Connect with us

नेशनल

राहुल गांधी के बयान पर रविशंकर प्रसाद का पलटवार, कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार और विपक्षी के बीच सियासी जंग लगातार जारी है। मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस मोदी सरकार पर कोरोना वायरस महामारी को लेकर सरकार की ओर से उठाए गए कदमों पर लगातार सवाल उठा रही है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी कोरोना संकट के बीच लॉकडाउन को लेकर लगातार मोदी सरकार घेर रहे हैं वहीं भाजपा नेताओं की तरफ से राहुल पर भी जमकर निशाना साधा जा रहा है।

बुधवार को भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जब से कोरोना की दुर्भाग्यपूर्ण परिस्थिति आई है, तब से राहुल गांधी देश के संकल्प को इस लड़ाई के मामले में कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं।

दुनिया के 15 ऐसे देश जहां कोरोना बड़ी बीमारी बन गया है उसकी आबादी है 142 करोड़। उसमें अमेरिका, इंग्लैंड, फ्रांस, जर्मनी, इटली, कनाडा व अन्य देश हैं। इन देशों में 26 मई तक करीब 3.43 लाख लोगों की मृत्यु कोरोना से हुई है।

भारत की आबादी है 137 करोड़ और हमारे देश में 4,345 लोगों की मृत्यु हुई है। 64 हजार से ज्यादा रिकवरी हुई है। वैसे मृत्यु कहीं भी वो वो दुर्भाग्यपूर्ण है। प्रधानमंत्री जी ने लॉकडाउन करके जो देश को एकजुट किया है, ये उसी का नतीजा है।

प्रधानमंत्री जी ने जब देश से आग्रह किया था कि कोरोना वॉरियर्स के लिए ताली बजाकर, घंटी बजाकर उनका हौसला बढ़ाएं, तो देश ने ऐसा किया। आज दुनिया इसे फॉलो कर रही है। राहुल गांधी ने कहा कि कोरोना वायरस हमारी अर्थव्यवस्था पर बड़ा प्रहार है। ताली बजाने से उन्हें कोई मदद नहीं मिलेगी। देश को एक बड़े आर्थिक पैकेज की जरूरत है। पूरा देश जब ताली बजा रहा था तो राहुल गांधी ने इसका खंडन किया।

राहुल गांधी ने पहले कहा था कि लॉकडाउन कोविड-19 का समाधान नहीं है। इसके उलट पंजाब और राजस्थान ने सबसे पहले लॉकडाउन लागू किया, महाराष्ट्र में 31 मई तक इसे बढ़ाया गया। तो क्या आपके सीएम ही आपकी बात नहीं सुनते?

राहुल गांधी ने देश का संकल्प कैसे कमजोर करने की कोशिश की इसके पांच खंड बताता हूं। पहला- नकारात्मकता फैलाना, दूसरा- संकट के समय राष्ट्र के खिलाफ काम करना, तीसरा- झूठा श्रेय लेना, चौथा- कहते कुछ और हैं करते कुछ और हैं और पांचवां- गलत तथ्य और झूठी खबरें फैलाना।

राहुल गांधी ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में मजदूरों के टिकट को लेकर भी झूठे आरोप लगाए कि इसका पैसा लिया जा रहा है। सरकार ने बार-बार बताया कि मजदूरों से किराया नहीं लिया जा रहा है, टिकट के किराए में रेल मंत्रालय 85 फीसदी और राज्य सरकारें 15 फीसदी वहन कर रही हैं।

राहुल गांधी आईसीएमआर पर भी आरोप लगाते हुए कहते हैं कि इसके द्वारा खरीदारी में गड़बड़ी हुई है। पहली बार आईसीएमआर को सफाई देनी पड़ी कि हमने ऐसी कोई खरीदारी नहीं की है। हमने न्यूनतम दामों में खरीदारी की। राहुल गांधी राजनीतिक विरोध में ऐसी संस्थाओं पर भी झूठे आरोप लगाने लगे हैं।

बता दें कि राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर सवाल उठाते हुए लॉकडाउन को विफल बताया था। राहुल ने कहा था कि पीएम मोदी को बताना चाहिए कि आगे कोरोना संकट से निपटने उनकी आगे की रणनीति क्या है साथ ही ये भी  है र जरूरतमंदों को मदद देने की उनकी रणनीति क्या है? उन्होंने यह भी कहा था कि गरीबों और मजदूरों को 7500 रूपये की मदद दी जाए और राज्य सरकारों को केंद्र की तरफ से पूरी मदद मिले।

 

 

नेशनल

होम क्वारनटीन हुए केंद्रीय मंत्री व सांसद प्रताप सारंगी, कोरोना पॉज़िटिव विधायक के साथ किए थे मंच साझा

Published

on

By

केंद्रीय मंत्री व सांसद प्रताप सारंगी क्वारनटीन में चले गए हैं। प्रताप सारंगी ने बालासोर से बीजेपी विधायक सुकांत कुमार नायक के साथ दो बार मंच पर आए थे। हाल में विधायक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, ऐसे में उन्होंने अपनेआप को क्वारनटीन कर लिया है।

केंद्रीय मंत्री प्रताप सारंगी ने खुद को दिल्ली आवास में अपने को क्वारनटीन कर लिया है। सोमवार रात को एक के बाद कई ट्वीट किए। उन्होंने कहा कि वह चुस्त और तंदुरुस्त हैं।

Dhoni के जन्मदिन पर देखिए उनकी कुछ शानदार पारियां, दूसरी पारी कर देगी खुश

केंद्रीय मंत्री प्रताप सारंगी ने कहा कि नीलगिरी विधायक के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद मैंने अपने आपको दिल्ली आवास पर होम क्वारनटीन कर लिया है। मैं स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की गाइडलाइन का पालन कर रहा हूं। नीलगिरी विधायक सुकांत कुमार नायक सोमवार को कोरोना पॉजिटिव मिले थे।

#pratapsarangi #Homequarantine #delhi #Nationalnews

Continue Reading

Trending