Connect with us

प्रादेशिक

बिहार में कोरोना के लगातार बढ़ रहे मामले, मधुबनी के डीएम पाए गए संक्रमित

Published

on

पटना। बिहार में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता चला जा रहा है। राज्य में अब तक 3 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। राज्य के मधुबनी जिले में भी कोरोना के कई मामले सामने आए हैं।

अब जिले के डीएम भी इस खतरनाक वायरस की चपेट में आ गए हैं। डीएम की रिपोर्ट पॉजीटिव आने के बाद अब जिला समाहरणालय समेत अनुमंडल के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों का कोरोना टेस्ट किया जाएगा।

जिला आपदा प्रबंधन शाखा की ओर से जारी लेटर में कहा गया है कि मधुबनी जिले में विगत दिनों से कोरोना संक्रमण में काफी बढ़ोतरी हुई है। इसके लिए समाहरणालय मधुबनी एवं अनुमंडल कार्यालय, सदर मधुबनी में कार्यरत सभी पदाधिकारी और कर्मचारी की भी कोरोना जांच की आवश्यकता महसूस की जा रही है।

बता दें कि बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। बीते 24 घंटे में राज्य में 140 नए मामले सामने आए हैं जिससे यहां कुल कोरोना से पीड़ित लोगों की संख्या 3010 हो गई है।

बिहार में इन दिनों हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर रोजाना आ रहे हैं और प्रखंडों में स्थित क्वारनटीन सेंटर में उन्हें रखा जा रहा है. इसकी पूरी मॉनिटरिंग डीएम कर रहे हैं।

 

प्रादेशिक

सीएम योगी बोले, कोरोना की रोकथाम के लिए लखनऊ, कानपुर व मेरठ के लिए विशेष रणनीति बनाएं अधिकारी

Published

on

लखनऊ। यूपी में कोरोना के मामलों को देखते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक करते हुए अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने लखनऊ , कानपुर नगर और मेरठ में कोविड-19 के सम्बन्ध में विशेष रणनीति बनाकर कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि टेस्टिंग और सर्विलांस जितना सुदृढ़ होगा, कोरोना के प्रसार को रोकने में उतनी ही अधिक सफलता मिलेगी। योगी ने मुख्य सचिव को निर्देश दिए कि माइक्रो कन्टेनमेन्ट जोन, टेस्टिंग और सर्विलांस के सम्बन्ध में निरन्तर फीडबैक लेते हुए उचित कार्रवाई करें। कोविड की रोकथाम के लिए लखनऊ , कानपुर नगर व मेरठ के लिए विशेष रणनीति बनाई जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। पिछले एक सप्ताह में सक्रिय कोरोना के मामलों की संख्या में काफी कमी आई है, यह एक अच्छा संकेत है और ये दर्शाता है कि राज्य सरकार की कोविड-19 के प्रति अपनाई गई रणनीति कारगर रही है। कोविड-19 नियंत्रण सम्बन्धी कार्य सक्रियता के साथ निरन्तर जारी रखें जाएं। उन्होंने फोकस्ड टेस्टिंग किए जाने पर बल देते हुए कहा कि कोविड बेड्स की संख्या में बढ़ोतरी सुनिश्चित की जाए।

Continue Reading

Trending