Connect with us

खेल-कूद

लॉकडाउन में सचिन भी हो गए बेरोजगार, परिवार संग गए गांव

Published

on

मुंबई। कोरोना के चलते जब देशभर में लॉक डाउन हुआ तो कई लोगों की नौकरी चली गई। कई बड़े लोगों की तो आर्थिक स्थिति ऐसी हो गई कि उन्हें अपने घर का सामान तक बेचना पड़ गया। कुछ यही हाल सचिन के हमशक्ल बलबीर चंद का भी हुआ है जिनकी कोरोना के चलते हुए लॉक डाउन में नौकरी चली गई। मजबूरन उन्हें मुंबई से अपने परिवार समेत अपने गांव लौटना पड़ा।

हूबहू सचिन की तरह दिखनें वाले बलबीर चंद सचिन की नकल उतार कर उनकी तरह दिख कर सचिन के फैन्स के मनोरंजन तो कर ही रहे थे और सचिन की बदौलत अच्छे खासे पैसे भी कमाएं। लेकिन इन दिनों बलवीर चंद काफी परेशान है और उनकी परेशानी की वजह बन चुका है ये कोरोना।

कोरोना के चलते पहले इनकी नौकरी गयी। उसके बाद मुम्बई के विक्रोली इलाके में किराए पर परिवार के साथ रहने वाले बलवीर को अपना बोरिया बिस्तर बांधकर ट्रेन से अपने गांव जाना पड़ा। बलवीर इन दिनों पंजाब के शहलोंन गांव में अपने परिवार के साथ रहने को मजबूर है। बलवीर जब परिवार के साथ मुम्बई से पंजाब गए तो इन्हें व इनके 2 बच्चे व पत्नी को कोरोना हो गया। यह वो दौर था कि आय का न होना और बीवी व 2 बच्चों का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आना। इस हादसे ने इन्हें अंदर से झकझोर दिया, लेकीन इन्होंने हार नहीं मानी। खुद तो लड़े ही परिवार का भी मनोबल बढ़ाते रहे। हालांकि अब ये और इनका परिवार ठीक हो कर घर आ चुके हैं।

खेल-कूद

VIDEO : आप भी हैं PUBG प्रेमी, तो देख लें ये Video! अब PUBG को कहना पड़ेगा Bye Bye!

Published

on

By

चीनी सामानों पर प्रतिबंध लगाने की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। 59 चीनी मोबाइल एप्स पर प्रतिबंध लगने के बाद अब बच्चों से जुड़े चीनी गेमों को भी बन्द करने की मांग उठने लगी है। मंगलवार को सूचना प्रद्योगिकी से जुड़ी संसदीय स्थायी समिति की बैठक में मौजूद सदस्यों ने बच्चों के बीच लोकप्रिय लेकिन विवादित चीनी गेम पबजी पर प्रतिबंध लगाने की मांग की। बैठक का एजेंडा डाटा प्राइवेसी और डाटा सुरक्षा था।

इसके अलावा कुछ सदस्यों ने 59 चीनी मोबाइल एप्स पर प्रतिबंध के बावजूद देश में इस्तेमाल हो रहे चीनी ऐप पर चिंता जताई। इसमें सबसे प्रमुख तौर पर कैम स्कैनर का ज़िक्र किया गया। कैम स्कैनर मोबाइल पर कागजातों और तस्वीरों को स्कैन करने के काम आता है और 59 प्रतिबंधित मोबाइल एप्स में भी शामिल है।

सदस्यों ने विशेष तौर पर इस बात पर चिंता जताई कि इस ऐप का इस्तेमाल देश का पुलिस प्रशासन भी कर रहा है। सदस्यों की चिंता इस बात पर ज़्यादा थी कि कहीं इस एप के ज़रिए संवेदनशील जानकारी तो नहीं चुराई जा रही।

#BanPUBG #TikTokBanned #ChineseApps #BanChineseApps #BoycottChina #IndiaChinaBorder

Continue Reading

Trending