Connect with us

प्रादेशिक

टिकटॉक बनाने के चक्कर में गंगा में डूबे 5 दोस्त, मौत

Published

on

लखनऊ। वाराणसी में टिकटॉक बनाने के चक्कर में शुक्रवार को पांच युवक गंगा में डूब गए। घटना कोदोपुर क्षेत्र के सिपहिया घाट की है। घटना की जानकारी मिलते ही 11 एनडीआरएफ और पुलिस टीम युवकों की खोज में जुट गई और सभी को नदी से निकालकर अस्पताल पहुंचाया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

मृतकों की पहचान रामनगर थाना के वारीगढ़ही के तौसीफ (17), फरदीन (14), शैफ (15), रिजवान (15) और सकी (14) के रुप में हुई है। सभी अपने दो अन्य दोस्तों के साथ घर से लगभग एक किलोमीटर दूर सिपहिया घाट पर गंगा किनारे आए थे।

बताया जाता है कि पांचों ने पहले रेत पर टिकटाक वीडियो बनाया और इसके बाद गंगा में उतर गए। इस दौरान एक किशोर का पैर फिसला और वह गहराई में डूबने लगा तो चार अन्य उसे बचाने दौड़े।

एक-एक कर पांचों गंगा में डूब गए। मौके पर मौजूद एक किशोर भागकर घर गया तो परिजन आए और पुलिस को सूचना दी गई। पांचों को गंगा से निकालकर अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घटना से रामनगर कस्बे के वारीगढ़ही, कोदोपुर और सीवान में कोहराम मचा हुआ है।

 

प्रादेशिक

शादी के 9 दिन बाद ही मारा गया अमर दुबे, विकास दुबे का था दाहिना हाथ

Published

on

कानपुर। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर में एसटीएफ के हाथों ढेर हुए विकास दुबे के दाहिने हाथ अमर दुबे की शादी 29 जून को ही हुई थी। बताया गया है कि अमर दुबे की शादी तय हो गई लेकिन उसके आपराधिक इतिहास का पता चलने के बाद लड़की वालों ने इनकार कर दिया था। इसपर विकास दुबे बीच में आ गए थे और लड़की वालों पर शादी का दबाव डाला था। इसके बाद विकास ने लड़की वालों को बिकरू गांव में घर पर ही बुलाकर 29 जून को अमर की शादी कराई थी।

एसटीएफ ने मुठभेड़ में अमर दुबे को किया ढेर

कानपुर गोलीकांड में शामिल विकास दुबे के दाहिने हाथ अमर दुबे को पुलिस ने मुठभेड़ में ढेर कर दिया है। अमर दुबे पर 25 हजार रु का इनाम था। वारदात के पांच दिन के अंदर ही पुलिस ने उसे ढेर करने में सफलता पाई है। अमर दुबे की लाेकेशन मौदहा के आसपास मिली थी। हमीरपुर पुलिस व एसटीएफ की चेकिंग के दौरान अमर दुबे ने पुलिस पर फायरिंग की। जवाबी कार्यवाई में वो ढेर हो गया। अमर दुबे के पास से ऑटोमैटिक गन व कई हथियार मिले है। कहा जा रहा है कि इसके बाद विकास दुबे कमजोर पड़ गया है और वह किसी भी समय हरियाणा या दिल्ली की कोर्ट में सरेंडर कर सकता है।

पुलिस को अमर के उस इलाके में छिपे होने का संदेह पहले से था क्योंकि उसकी कार औरैया के पास लावारिस मिली थी। पुलिस को अनुमान था कि विकास, अमर के साथ औरैया के चंबल के रास्ते मध्य प्रदेश भागा होगा या बीच में ही कहीं छिपा होगा। पुलिस उस इलाके में सख्त चौकसी कर रही थी। अमर के बुंदेलखंड में होने की सूचना पुलिस को लगी। जिस पर पुलिस ने वहां अमर की घेराबंदी कर ली। इसके बाद यूपी पुलिस व एसटीएफ की संयुक्त कार्यवाई में वो ढेर हो गया।

#vikasdubey #amardubey #marriage #uppolice

Continue Reading

Trending