Connect with us

नेशनल

BREAKING : कोरोना को हराने के लिए भारत 21 दिनों तक लॉकडाउन

Published

on

कोरोना को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बार फिर से जनता से रूबरू हुए हैं। अपने संबोधन में सबसे पहले पीएम मोदी ने जनता कर्फ्यू में लोगों की जिम्मेदारी व योगदान की सराहना की। उन्होंने ने कहा कि एक जनता कर्फ्यू से लोगों ने बता दिया कि सभी भारतीय एकजुट होकर उसका मुकाबला करते हैं।

आज हम कोरोना के बारे में सुन भी रहे हैं और यह समझ रहे हैं कि कैसे इस महामारी ने पूरे विश्व को बेबस कर दिया है। कोरोना वायरस इतनी तेज़ी से फैल रहा है कि देशों में चुनौतियां बढ़ती जा रही हैं।

इस कोरोना से मुकाबले के लिए एकमात्र विकल्प है सोशल डिस्टेंसिंग यानि की एकदूसरे से दूर रहना। कोरोना से बचना है तो उसके संक्रमण की साइकिल तोड़नी होगी। सोशल डिस्टेंसिंग हर नागरिक के लिए है। पीएम के लिए भी है, कुछ लोगों की गलत सोच आपको और पूरे देश को मुश्किल में झोंक देगी और इसकी कीमत कितनी चुकानी पड़ेगी ये सोचना भी हमारे लिए बहुत मुश्किल है। इसलिए राज्य सरकारों के लॉकडाउन के फैसले को जनता को गंभीरता से लेना होगा।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि आज राज 12 बजे से पूरा देश लॉकडाउन होने जा रहा है। आज रात के बाद घरों से बाहर निकलने पर पाबंदी लगाई जा रही है। ये एक तरह का कर्फ्यू ही है जो जनता कर्फ्यू से अधिक बड़ा है। इससे कोरोना का खात्म होगा और हर एक नागरिक के जीवन को बचाने की कोशिश होगी।

” आप इस समय देश में जहां भी हैं वहीं रहे, देश में ये संपूर्ण लॉकडाउन तीन हफ्ते यानि की 21 दिन का होगा। अगर ये 21 दिन नहीं संभलें तो हम सब तबाह हो जाएंगे। इसलिए बाहर निकलना क्या होता है ये 21 दिन के आप भूल जाएं।आपको ये याद रखना है कि घर से बाहर निकलने वाला हर एक कदम आपको कोरोना जैसी बिमारी में ढकेल सकता है।इसलिए सतर्क रहिए और अपने घर पर रहिए।” पीएम मोदी ने आगे कहा।

पीएम मोदी ने एक बैनर दिखाने हुए ये समझाया कि कोरोना – कोई रोड पर न निकले। पीएम ने कहा कि जब से वायरस फैलना शुरू होता है तो इसे रोकना बहुत मुश्किल होता है। ये याद रखिए कि इटली और अमेरिका की स्वास्थ्य व्यवस्था सबसे अच्छी हैं, लेकिन इसके बावजूद वो इस वायरस को नहीं रोक पा रहे हैं। लेकिन हमें कुछ देशों से समझना होगा कि वो कैसे अपनी सरकारों के फैसलों को मानते रहे हैं और वो कोरोना पर काबू पा रहे हैं।

” हमें ये समझना होगा कि हम तभी कोरोना से बच सकते हैं, जब हम अपने घरों की लक्ष्मण रेखा न लांघे। ये समय कदम-कदम पर संयम बरतने का है। हमें यह समझना होगा कि ये समय धैर्य का समय है। मेरी आप से हाथ जोड़ कर ये विनती है कि आप सभी उन लोगों के लिए प्रार्थना करिए जो इस समय इस वायरस से बाहर रहकर लड़ रहे हैं।” पीएम मोदी ने आगे कहा।

पीएम मोदी ने कहा – आपको सही जानकारी देने वाले मीडियावालों के बारे में सोचिए, पुलिस वालों के बारे में सोचिए जो रात दिन बाहर रहकर आपके लिए काम कर रहे हैं। कोरोना जांच के लिए किट व अन्य मेडिकल सुविधाओं के लिए 15000 करोड़ की धनराशि जारी की जा रही है।

” मैंने राज्य सरकारों से कह दिया है कि इस समय सरकारों की पहली प्राथमिकता स्वास्थ्य सेवाएं ही होनी चाहिए। लेकिन साथियों इस समय मेरा आपसे अनुरोध है कि किसी भी तरह की अफवाह से बचें और बिना किसी डॉक्टरी सलह के कोई दवा न लें। साथियों मुझे विश्वास है कि 21 दिन का लॉकडाउन एक लंबा समय है लेकिन आपके परिवार के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। आप अपना ध्यान रखिए और अपनो का ध्यान रखिए और विजय का संकल्प कर के इन बंधनों को स्वीकार करें।” पीएम मोदी ने आगे कहा।

नेशनल

उपमुख्यमंत्री पद से हटाए गए सचिन पायलट, पार्टी अध्य्क्ष पद से भी छुट्टी

Published

on

नई दिल्ली। राजस्थान में सचिन पायलट की बगावत और मानमुनव्वल की सोमवार की की गई कोशिशों को बाद पार्टी आलाकमान ने सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री पद से बर्खास्त कर दिया गया है। साथ ही उन्हें पार्टी अध्यक्ष पद से भी हटा दिया गया है।

पायलट की जगह पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है। सचिन पायलट के अलावा विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया गया है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने सचिन पायलट को प्रदेश अध्यक्ष के साथ ही मंत्री पद से हटाए जाने का ऐलान किया। सुरजेवाल ने कहा कि पायलट के साथ ही विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को भी मंत्री पद से हटाया जा रहा है। सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस विधायक पायलट के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे थे।

#sachinpilot #rajasthan #congress

Continue Reading

Trending