Connect with us

ऑफ़बीट

आकाश में कोरोना घना है : कहानी संग्रह जिसका आपको बेसब्री से इंतज़ार था

Published

on

पुस्तक के संपादक - गौरव अवस्थी जी

पुस्तक : आकाश में कोरोना घना है

संपादन : गौरव अवस्थी

प्रकाशकः लिटिल बर्ड पब्लिकेशन (नई दिल्ली)

समीक्षा : देवांशु मणि तिवारी

मूल्य : 150/-

वरिष्ठ साहित्यकार (कवि) दुष्यंत कुमार किसी तआ’रुफ़ के मोहताज नहीं है। लेकिन उनका नाम लेना जरूरी है क्योंकि इस बेहतरीन संग्रह का आधार उन्हीं की पंक्तियों से प्रेरित है।

‘ आकाश में कोरोना घना है ‘ कहानी संग्रह से गुज़रते हुए आप ऐसी कई कहानियों से रूबरू होंगे, जिन्हें पढ़ने के बाद ऐसा लगेगा कि … अरे… ये तो मेरे खुद के जीवन की कहानी है। कुछ खट्टी-मीठी कहानियां , कुछ भावुक कर देने वाले किस्से … इन सभी प्रकार के रंगों को समेटे हुए ये कहानी संग्रह आपको इस घड़ी के बारे में सोचने पर मजबूर कर देगा।

कोरोना महामारी ने लोगों को पल पल मुसीबतों में कैसे डाला, किसी का अपना हमेशा हमेशा के लिए दूर चला गया, तो किसी के मजबूत इरादों ने 1200 किमी की दूरी साईकिल पर ही तह कर ली। ऐसी ही तमाम कहानियां (कुछ सोचने पर मजबूर कर देने वाली, तो कुछ हृदय-विदारक) संग्रह का हर एक पन्ना आपको रात में सोने नहीं देगा।

संग्रह की दूसरी कहानी की एक पंक्ति कहती है-

ई तालाबंदी में तो हम लोग
ताले में बंद हो गए हैं पापा ?

जब आप के नज़दीक रहने वाले लोग एकाएक घर छोड़ के जाने लगे और घर पहुंचने का कोई भी रास्ता ना दिख रहा हो, जब आप अकेले पड़ गए हों, न कोई हमदर्द, न कोई मददगार तब कैसे बेचैनी में भरे हुए कंठ से शब्द अपने आप बाहर आने लगते हैं। ऐसे ही कई अनुभवों से आप इस संग्रह में परिचित होंगे।

संग्रह की दसवीं कहानी की एक पंक्ति कहती है-

लॉकडाउन में कविता की इनकमिंग तो थी,
किन्तु आउटगोइंग नहीं हो पा रही थी।

लॉकडाउन केवल मजदूर, दफ्तर जाने वाले लोगों और होटल – ढाबा चलाने वाले लोगों के लिए ही परेशानी नहीं बना… कोरोना ने हम सभी को कवियों की उन बेहतरीन रचनाओं से दूर कर दिया जो हम अक्सर कवि सम्मेलनों और मुशायरों में आत्मसात कर लेते थे।

संग्रह की 14वीं कहानी की एक पंक्ति कहती है-

मैडम हमें करुणा नहीं है…
मैंने फिर पूछा – क्या नहीं है तुम्हें ?

महामारी के दौर में हम सभी टीवी देखकर और अपने इर्द-गिर्द हो रही बातों को इस कदर अपने भीतर बसा लेते हैं कि हम समाज में रहने वाले एक खास वर्ग से दूरी बनाने लगते हैं। …. (अरे… उसने टोपी पहनी है… दाढ़ी भी बड़ी है… उसके पास मत जाना नहीं तो बीमारी पकड़ लेगी) ऐसी ऐसी बे सिर – पैर की बातें हमारे दिमाग में अवैध कब्ज़ा कर लेती हैं।

 

इन कहानियों को गहराई से पढ़ने पर उनकी समूची भाव यात्रा में खो जाने का मन करेगा। सभी कहानियों से गुजरते हुए पाठकों को इस कोरोना काल में जीवन की सच्ची आवाज भी सुनाई पड़ेगी और वे इस आवाज को इन कहानियों के माध्यम से समझ सकेंगे ।

‘ आकाश में कोरोना घना है ‘ … संग्रह में आप आपदा में डगमगाते , संभलते और फिर राह की ओर बढ़ते मजबूत इरादों से मिलेंगे, तो वहीं कुछ किस्से आपकी आंखों और गले को भर देंगे। इससे भी कहीं अधिक यह संग्रह हमें एक ऐसे जीवन काल में ले जाता है जिसमें संकट,संघर्ष और संतुष्टि एक साथ खड़े हुए दिखाई देते हैं।

 

आध्यात्म

ये हैं भारत के अजीबोगरीब मंदिर, सभी एक से बढ़कर एक

Published

on

By

आज जिन मंदिरों के बारे में हम आपको बताने जा रहा है, उनके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे। यहां लोगों ने इंसान से लेकर कुत्ते तक को अपना भगवान मना लिया और उनकी पूजा करनी शुरू कर दी। आइए जानते है उन अजीबोगरीब मंदिर के बारे में –

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

हवाई जहाज गुरुद्वारा, पंजाब – पंजाब के इस गुरुद्वारे में लोग हवाई जहाज दान करते हैं। लोग विदेश जाने से पहले प्रार्थना मांगने आते हैं ताकि उनका वीजा अप्रूव हो जाए।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

सचिन तेंदुलकर का मंदिर, बिहार –  नेता मनोज तिवारी ने अपनी जमीन पर सचिन तेंदुलकर का मंदिर बनवाया था। लोग सचिन को क्रिकेट का भगवान मानते है। इस बात को मनोज तिवारी ने गंभीरता से ली है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

मोटरसाइकिल का मंदिर, जोधपुर हाईवे – जोधपुर हाईवे पर बाइक सवार की मौत हो गई। पुलिस उसकी बाइक को थाने ले आई। लेकिन बाइक गायब हो गई। बाइक पुलिस को घटनास्थल पर मिली। तब गांव के लोगों ने उस एक्सीडेंट में मारे गए व्यक्ति की याद में एक मंदिर बनवाया। इस मंदिर में बाइक की पूजा की जाती है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

अमिताभ बच्चन का मंदिर, कोलकाता –  साल 2012 में संजय पाटोदिया नाम के एक फैन ने ये मंदिर बनवाया था। दरअसल, वो खुद को फैन नही बल्कि अमिताभ का भक्त मानता है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

सोनिया गांधी का मंदिर, तेलंगाना –  साल 2014 में तेलंगाना राज्य की स्थापना के वक्त कांग्रेस के एक कार्यकर्ता ने सोनिया गांधी जी की मूर्ति स्थापित करके एक मंदिर बनवाया था।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

रावण का मंदिर, मध्य प्रदेश – मध्य प्रदेश के एक गांव में रावण की पूजा की जाती है। यहां लोग रावण को भगवान की तरह मानते हैं और दशहरा भी नहीं मनाते।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

कुत्तो का मंदिर, कर्नाटक –  तेलंगाना में रहने वाले एक दंपति ने कुत्तों का एक मंदिर बनवाया है और यहां रोज पूजा भी की जाती है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

ब्रह्मा बाबा टेंपल, जौनपुर – ब्रह्मा बाबा का मंदिर बड़ा ही अनोखा है लोग ब्रह्मा बाबा को खुश करने के लिए मंदिर में घड़ी दान करते हैं।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

गाटा लूप मंदिर, मनाली हाईवे – मनाली हाईवे पर एक ट्रक खराब हो गया। ट्रक के ड्राइवर का साथी प्यास से मर चुका था। इस घटना के बाद एक आत्मा लोगों से पानी मांगती थी। फिर वहां के लोगों ने प्यास से मारे गए उस व्यक्ति की याद में एक मंदिर बनवाया। यहां लोग पानी की बोतल दान करते हैं।

Continue Reading

Trending