Connect with us

नेशनल

नेताजी के परिवार ने उठाई मांग, नेहरू से वापस लिया जाए भारत रत्न

Published

on

netaji-vs-neharu

कोलकाता। महान स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस के एक वंशज ने सोमवार को कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा कथित तौर पर नेताजी के परिवार के सदस्यों की जासूसी के खुलासे के मद्देनजर पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू से भारत रत्न वापस ले लेना चाहिए। परिवार के एक सदस्य चंद्र कुमार बोस ने कहा कि इस खुलासे के बाद नेहरू का चरित्र लोगों के सामने आ गया है।

नेताजी के परपोते चंद्र कुमार ने कहा कि भारत रत्न एक नागरिक सम्मान है और नेहरू का जिस तरह का चरित्र सामने आया है, उससे वह इस सम्मान के लायक नहीं हैं। देश के लोगों की यह मांग है कि उनसे भारत रत्न वापस लिया जाना चाहिए। लेखक व शोधकर्ता अनुज धर के मुताबिक, बोस के दो भतीजों -शिशिर कुमार बोस तथा अमिय नाथ बोस- सहित कई निकट संबंधियों की 1948-68 के दौरान 20 वर्षों तक कथित तौर पर जासूसी की गई। इन 20 सालों में 16 साल तक नेहरू देश के प्रधानमंत्री थे।

नेताजी से संबंधित 150 से अधिक गोपनीय दस्तावेजों को सार्वजनिक करने की मांग के बीच नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता में एक अंतर-मंत्रालयी समिति गठित कर रही है, जो इन फाइलों के संदर्भ में शासकीय गुप्तता अधिनियम की समीक्षा करेगी।

नेशनल

जेपी नड्डा को बधाई देते हुए अमित शाह ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को सोमवार को नया अध्यक्ष मिल गया। जगत प्रकाश नड्डा निर्विरोध पार्टी के अध्यक्ष चुन लिए गए।

इसके साथ ही दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में स्वागत समारोह चल रहा है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। इस दौरान इशारों में उन्होंने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा।

अपने संबोधन में अमित शाह ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी परिवारवाद से नहीं चलती है। अमित शाह ने कहा कि आज हम सबके लिए हर्ष, आनंद और गौरव का विषय है कि बीजेपी ने एक बार फिर अपनी परंपरा का नेतृत्व करते हुए एक सामान्य कार्यकर्ता के रूप में अपने करियर की शुरुआत करने वाले जेपी नड्डा को हमारा राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्विरोध चुना।

उन्होंने कहा कि बीजेपी देश की सभी पार्टियों से इसलिए अलग पार्टी दिखाई पड़ती है, क्योंकि ये पार्टी न तो जात-पात के आधार पर चलती है और न ही वंशवाद के आधार पर चलती है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending