Connect with us

प्रादेशिक

लखनऊ में चीनी सामान जलाकर किया गया ड्रैगन का विरोध

Published

on

लखनऊ। कोरोना वायरस महामारी और फिर चीन के साथ सीमा विवाद के बाद देश भर में चीनी सामानों का बहिष्कार करने की मांग पहले ही जोर-शोर से उठ रही थी। सीमा पर हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हुए थे। जिससे लोगो का गुस्सा सातवे आसमान पर है और पूरे देश में लोगो द्वारा चीनी सामान का पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाने की मांग उठ रही है।

इसी अभियान में करणी सेना व यूपी हैंडो मार्शल आर्ट्स एसोसिएशन के द्वारा आज दिनांक 05 जून को शाम 6 बजे लखनऊ के चिनहट चौराहे पर चीनी समान का विरोध प्रदर्शन किया गया। लोगो ने चीनी सामानों को जलाकर और उसके बहिष्कार के नारे लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया। साथ ही कानपुर में हुए शहीद पुलिस के जवानों को कैंडल जलाकर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की।

वहां मौजूद उत्तर प्रदेश हैंडो मार्शल आर्ट्स एसोसिएशन की उपाध्यक्ष डा. ज्योत्सना सिंह ने लद्दाख में चीनी सैनिकों द्वारा भारतीय सैनिकों पर किए गए हमले की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि चीन को जब भी अवसर मिलता है, भारत की सम्प्रभुता को चुनौती देता है। चीन का यह रवैया देश के हितों के विरुद्ध है। इस बात को देशवासियों के ध्यान में लाते हुए लोगो से अपील की कि चीनी सामान का बहिष्कार करे और ज्यादा से ज्यादा देश में निर्मित सामानों को खरीद कर राष्ट्रहित में योगदान दें। शायद हमारे शहीदों के लिए यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

करणी सेना के अवध क्षेत्र के अध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने कहा इस विषम परिस्थितियों में सभी को देश के साथ खड़े रहने की जरूरत है। सेना अपना काम कर रही है और हम देशवासियों को चीनी समान का बहिष्कार कर दुश्मन देश को आर्थिक रूप से कमजोर करके अपना फर्ज निभाने की जरूरत है। संस्था के अध्यक्ष अभिनव सिंह ने लोगो से ज्यादा से ज्यादा देश में निर्मित सामानों को खरीदने की विनती की। विरोध प्रदर्शन में अवनीश कुमार सिंह, जगदीश कमल, फौजदार सिंह कामता राकेश गौतम अजय विनोद जूली शिखा रमेश रामवीर शिराज अहमद राजेन्द्र गौतम आदि लोग शामिल हुए।

प्रादेशिक

बुलंदशहर में मनचलों की छेड़खानी के दौरान होनहार छात्रा की सड़क हादसे में मौत

Published

on

बुलंदशहर। छुट्टियों में अमेरिका से वापस आई बुलंदशहर की छात्रा मनचलों के कहर का शिकार हो गई। मनचलों की छेड़छाड़ से बचने के लिए छात्रा का अपनी बाइक से कट्रोल हट गया जिससे वह तेज़ी से जमीन पर गिर पड़ी। इस हादसे में उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने छात्रा के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। अज्ञात बाइकर्स के खिलाफ मामला दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर ली गई है।

पीड़िता सुदीक्षा भाटी छुट्टियों में भारत आई हुई थी और 20 अगस्त को उसे अमेरिका वापस जाना था। जिस वक्त यह हादसा हुआ उस वक्त 19 वर्षीय यह छात्रा अपने दुपहिया वाहन पर सवार होकर बुलंदशहर जाने के अपने रास्ते पर थी। उसके परिवार के सदस्यों ने दावा किया है कि सोमवार की शाम को वह दादरी से अपने अंकल के साथ स्कूटी पर निकली थी और तभी मोटरसाइकिल पर सवार दो लोगों ने उनका पीछा करना शुरू किया।

लड़की के चाचा सत्येंद्र भाटी ने कहा, ये आदमी सुदीक्षा पर तंज कस रहे थे और साथ ही अपने मोटरसाइकिल पर तमाम तरह के स्टंट्स कर सुदीक्षा की स्कूटी को ओवरटेक कर उसे रिझाने की भी कोशिश कर रहे थे। एकाएक उनकी बुलेट ने सुदीक्षा की स्कूटी को टक्कर मार दी जिससे उसने अपना संतुलन खो दिया और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। पुलिस अधीक्षक (सिटी) अतुल श्रीवास्तव ने कहा कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और जांच जारी है।

#bulandshahr #death #student #uttarpradesh

Continue Reading

Trending