Connect with us

नेशनल

सुब्रमण्यम स्वामी बोले- सुशांत की हुई थी हत्या, बताई 26 वजह

Published

on

नई दिल्ली। भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत को मर्डर बताकर सनसनी मचा दी है।इसके पीछे उन्होंने 26 वजहें भी बताई हैं। स्वामी ने इस वजहों की लिस्ट बना कर उन्हें अपने ट्विटर हैंडल से शेयर भी किया है। इतना ही नहीं सुब्रमण्यम स्वामी ने इस मामले में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी बातचीत की है।

सोशल मीडिया पर स्वामी ने इससे जुड़ी सभी वजहें भी शेयर की हैं। स्वामी ने सुशांत के फांसी वाले फंदे को लेकर शक जाहिर किया है। इसके अलावा सुशांत के कमरे में मिली एंटी-डिप्रेशन की दवाओं को लेकर शंका जताई है कि शायद किसी ने उसे वहां प्लांट किया हो।

इतना ही नहीं, स्वामी ने सुशांत की गर्दन पर पड़े फंदे के निशान नहीं बल्कि उन्हें किसी बेल्ट के निशान लग रहे हैं। सुशांत सुसाइड से पहले वीडियो गेम खेल रहे थे, इस पर स्वामी ने कहा है कि कोई भी सुसाइड करने से पहले वीडियो गेम क्यों खेलेगा। इसके अलावा कमरे में कोई सुसाइड नोट का न मिलना भी शंका की वजह है और इसलिए स्वामी इसे मर्डर बता रहे हैं।

#subramanyamswami #sushantsinghrajpoot #murder

नेशनल

हैदराबाद : एक बार फिर से चुनाव प्रचार करने जा रहे हैं योगी आदित्यनाथ

Published

on

By

28 नवंबर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के 150 वार्डों के लिए होने वाले चुनावों में प्रचार करेंगे। हालांकि निगम चुनाव आमतौर पर एक स्थानीय मामला होता है लेकिन भाजपा अपने स्टार प्रचारकों को मैदान में उतार रही है, जिसमें केंद्रीय मंत्री अमित शाह, स्मृति ईरानी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शामिल हैं।

26/11 मुंबई हमलाः आतंकियों की जानकारी देने वाले को अमेरिका ने किया 35 करोड़ देने का ऐलान!

योगी आदित्यनाथ हाल के दिनों में पार्टी के सबसे बड़े भीड़ खींचने वाले नेताओं में से एक के रूप में उभरे हैं, जिसका सबसे अच्छा उदाहरण हाल में संपन्न हुए बिहार विधानसभा का चुनाव है।मुख्यमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी ने पुष्टि की कि मुख्यमंत्री 28 नवंबर को हैदराबाद में एक रोड शो करेंगे। वहां वो एक दिन का प्रचार करेंगे।

पहली दिसंबर को होने वाले ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम का चुनाव भाजपा के लिए एक प्रतिष्ठा का सवाल है और ये इस बात से पता चलता है कि यहां भाजपा के कई स्टार प्रचारक मैदान में उतर रहे हैं जो कि अकसर स्थानीय चुनाव में देख्रने को नहीं मिलता है।

Continue Reading

Trending