Connect with us

नेशनल

इन बीमारी वाले लोगों को भी करानी होगी कोरोना की जांच, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिया निर्देश

Published

on

कोरोना वायरस की गंभीरता को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नया निर्देश जारी किया है। मंत्रालय के निर्देश के अनुसार सभी निमोनिया मरीजों को कोरोना वायरस की जांच करानी होगी।

साथ ही यह भी कहा गया है कि निमोनिया पीड़ित मरीजों की जानकारी नेशनल सेंटर ऑफ डिजीज कंट्रोल (NCDC) या इंटीग्रेटेड डिजीज सर्विलांस प्रोग्राम (IDSP) में देनी होगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश के सभी अस्पतालों को कहा है कि वे परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग का खास ख्याल रखें। केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए इस कदम से देश में कोरोना मरीजों की जांच को लेकर उठ रहे सवालों पर विराम लगेगा।

मंत्रालय ने कहा है कि सभी अस्पताल जांच ले कि उनके पास पर्याप्त संख्या में वेंटिलेटर्स, ऑक्सीजन, मास्क, हैजमट सूट, आईसीयू आदि की व्यवस्था है कि नहीं। साथ ही यह भी कहा है कि हर मरीज के साथ एक ही अटेंडेंट होगा. इस नियम का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए।

आपको बता दें कि कोरोना वायरस से बीमार व्यक्ति को गंभीर स्तर का निमोनिया हो जाता है। जिसकी वजह से उसके फेफड़े काम करना बंद कर देते हैं। चीन के वुहान में भी सबसे पहले निमोनिया के ही मामले सामने आए थे, जो बाद में पता चला कि कोरोना से संक्रमित हैं।

नेशनल

चैनल पर डिबेट के दौरान बार-बार सीने पर हाथ रख रहे थे राजीव त्यागी, पत्नी को हो गया था शक

Published

on

नई दिल्ली। कांग्रेस के तेजतर्रार प्रवक्ता राजीव त्यागी का बुधवार को अचानक दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। बुधवार को ही शाम पांच बजे वो अपने घर से ही आजतक के कार्यक्रम में एक डिबेट में शामिल हुए थे। जानकारी के मुताबिक, जिस वक्त राजीव डिबेट में होते थे, उस वक्त उनके कमरे में कोई भी नहीं जाता था।

बुधवार को जब वह डिबेट में चर्चा कर रहे थे, उसी वक्त पड़ोस के कमरे में उनकी पत्नी संगीता और बेटा धनंजय भी टीवी पर उन्हें देख रहे थे। टीवी पर उन्हें बार-बार पानी पीते और सीने पर हाथ लगाते देख उन्हें कुछ शक हुआ। इसके बाद डिबेट खत्म होने के चंद सेकंड बाद ही जब वो राजीव के कमरे में गईं तो उन्होंने कहा कि मुझे कुछ असहज महसूस हो रहा है। इसके बाद वो कुर्सी से जमीन पर गिर पड़े। उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

डॉक्टर ने कहा कि ‘उन्हें शाम को करीब साढ़े छह बजे हॉस्पिटल लाया गया। उनका ब्लड प्रेशर और पल्स नहीं था। हमनें उन्हें तुरंत सीपीआर दिया। वेंटिलेटर पर रखा गया। 45 मिनट तक उन्हें सीपीआर दिया गया। मगर उन्हें बचाया नहीं जा सका। राजीव त्यागी के अचेत होने के बाद उन्हें यशोदा हॉस्पिटल में ही भर्ती कराया गया था।

#rajivtyagi #aajtak #debate #death

Continue Reading

Trending