Connect with us

प्रादेशिक

दयाल रेज़ीडेंसी कालोनी के नागरिकों ने की अहम बैठक, उठाए गए विकास के मुद्दे

Published

on

लखनऊ। फैज़ाबाद रोड चिनहट स्थित दयाल रेज़ीडेंसी कालोनी के सभ्रांत नागरिकों की आज महत्वपूर्ण बैठक श्री पीसी गुप्ता जी की अध्यक्षता में सम्पन हुई। बैठक का संचालन श्री एस. के.पांडेय ने किया। यह कालोनी 1500 मकानों के लगभग 12 हज़ार नागरिकों की बड़ी कालोनी है। मूलभूत विकास की समस्याओं से जूझ रही है।

बैठक में श्रीमती सुषमा सिंह ने कालोनी के विकास के कई मुद्दे उठाए। कालोनी के पुराने निवासी श्री हरीश सुरतानी, श्री राजेश सोनी, श्रीमती मंजुला गुप्ता, श्री रणविजय सिंह, अलका रानी, शीला श्रीवास्तव, एवम आशा श्रीवास्तव ने कालोनी में जगह जगह होने वाले जलभराव, खम्भों की लाइट, सड़क, नाली और जल निकासी और सुरक्षा का मुद्दा जोरदार तरीके से उठाए। श्री राजेश सोनी ने समस्याओं के हल के लिए कई सुझाव दिए। श्री सोनी जी ने कहा एकता में ही बल होता है। कालोनी में आये दिन होने वाली चोरी, और चेन स्नेचिंग की समस्या से लोग त्रस्त हो गए हैं। श्री आर.एस सिंह, श्री एपी सिंह, आर एन गुप्ता, सनातनी श्रीवास्तव, मधु श्रीवास्तव जी ने कालोनी की दिक्कतों पर विचार रखे। बैठक में उपस्थित श्री वेद प्रकाश यादव, श्री आर.एस वर्मा ने कालोनी के विकास में सहयोग करने के मुद्दे पर अपने विचार रखे।

बैठक में सर्व सम्मति से तय किया गया है कि दयाल रेसीडेंसी कल्याण समिति का गठन किया जाएगा। कालोनी के सभी सभ्रांत नागरिकों से जन सहयोग लेकर हर स्तर पर विकास का मुद्दा जोरदार तरीके से उठाया जाएगा। कालोनी के विकास की रणनीति बनाई जाएगी। बैठक में उपस्थित सभी सदस्यों ने तन, मन धन से सहयोग करने का आश्वाशन दिया। अगली बैठक दिनांक 4 अक्टूबर 2020 दिन रविवार को होने का निर्णय लिया गया। अगली बैठक में दयाल रेसीडेंसी कल्याण समिति के अध्यक्ष और महामंत्री का चुनाव किया जाएगा । बैठक के अंत मे श्रीमती सुषमा सिंह एवं अलका रानी सिंह जी सभी सदस्यों को धन्यवाद दिया।

प्रादेशिक

मुंगेर गोलीकांड पर भड़के तेजस्वी, नीतीश से पूछा- पुलिस को जनरल डायर बनने को किसने कहा

Published

on

नई दिल्ली। बिहार के मुंगेर में मूर्ति विसर्जन करने जा रहे लोगों पर फायरिंग का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। पुलिस की फायरिंग में एक शख्स की मौत हो गई थी। इस मामले पर राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर हमला बोला है। तेजस्वी ने कहा कि मुख्यमंत्री जो राज्य के गृह मंत्री भी हैं वो क्या कर रहे थे। उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने इस मामले में ट्वीट के अलावा क्या किया। आखिर किसने पुलिस को जनरल डायर बनने की अनुमति दी।

तेजस्वी ने कहा कि ‘वीडियो में आपने देखा होगा कि लोगों को ढूंढकर और बिठाकार पीटा जा रहा है। हमारी संवेदना उस परिवार के साथ है, जिन्होंने अपना चिराग खोया है लेकिन सवाल यह है कि इस घटना में पूरी तरीके से बिहार की डबल इंजन की सरकार की भूमिक रही है और जनरल डायर बनने की अनुमति किसने दी?’

तेजस्वी ने इस घटना की हाईकोर्ट की निगरानी में उच्चस्तरीय जांच कराने और दोषियों को सख्त से सख्त सजा देने की मांग भी उठाई। तेजस्वी ने कहा कि ‘खासतौर पर वहां के जो डीएम और एसपी हैं, उनको तुरंत वहां से हटाना चाहिए। आपको पता होगा कि वहां पुलिस महकमे में, जिसकी वहां जिम्मेदारी हैं, वो जेडीयू नेता की बेटी हैं। मैं नाम नहीं लेना चाहता हूं। लेकिन ये जनरल डायर बनने का आदेश कहीं न कहीं से जरूर गया है।

Continue Reading

Trending