Connect with us

नेशनल

कोरोनाः केजरीवाल ने दी लोगों को बड़ी खुशखबरी, बोले-उम्मीद की किरण नजर आ रही है

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संकट से जूझ रही दिल्ली के लिए एक राहत भरी खबर आई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने खुद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर लोगों को ये खुशखबरी दी।

दरअसल, दिल्ली में लगातार बढ़ रहे कोरोना मामलों के बीच डॉक्टरों को अब आशा की किरण नजर आने लगी है। राजधानी दिल्ली में पहले स्टेज में प्लाजमा थेरेपी कारगर साबित हुई है।

सीएम केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि  कोरोना के चार मरीजों को मंगलवार को प्लाज्मा दिया गया था। इसमें से दो लोगों को जल्द छुट्टी मिल सकती है। बाकी दो मरीजों के सेहत में सुधार हो रहा है। उम्मीद है कि ये लोग जल्दी ही रिकवर होंगे।

अरविंद केजरीवाल ने बताया कि इस तकनीक से इलाज करने की परमिशन उन्हें केंद्र सरकार से मिली थी। केंद्र सरकार ने एलएनजेपी के सीरियस मरीजों के उपर ही प्लाज्मा थेरेपी ट्राई करने के लिए कहा था और नतीजों की डिटेल मांगी थी। अगर नतीजे ठीक आए तो हम आपको (दिल्ली सरकार) बाकी परमिशन देंगे। अगले दो-तीन और हम ट्रायल करेंगे।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि एक बार जब ट्रायल पूरा हो जाएगा, उसके बाद हम पूरी दिल्ली के सीरियस कोरोना मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी देने के लिए केंद्र से परमिशन मांगेंगे। मुझे उम्मीद है कि इजाजत जल्द मिल जाएगी। इसके बाद दिल्ली के सभी अस्पतालों में कोरोना के सीरियस मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी की शुरुआत कर दी जाएगी।

दिल्ली वासियों से बात करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह अभी शुरुआती नतीजे हैं, हम यह न समझे कि कोरोना का इलाज मिल गया। यह नतीजे बहुत उत्साहवर्धक हैं। उम्मीद की किरण नजर आ रही है। इसमें सबसे अहम रोल डोनर का है, जो कोरोना से ठीक हो गया और आकर अपना प्लाज्मा डोनेट करता है।

सीएम केजरीवाल ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि डेंगू के लिए ब्लड दिया होगा। ठीक उसी तरह आपके ब्लड में से प्लाज्मा निकाल लेंगे और फिर आपका ब्लड वापस डाल देंगे। डोनर को चिंता करने की जरूरत नहीं है। जो लोग ठीक होकर गए हैं, उन्हें सरकार की ओर से फोन किया जाएगा और उनका प्लाज्मा लिया जाएगा।

 

नेशनल

KANPUR कांड के दोषी विकास दुबे को LDA का झटका,भाई समेत माफिया के LUCKNOW के मकान भी होंगे ध्वस्त

Published

on

mafiya vikas dubey

कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या करके फरार हुए अपराधी विकास दुबे और उसके भाई दीप प्रकाश दुबे के लखनऊ स्थित मकानों को गिराने की कवायद भी शुरू हो गयी है। पुलिस कमिश्नर ने भी एलडीए को इस सबन्ध में पत्र भेजा है शनिवार को कानपुर प्रशासन ने विकास का किलेनुमा घर ढहाया है।

kanpur vikas dubey house

kanpur vikas dubey house

दोनों भाइयों के मकान कृष्णनगर की इंद्रलोक कॉलोनी में हैं। दोनों भाइयों के मकानों को गिराने की तैयारी एलडीए ने शुरू कर दी है। शासन के बड़े अफसरों ने बाकायदा एलडीए वीसी शिवाकांत द्विवेदी व सचिव मंगला प्रसाद सिंह को इस सबन्ध में निर्देश भी जारी किए हैं। कानपुर के मकान को ढहाने पर सोशल मीडिया में पुलिस की आलोचना को देखते हुए एलडीए बेहद फूंक फूंक कर पूरी कार्रवाई को अंजाम देगा। गोपनीय तरीके से एलडीए इंजीनियरों ने बाकायदा दोनों भाइयों के मकानों की नापजोख भी कर ली है। इंद्रलोक कॉलोनी में विकास दुबे के मकान का नम्बर जे 424 और भाई का के 528 है। इंद्रलोक कॉलोनी को कृष्णा कॉलोनाइजर्स बिल्डर ने बसाया था। बिल्डर के भू उपयोग से जुड़ी फाइलें तलाशना एलडीए ने शुरू किया है। एलडीए ने लखनऊ डीएम और नगर आयुक्त को भी एक पत्र लिखा है जिसमे बिल्डर से जुड़ी कई जानकारियों की मांग की गई है एलडीए अफसरों के मुताबिक कार्रवाई के दौरान किसी भी प्रकार के सवाल न उठें, इसकी तैयारी की जा रही है पूरी कार्रवाई एलडीए में स्थित अवैध निर्माणों के लिए गठित न्यायालय विहित प्राधिकारी के जरिये कराया जाएगा। दरअसल पुलिस कमिश्नर के दफ्तर से एलडीए वीसी को जो पत्र भेजा गया है उसमें विकास दुबे व उसके भाई समेत परिजनों की संपत्तियों की पूरी जानकारियां मांगी गई है साथ ही मकानों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात भी है। सूत्रों के मुताबिक कृष्णानगर कोतवाली के पुलिसकर्मियों को भी दोनों के मकानों का विस्तृत ब्यौरा जल्द हासिल करने के लिए सक्रिय किया गया है। एलडीए अफसरों के मुताबिक चूंकि 90 के आसपास नक्शे के लिए एलडीए में फाइल चली थी। इसलिए कृष्णा कॉलोनाइजर्स से भी सम्पर्क किया जा सकता है। विकास की सारी सम्पत्तियां कई शहरों में खंगाली जा रही हैं।

Continue Reading

Trending