Connect with us

प्रादेशिक

मांझी ने सरकार का रिपोर्ट कार्ड जारी किया

Published

on

पटना| बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने मंगलवार को पटना में बिहार सरकार का रिपोर्ट कार्ड जारी किया। ‘न्याय के साथ विकास यात्रा 2014’ के नाम से रिपोर्ट कार्ड जारी करते हुए मांझी ने जहां सरकार की उपलब्धियां गिनाई, वहीं उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह परंपरा प्रारंभ की थी।

मांझी ने रिपोर्ट कार्ड जारी करते हुए कहा कि बिहार पिछले नौ वषरें से न्याय के साथ विकास की यात्रा पर चल रहा है। इस क्रम में सरकार की कोशिश रही है कि हम न्याय के साथ विकास करें।

उन्होंने सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए कहा, “बिहार कृषि, स्वास्थ्य, बिजली, शिक्षा, सड़क समेत कई क्षेत्रों में विकास किया है परंतु अभी भी कई क्षेत्रों में काम किया जाना शेष है।”

मांझी ने कहा कि सरकार की कोशिश है कि गरीबी और अमीरी के बीच बनी खाई को पाटा जाए। गरीबों के पास विकास योजनाएं पहुंचनी चाहिए। ए़ पी़ ज़े अब्दुल कलाम के एक भाषण को उद्घृत करते हुए उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान को आगे बढ़ना है तो बिहार को आगे बढ़ना होगा।

उन्होंने कहा कि बिहार बिजली के क्षेत्र में लगातार विकास कर रहा है। उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में बिहार में 2800 मेगावट बिजली पहुंच रही है और अगले वर्ष तक 5000 मेगावाट का लक्ष्य रखा गया है।

उल्लेखनीय है कि बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार बनने के बाद प्रतिवर्ष सरकार द्वारा रिपोर्ट कार्ड जारी किया जाता है। पिछले वर्ष राजग से अलग होने के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रिपोर्ट कार्ड जारी किया था।

प्रादेशिक

नाबालिग निकला एनकाउंटर में ढेर हुआ विकास का साथी प्रभात मिश्रा, बहन ने दिखाई मार्कशीट

Published

on

कानपुर। यूपी एसटीएफ ने बीते दिनों विकास दुबे के जिस साथी प्रभात मिश्रा उर्फ़ कार्तिकेय को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था वो नाबालिग निकला। जबकि सरकारी प्रेस नोट में प्रभात उर्फ कार्तिकेय की उम्र 20 साल बताई गई थी। इस बात का दावा विकास की बहन ने किया है।

विकास की बहन हिमांशी ने मार्कशीट जारी कर दावा किया है कि प्रभात 16 साल का था। मार्कशीट में उसकी DOB 27 मई 2004 है। यानी वह 16 साल का हुआ। फरीदाबाद से गिरफ्तारी से पूर्व उसकी कोई क्राइम हिस्ट्री भी नहीं थी। हिमांशी ने कहा है कि उसके परिवार के किसी सदस्य की पृष्ठिभूमि आपराधिक नहीं रही है।

प्रभात की बहन ने कहा कि उसके पिता कभी विकास के पास नहीं उठते-बैठते थे। बहन बोली, मेरे परिवार का कोई आपराधिक इतिहास नहीं है। भाई को तो पहले ही बिना गलती मार दिया। वह तो नाबालिग था। हरियाणा और यूपी पुलिस की टीमों ने प्रभात मिश्रा उर्फ कार्तिकेय को 7 जुलाई की रात फरीदाबाद में पकड़ा था।

फरीदाबाद की अदालत से 8 जुलाई को उसे ट्रांजिट रिमांड पर लिया गया। पुलिस का दावा है कि 9 जुलाई की सुबह कानपुर लाते वक्त कानपुर नगर के भौंती एरिया में हाईवे पर अचानक सरकारी गाड़ी पंक्चर हो गई थी। इसके बाद प्रभात ने एसटीएफ के सिपाही की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की। उसने फायरिंग भी की। जवाबी कार्यवाई में वो ढेर हो गया।

#prabhatmishra #minor #vikasdubey #encounter

Continue Reading

Trending