Connect with us

प्रादेशिक

रेप का आरोपी पहुंचा पीड़िता के घर, चाकू से किया परिवार पर हमला, मां की मौत

Published

on

जयपुर। राजस्थान के बूंदी जिले से एक दिलदहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां लाखेरी कस्बे में गुरुवार को दुष्कर्म का एक आरोपी जेल से छूटकर पीड़िता के घर जा पहुंचा और उसके परिवार पर चाकूओं से हमला कर दिया। इस हमले में पीड़िता की मां की मौत हो गई।

जानकारी के मुताबिक आरोपी मुकेश पीड़िता के घर गया और घर पर सो रही मृतक महिला व उसकी बेटी और बेटे की आंखों में मिर्च डाली, उसके बाद चाकू से हमला कर दिया। चाकू के वार पीड़िता की मां बर्दाश्त न कर सकी और मौके पर ही उनकी मौत हो गई।   वहीं, पीड़िता का भाई और नानी चाकू लगने से घायल हो गए।

चारों को तत्काल स्थानीय अस्पताल में ले जाया गया जहां पर पीड़िता की मां बेबी बाई को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। वहीं, तीनों घायल पीड़िता, उसकी नानी और भाई का उपचार जारी है।

इस घटना के बाद आरोपी ने खुद के हाथ की नसें भी काट लीं। उसे भी गिरफ्तार कर पुलिस द्वारा हॉस्पिटल में उसका इलाज करवाया जा रहा  है। आरोपी मुकेश पर मृतक महिला की बेटी द्वारा आईपीसी की धारा 376 व पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज करवाया गया था।

पिछले दिनों पुलिस ने पीड़िता से रेप के मामले में मुकेश को गिरफ्तार किया था। यह आरोपी जमानत पर जेल से छूटकर आया और उसने इस सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया।

प्रादेशिक

लव जिहाद पर सख्त सीएम योगी, ला सकते हैं धर्म-परिवर्तन को प्रतिबंधित करने का अध्यादेश

Published

on

लखनऊ। राज्य में लव जिहाद के मामलों की बढ़ती संख्या को देखते यूपी की योगी सरकार जल्द ही धर्म-परिवर्तन के खिलाफ अध्यादेश लाने की योजना बना रही है। दरअसल, मुस्लिम पुरुष हिंदू लड़कियों को फुसलाने के लिए अपनी धार्मिक पहचान छिपा रहे है। ऐसे मामले सबसे ज्यादा कानपुर और मेरठ से सामने आए हैं। सूत्रों के अनुसार, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने इस सप्ताह अपनी दो दिवसीय लखनऊ यात्रा के दौरान धर्म परिवर्तन का मुद्दा भी उठाया था। विभिन्न राज्यों में धर्म-परिवर्तन विरोधी कानून किसी भी व्यक्ति को प्रत्यक्ष या, किसी अन्य व्यक्ति द्वारा जबरन या धोखाधड़ी के माध्यम से, या फुसलाकर या प्रलोभन के माध्यम से धर्म-परिवर्तित करने से रोकता है।

कानून विभाग के एक अधिकारी ने कहा, उत्तर प्रदेश में कानून काफी हद तक समान होगा, जो धार्मिक परिवर्तनों को जटिल और बोझिल प्रक्रिया बना देगा। वर्तमान में आठ राज्यों में धर्मातरण विरोधी कानून हैं, ये राज्य अरुणाचल प्रदेश, ओडिशा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, झारखंड और उत्तराखंड हैं।

ओडिशा साल 1967 में इस कानून को लागू करने वाला पहला राज्य था, इसके बाद 1968 में मध्य प्रदेश ने कानून लागू किया। कानून विभाग के अधिकारी ने कहा, उत्तर प्रदेश जल्द ही नौवां राज्य बन सकता है। राज्य सरकार ने कानपुर में लव जिहाद के 11 मामलों की जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया है।

#cmyogi #yogiadityanath #chiefminister #lovejihad

Continue Reading

Trending