Connect with us

मुख्य समाचार

‘मिस्टर एक्स’ ने कमाए 14 करोड़

Published

on

MR x

नई दिल्ली। विज्ञान के रहस्य रोमांच वाली इमरान हाशमी अभिनीत फिल्म ‘मिस्टर एक्स’ भले आलोचकों का ध्यान नहीं खींच सकी, पर बॉक्स ऑफिस पर शुरुआती सप्ताहांत में फिल्म ने 14 करोड़ रुपये की कमाई कर ली है। यह एक गायब होने की क्षमता वाले व्यक्ति की कहानी है।

विशेष फिल्म्स द्वारा निर्मित तथा विक्रम भट्ट निर्देशित इस फिल्म में इमरान ने गायब होने की क्षमता वाले व्यक्ति का किरदार निभाया है, जो अपने साथ हुए अन्याय का बदला लेता है। फिल्म में इमरान के अलावा अमायरा दस्तूर और अरुणोदय सिंह भी मुख्य किरदारों में हैं। निर्माता कंपनी के अनुसार, फिल्म ने शुक्रवार को रीलीज के साथ ही 4.5 करोड़ रुपये की कमाई की, जबकि शनिवार को फिल्म की कमाई 4.39 करोड़ रुपये रही। रविवार को फिल्म ने 5.1 करोड़ रुपये कमाए और पहले सप्ताहांत पर फिल्म की कुल कमाई 14 करोड़ रुपये पर पहुंच गई।

फिल्म निर्माण पर 40 करोड़ रुपये खर्च हुए थे, जिसमें विपणन एवं वितरण का खर्च भी शामिल है। विशेष फिल्म्स के अनुसार, फिल्म को सैटेलाइट एवं संगीत अधिकारों के लिए पहले ही 27 करोड़ रुपये मिल चुके हैं।

नेशनल

निर्भया के दोषियों को अब इस तारीख को होगी फांसी, कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट

Published

on

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों की फांसी की नई तारीख आ गई है। कोर्ट ने सभी दोषियों के लिए नया डेथ वारंट जारी कर दिया है।

सूत्रों के मुताबिक चारों को 1 फरवरी की सुबह 6 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा। चारों दरिंदों के पास अब केवल 350 घंटे ही शेष हैं। बता दें कि शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दोषी मुकेश की दया याचिका खारिज कर दी थी।

इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों को 22 जनवरी सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाने की तारीख तय की थी, लेकिन इसके बाद दोषी मुकेश सिंह ने राष्ट्रपति के सक्षम दया याचिका लगा दी थी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा निर्भया के दोषी मुकेश सिंह की दया याचिका खारिज होने के बाद कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी किया है।

वहीं, इस मामले में नया डेथ वारंट जारी होने के बाद निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि जब तक दोषियों को फांसी पर नहीं लटका दिया जाता है, तब तक मेरी बेटी को न्याय नहीं मिलेगा। मुझको पिछले सात साल से तारीख पर तारीख दी जा रही है। उन्होंने कहा कि हमारा सिस्टम ऐसा है कि जहां दोषी की सुनी जाती है। हर जगह निर्भया के गुनहगारों का ही मानवाधिकार देखा जा रहा है। हमारा मानवाधिकार कोई नहीं देख रहा है।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending