Connect with us

प्रादेशिक

योगी सरकार ने पेश किया ऐतिहासिक बजट, किए ये 14 बड़े ऐलान

Published

on

लखनऊ। योगी सरकार ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश का चौथा बजट पेश कर दिया। वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने विधानसभा में यूपी का अब तक का सबसे बड़ा बजट पेश किया।

5 लाख 12 हजार 860 करोड़ 72 लाख का यह बजट कई मामलों में ऐतिहासिक है। बजट में 10 हजार 967 करोड़ 87 लाख की नई योजनाएं शामिल की गई हैं।

योगी सरकार के इस बजट में पर्यटन, संस्कृति और धर्मार्थ कार्यों के लिए अलग से बजट तय किया गया है। अयोध्या को स्मार्ट सिटी के तौर पर विकसित करने की योगी सरकार की योजना है।

अयोध्या में उच्चस्तरीय सुविधाओं को स्थापित करने के लिए 85 करोड़ की व्यवस्था की गई है। तुलसी स्मारक भवन के लिए 10 करोड़ की व्यवस्था की गई है।

वाराणसी में संस्कृति केंद्र की स्थापना के लिए 10 करोड़ की व्यवस्था की गई है। वाराणसी में संस्कृति केंद्र की स्थापना के लिए 180 करोड़ की व्यवस्था की गई है।

पर्यटन इकाई के प्रोत्साहन के लिए 50 करोड़ की व्यवस्था की गई है। गोरखपुर के रामगढ़ ताल में वाटर स्पोर्ट्स के लिए 25 करोड़ रुपये दिए जाएंगे। काशी विश्वनाथ मंदिर के लिए योगी सरकार बजट आवंटित करेगी।

1. प्रधानमंत्री आवास के तहत 5 लाख आवास का निर्माण लक्ष्य 6240 करोड़ का आवंटन.

2. स्वच्छ भारत मिशन के तहत गांव के लिए 5,791 करोड़ रुपये.

3. मनरेगा की विभिन्न योजनाओं के तहत 4800 करोड़ रुपये.

4. जल शक्ति एवं नमामि गंगे और ग्रामीण जलापूर्ति के लिए 6 हजार करोड़ अटल भू-जल योजना.

5. काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के लिए 200 करोड़ रुपये.

6. अयोध्या एयरपोर्ट के लिए 500 करोड़ रुपये.

7. युवाओं के रोजगार सृजन और प्लेसमेंट हब के लिए 1200 करोड़ रुपये.

8. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना पर भी है योगी सरकार का जोर-

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के तहत 100 टॉपर छात्राओं को खास तोहफा मिलेगा. अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति में टॉपर छात्राओं को लैपटॉप दिया जाएगा. डिप्लोमा सेक्टर में प्रवेश परीक्षाओं में चुने जाने वाले 300 छात्र-छात्राओं को लैपटॉप दिया जाएगा.

9. दिल्ली से मेरठ रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के लिए 900 करोड़ रुपये.

10. गांवों में जल जीवन मिशन को 3000 करोड़ रुपये.

11. KGMU को 919 करोड़ रुपये.

12. अटल आवासीय विद्यालय के लिए 270 करोड़ रुपये.

13. बजट में 10 हज़ार 967 करोड़ 87 लाख की नई योजनाएं सम्मिलित

14. लखनऊ में राष्ट्रीय प्रेरणा स्थल की स्थापना के लिए 50 करोड़ रुपये

प्रादेशिक

Corona Protection : आदर्श कारागार में हो रहा मास्क का रिकॉर्ड उत्पादन

Published

on

लखनऊ। राजधानी के आदर्श कारागार ने कोरोना से बचाव के लिए मास्क बनाने में प्रदेश के सभी जेलों को पीछे छोड़ दिया है। इस जेल में अभी तक 35 हज़ार से अधिक मास्क बनाये जा चुके है। यह जेल यहाँ निर्मित मास्क को सिर्फ जेलों में ही नही प्रदेश के स्वास्थ, पुलिस समेत अन्य विभागों को भी उपलब्ध करा रही है। जेल प्रशासन ने मास्क की बिक्री कीमत मात्र 5 रुपए रखी है।

आदर्श कारागार एशिया की एकमात्र जेल है जहाँ रहकर कैदी जेल के बाहर रहकर व्यवसाय करने के साथ परिवार का भी संचालन करते है। दुनिया मे कोरोना वायरस से प्रदेश के जेलों में बंद कैदियों को बचाने के लिए महानिदेशक/ महानिरीक्षक कारागार आनंद कुमार ने मास्क बने जाने का निर्णय लिया। इसके तरह प्रदेश की कई जेलों में मास्क का निर्माण कराया जा रहा है।

मिली जानकारी के मुताबिक राजधानी की आदर्श कारागार ने मास्क निर्माण में रिकॉर्ड तोड़ उत्पादन किया है। इस कारागार में अब तक 35 हज़ार से अधिक मास्क बनाये जा चुके है। मास्क का उत्पादन लगातार चल रहा है। आदर्श कारागार के सुपरिटेंडेंट आरएन पांडेय से जब इस संबंध में बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि कैदियों के द्वारा निर्मित मास्क की कीमत 5 रुपये रखी गयी है।

पांडेय का कहना है कि मास्क सस्ता होने की वजह से पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय सीतापुर ने 6000 मास्क की डिमांड की थी उन्हें 2000 भेजे जा चुके है। इसी प्रकार पुलिस हेल्पलाइन 112 ने भी उनसे 2000 की डिमांड की थी उन्हें उपलब्ध करा दिए गए है। इस क्रम में निदेशक स्वास्थ, आरआई पुलिस लाइन समेत अन्य कई विभागों को अब तक 35 हज़ार 192 मास्क उपलब्ध कराए जा चुके है।

सुपरिटेंडेंट आदर्श कारागार पांडेय का कहना है कि मास्क की कीमत कम होने की वजह से डिमांड बहुत है।उत्पादन के हिसाब से विभागों को मास्क उपलब्ध कराए जा रहे है। इसका उत्पादन फिलहाल जारी है। मास्क निर्माण कार्य मे बड़ी संख्या में कैदी लगाये गए है। वह दिनरात मेहनत कर डिमांड को पूरा करने में जुटे हुए है।

प्रदेश की जेलों में मास्क निर्माण की जानकारी लेने के लिए जब महानिदेशक/ महानिरीक्षक आनंद कुमार से बात करने को कोशिश की गई तो उनला फ़ोन नही उठा। उधर अपर महानिरीक्षक कारागार प्रशासन वीके जैन ने बताया कि प्रदेश की जेलों में अब तक 1 लाख 12 हज़ार से अधिक मास्क का निर्माण किया जा चुका है। मास्क निर्माण का कार्य लगातार जारी है।

रिपोर्ट – राकेश यादव

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending