Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

यूरोपियन यूनियन ने पाकिस्तान एयरलाइंस पर लगाया 6 महीने का बैन

Published

on

नई दिल्ली। अब पाकिस्तान की कोई भी फ्लाइट यूरोप नहीं जा सकेगी। यूरोपियन यूनियन ने पाकिस्तान की सरकारी एयरलाइन कंपनी को 6 माह के लिए बैन कर दिया है। हालांकि यूरोपियन यूनियन के इन फैसले के खिलाफ पीआईए अपील कर सकती है।एयरलाइंस ने कहा कि ईएएसए की चिंताओं को दूर करने की कोशिश की जा रही है। फैसले के खिलाफ अपील करने जैसे कदम भी उठाए जा सकते हैं।

पाकिस्तानी पायलटों के लाइसेंस फर्जी होने की खबरों के आधार पर यूरोपियन यूनियन एयर सेफ्टी एजेंसी ने ये फैसला लिया है।ईयू ने यह पाबंदी पाकिस्तान के उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान के उस बयान के बाद लगाई है, जिसमें उन्होंने कहा था कि एक तिहाई पीआइए पायलटों के पास फर्जी लाइसेंस हैं। उन्होंने यह भी कहा कि पायलटों की लापरवाही के चलते हाल की कम से कम तीन हवाई दुर्घटनाएं हुई हैं, जिनमें 22 मई को हुआ हादसा भी शामिल है।

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन (पीआईए) ने पिछले हफ्ते ‘संदिग्ध लाइसेंस’ वाले 150 पायलटों को काम पर आने से मना कर दिया था। पाकिस्तान के विमानन मंत्री गुलाम सरवर खान ने भी संसद में 40 फीसदी पायलटों के लाइसेंस फर्जी होने की बात कही है। विमानन मंत्री ने कहा कि प्राइवेट एयरलाइन कंपनियों को हिदायत दी गई है कि वो फर्जी लाइसेंस वाले पायलटों को प्लेन उड़ाने की परमीशन न दें।

अन्तर्राष्ट्रीय

1 जनवरी से लोगों को मिलने लगेगी रूस में बनी कोरोना की वैक्सीन

Published

on

नई दिल्ली। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को एलान किया कि उन्होंने कोरोना की वैक्सीन बना ली है। साथ ही उनकी बेटी को इसका टीका भी लग गया है। इसके बाद से लोगों के मन में एक ही सवाल था कि आम लोगों की पहुंच में ये दवा कब तक होगी।

बताया जा रहा है कि रूस में बनकर तैयार हुई कोविड-19 की वैक्सीन 1 जनवरी, 2021 से सिविलियन सकुर्लेशन में जाएगी यानि कि इसी दिन से इसकी पहुंच आम लोगों तक कराई जाएगी। रूसी स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने कहा कि यहां के माइक्रोबायोलॉजी रिसर्च सेंटर गेमालेया और रूसी रक्षा मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से विकसित कोविड-19 की वैक्सीन सबसे पहले चिकित्साकर्मियों और शिक्षकों को दी जाएगी।

उन्होंने कहा, “हम आम लोगों में चरणबद्ध तरीके से इसका उपयोग करना शुरू करेंगे। इसमें सबसे पहले उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी जो काम के सिलसिले में संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते हैं और ये चिकित्सा कर्मी हैं और यह उन्हें भी पहले मुहैया कराई जाएगी जो बच्चों की सेहत के लिए जिम्मेदार हैं यानि कि शिक्षक।”

रूसी स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वैक्सीन के उत्पादन के लिए गेमालेया रिसर्च सेंटर इंस्टीट्यूट और फार्मास्युटिकल कंपनी बिन्नोफार्म जेएससी इन्हीं दो जगहों का उपयोग किया जाएगा।

#corona #coronavaccine #russia

Continue Reading

Trending