारी हो रही है।

प्रादेशिक

13वीं राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता में यूपी बना चैंपियन, जीते 83 पदक

Published

on

13वीं राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता में उत्तर प्रदेश के खिलाड़ियों ने 46 स्वर्ण, 19 रजत व 21 कान्स्य समेत कुल 83 पदक जीत कर पहला स्थान प्राप्त किया। जबकि तमिलनाडु की टीम 15 स्वर्ण 6 रजत व 3 कान्स्य कुल 24 पदक जीत कर दूसरा स्थान प्राप्त किया। लखनऊ के मंडलायुक्त मुकेश मेश्राम ने विजेता खिलाड़ियों को पुरुस्कार वितरण किया।

यह जानकारी भारतीय कुंग फू संघ की महासचिव मंजू त्रिपाठी ने दी। उन्होंने बताया कि 13वी राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता के समापन समारोह के अवसर पर आज लखनऊ के मंडल आयुक्त मुकेश मेश्राम आईएएस के द्वारा प्रतियोगिता के प्रतिभागी खिलाड़ियों का पुरस्कार वितरण समारोह संपन्न हुआ। उन्होंने इस अवसर पर विजेता खिलाड़ियों को पदक एवं प्रमाण पत्र का वितरण किया।

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के अजय कुमार को प्रतियोगिता का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित किया गया वहीं पर उत्तर प्रदेश की लखनऊ की खिलाड़ी कुमारी संस्कृति त्रिपाठी को प्रतियोगिता का सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ी घोषित किया गया। प्रतियोगिता का चैंपियन अवार्ड घोषित किया गया आकाश आनंद को और इस प्रकार से इस प्रतियोगिता के तीनों प्रतिष्ठित पुरस्कार उत्तर प्रदेश को प्राप्त हुए| इस प्रतियोगिता में 8 स्वर्ण 11 रजत व 8 कांस्य सहित कुल 27 पदक लेकर तीसरे स्थान पर महाराष्ट्र की टीम रही| तमिलनाडु की टीम 15 स्वर्ण 6 रजत व 3 कांस्य सहित कुल 24 पदक ले कर दूसरे स्थान पर और 46 स्वर्ण 19 रजत व 21 कांस्य सहित कुल 83 पदक लेकर पहले स्थान पर उत्तर प्रदेश की टीम रही।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending