Connect with us

प्रादेशिक

बिहार में मिला कोरोना का एक और संक्रमित, संख्या बढ़कर हुई 10

Published

on

बिहार में कोरोना वायरस संक्रमित एक और व्यक्ति की पहचान हुई है। इसी के साथ बिहार में संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 10 हो गई है। इसमें से कोरोना संक्रमित एक मरीज की बीते रविवार को मौत हो चुकी है।

राजेंद्र स्मारक चिकित्सा विज्ञान अनुसंधान संस्थान (आरएमआरआई) के निदेशक डॉक्टर प्रदीप दास ने शनिवार को बताया कि उनके यहां हुई 90 नमूनों की जांच में एक 23 वर्षीय एक महिला के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई।

सूत्रों के अनुसार, यह महिला उसी निजी अस्पताल में संक्रमित हुई जहां के वार्ड ब्वॉ य सहित दो कर्मचारी कोरोना वायरस संक्रमित मुंगेर निवासी एक मरीज के संपर्क में आए थे।

राज्य में अब तक 10 मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इसमें पटना के पांच, मुंगेर के तीन, सीवान के एक और नालंदा के निवासी हैं। नालंदा निवासी मरीज भी पटना के खेमनीचक इलाके में रहता है।

उल्लेखनीय है कि निजी अस्पताल में भर्ती कराए गए मुंगेर के मरीज की बाद में पटना एम्स में मौत हो गई थी। कतर से लौटे मुंगेर निवासी उस मरीज को इलाज के लिए पहले पटना के बाईपास स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में उसे पटना एम्स में भर्ती कराया गया, जहां रविवार को उसकी मौत हो गई।

पटना जिला प्रशासन ने इस निजी अस्पताल के सभी डॉक्टरों, नर्सो और कर्मचारियों को अलग रहने का निर्देश दिया है तथा अस्पताल को सील कर दिया गया है।

प्रादेशिक

सीएम योगी बोले, कोरोना की रोकथाम के लिए लखनऊ, कानपुर व मेरठ के लिए विशेष रणनीति बनाएं अधिकारी

Published

on

लखनऊ। यूपी में कोरोना के मामलों को देखते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक करते हुए अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने लखनऊ , कानपुर नगर और मेरठ में कोविड-19 के सम्बन्ध में विशेष रणनीति बनाकर कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि टेस्टिंग और सर्विलांस जितना सुदृढ़ होगा, कोरोना के प्रसार को रोकने में उतनी ही अधिक सफलता मिलेगी। योगी ने मुख्य सचिव को निर्देश दिए कि माइक्रो कन्टेनमेन्ट जोन, टेस्टिंग और सर्विलांस के सम्बन्ध में निरन्तर फीडबैक लेते हुए उचित कार्रवाई करें। कोविड की रोकथाम के लिए लखनऊ , कानपुर नगर व मेरठ के लिए विशेष रणनीति बनाई जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। पिछले एक सप्ताह में सक्रिय कोरोना के मामलों की संख्या में काफी कमी आई है, यह एक अच्छा संकेत है और ये दर्शाता है कि राज्य सरकार की कोविड-19 के प्रति अपनाई गई रणनीति कारगर रही है। कोविड-19 नियंत्रण सम्बन्धी कार्य सक्रियता के साथ निरन्तर जारी रखें जाएं। उन्होंने फोकस्ड टेस्टिंग किए जाने पर बल देते हुए कहा कि कोविड बेड्स की संख्या में बढ़ोतरी सुनिश्चित की जाए।

Continue Reading

Trending