Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

इस जानवर में मिला कोरोना जैसा वायरस, वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस चीन से निकलकर अब पूरी दुनिया में फैल चुका है। इस महामारी से दुनियाभर के 20 हजार लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। इस खतरनाक वायरस पर काबू पाने के लिए हर देश के शोधकर्ता लगे हुए हैं।

26 मार्च को जर्नल नेचर में एक बड़ा खुलासा हुआ है। जर्नल में एक शोध प्रकाशित हुआ है जिसमें इस बात की पुष्टि हुई है कि कोविड-19 से मिलता-जुलता कोरोना वायरस पैंगोलिन जानवर में मौजूद है।

चमगादड़ के अलावा कोरोना वायरस के परिवार से संक्रमित होने वाला पैंगोलिन इकलौता स्तनपायी जीव बन गया है। इस स्टडी में सीधे तौर पर यह तो नहीं निष्कर्ष नहीं निकाला गया है कि मौजूदा महामारी के लिए पैंगोलिन ही जिम्मेदार है लेकिन इसमें संकेत दिए गए हैं कि नए कोरोना वायरस के पैदा करने में इस जानवर की अहम भूमिका हो सकती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, चमगादड़ों के कोरोना वायरस SARS-CoV के वाहक होने की सबसे ज्यादा संभावना है लेकिन इंसानों में आने से पहले ये किसी अन्य प्रजाति में पहुंचा होगा। यानी कोरोना वायरस चमगादड़ से पहले किसी जानवर में पहुंचा होगा और उस जानवर से इंसानों में।

पैंगोलिन एक संकटग्रस्त, विशाल और चींटी खाने वाला स्तनपायी है जो एशिया और अफ्रीका में पाया जाता है। इंटरनेशनल यूनियन फॉर द कंजरवेशन में पैंगोलिन के संरक्षण की जिम्मेदारी संभाल रहे डैन चैंडलर ने बताया, पैंगोलिन कोरोना वायरस के वाहक माने जाते हैं। ये हैरान करने वाला नहीं है कि कोरोना वायरस के स्रोत को समझने के लिए सबकी नजरें पैंगोलिन पर टिक गई हैं।

हालांकि, पैंगोलिन की 8 प्रजातियों की कमर्शियल बिक्री पर पूरी तरह से बैन है लेकिन इसके बावजूद दुनिया भर में पैंगोलिन की सबसे ज्यादा तस्करी होती है। पारंपरिक चीनी औषधियों के लिए हजारों पैंगोलिन की हर साल तस्करी होती है। चीन, वियतनाम और एशिया के कुछ देशों में इसके मांस को स्टेटस सिंबल से भी जोड़कर देखा जाता है। कोरोना वायरस शरीर के द्रव्य, मल और मांस से आसानी से फैल सकता है। इसलिए खाने के लिए पैंगोलिन का इस्तेमाल ज्यादा चिंता की बात है। पैंगोलिन को इसकी स्कैल्स के लिए भी मारा जाता है लेकिन उसके संपर्क में आना मांस की तुलना में कम खतरनाक है।

नए रिसर्च में पाया गया है कि पैंगोलिन में पाए गए कोरोना वायरस की जीन संरचना मौजूदा कोरोना वायरस की जीन संरचना से 88.5 फीसदी से लेकर 92.4 तक फीसदी मेल खाता है।

2017 और 2018 में स्मग्लिंग के खिलाफ ऑपरेशन में जब्त किए गए 18 सूंडा पैंगोलिन से टिश्यू सैंपल लिए गए। शोधकर्ताओं ने कोरोना वायरस की मौजूदगी का पता लगाने के लिए टेस्ट किया। उन्होंने पाया कि 18 पैंगोलिन में से 5 के सैंपलों में कोरोना वायरस पाए गए। वैज्ञानिकों ने इसके बाद इन वायरसों के जीनोम संरचना की तुलना SARS-CoV-2 से की।

अपने निष्कर्ष में सावधानी बरतते हुए शोधकर्ताओं ने कहा कि जीनोम की समानता यह साबित करने के लिए काफी नहीं है कि पैंगोलिन ने ही SARS-CoV-2 को चमगादड़ों से इंसानों में पहुंचाया। हालांकि, इसे खारिज भी नहीं किया गया है। पेपर में कहा गया है कि पैंगोलिन को भी भविष्य में आने वाले किसी नए कोरोना वायरस के संभावित वाहकों की सूची में रखा जाना चाहिए।

अन्तर्राष्ट्रीय

दक्षिण कोरिया में बढ़ने लगे कोरोना के मामले, लगातार तीसरे दिन आए इतने नए केस

Published

on

नई दिल्ली। दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के 25 नए मामले सामने आए हैं। नए मरीजों के मिलने के बाद यहां कुल संक्रमित लोगों की संख्या 11 हजार 190 हो गई है। दर्ज किए गए, जिसके बाद से महामारी से संक्रमित हुए लोगों का कुल आंकड़ा बढ़कर 11 हजार 190 हो गया है।

एक न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण कोरिया में लगातार तीसरे दिन 20 से ऊपर नए मामले सामने आए हैं। इसमें 8 मरीज विदेश से वापस लौटे हैं। वहीं इस बीमारी से मरने वालों की कुल संख्या 266 है, जिसमें कोई नई मृत्यु की पुष्टि नहीं की गई। बता दें कि दक्षिण कोरिया में कुल मृत्यु दर 2.38 प्रतिशत दर्ज की गई है।

उपचार के बाद पूर्ण रूप से स्वस्थ हुए 19 अन्य लोगों को क्वारंटाइन से डिस्चार्ज कर दिया गया, जिसके बाद से यह आंकड़ा बढ़कर 10 हजार 213 हो गया। कुल रिकवरी रेट 91.3 प्रतिशत है।

देश में महामारी के संक्रमण को लेकर 3 जनवरी के बाद से 8 लाख 20 हजार से अधिक लोगों की जांच की जा चुकी है। 7 लाख 88 हजार 766 लोग टेस्ट में नेगेटिव पाए गए हैं, जबकि 20 हजार 333 नमूनों की जांच की जा रही है।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending