Connect with us

नेशनल

16 फरवरी को वाराणसी जाएंगे पीएम मोदी, इन परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 16 फरवरी को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी का दौरा करेंगे। इस दौरान वह सार्वजनिक समारोह में 30 से अधिक परियोजनाएं राष्ट्र को समर्पित करेंगे।

प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी कार्यक्रम के अनुसार, प्रधानमंत्री दीनदयाल उपाध्याय स्मारक राष्ट्र को समर्पित करेंगे और उनकी प्रतिमा का अनावरण करेंगे। इसके अलावा, महाकाल एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। यह ट्रेन तीन ज्योतिर्लिंग तीर्थस्थल वाराणसी, उज्जैन और ओंकारेश्वर को जोड़ेगी। प्रधानमंत्री वीडियो लिंक के माध्यम से आईआरसीटीसी की महाकाल एक्सप्रेस को रवाना करेंगे। यह देश में पहली ओवरनाइट प्राइवेट ट्रेन होगी।

बीएचयू में नवनिर्मित 430 शैय्या वाले सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल तथा बीएचयू में ही 70 बिस्तर वाला मनोरोग चिकित्सा अस्पताल जनता को समर्पित करेंगे। प्रधानमंत्री श्री जगद्गुरु विश्वाराध्य गुरुकुल के शताब्दी समारोह के समापन समारोह में शामिल होंगे। वह श्री सिद्घांत शिखामणि ग्रंथ के 19 भाषाओं में अनुदित संस्करण तथा इसके मोबाइल ऐप का भी विमोचन करेंगे।

प्रधानमंत्री इसके बाद पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मारक केंद्र राष्ट्र को समर्पित करेंगे। इसी आयोजन में वह पंडित दीनदयाल उपाध्याय की 63 फुट की पंच लोहा प्रतिमा का भी अनावरण करेंगे। यह देश में उनकी सबसे बड़ी प्रतिमा है। 200 से अधिक शिल्पकारों ने एक वर्ष तक दिन रात काम करके इस प्रतिमा को पूरा किया है। इस स्मारक केंद्र में पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जीवन से संबंधित जानकारियां होंगी। ओडिशा के लगभग 30 शिल्पकारों और दस्तकारों ने पिछले वर्ष के दौरान इस परियोजना पर कार्य किया है।

प्रधानमंत्री मोदी ‘काशी एक रूप अनेक’ का उद्घाटन करेंगे। वे अमेरिका, इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया सहित विश्व के विभिन्न देशों से आये हुए खरीदारों और दस्तकारों के साथ भी बातचीत करेंगे।

अतरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी) बृजभूषण शर्मा ने बताया कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर बड़ी सावधानी रखी जा रही है। दस कमांडो की टीम के जनपद के अलावा बाहर से 300 इंस्पेक्टर व दारोगा की तैनाती की गई है। रूट ड्यूटी के अलावा घरों की छतों पर फोर्स लगाई जाएगी। एटीएस की कई टीमों व बम निरोधक दस्ते की 18 टीमों की ड्यूटी निर्धारित की गई है। इसके अलावा वाराणसी जिले के 3500 पुरुष व महिला कांस्टेबलों की ड्यूटी लगाई गई है। वहीं 49 डीएसपी पूरी टीम पर निगरानी रखेंगे।

नेशनल

मुंबई हमले का जख्म भारत भूल नहीं सकता: पीएम मोदी

Published

on

नई दिल्ली। मुंबई में हुए आतंकी हमले की आज 12वीं बरसी है। 26 नवंबर 2008 को समुद्र के रास्ते पाकिस्तान से आए 10 आतंकवादियों ने देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में ऐसा खूनी खेल खेला कि 200 के करीब मासूम जिंदगियां मौत के आगोश में समां गईं। पीएम मोदी ने इस दिन को याद करते हुए कहा कि 26/11 मुंबई हमले का जख्म भारत भूल नहीं सकता और आज का भारत नई नीति के साथ आतंकवाद का मुकाबला कर रहा है।

पीएम मोदी ने गुजरात के केवड़िया में 80वें अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारियों के सम्‍मेलन के समापन सत्र को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि आज की तारीख देश पर सबसे बड़े आतंकी हमले के साथ जुड़ी हुई है। 2008 में पाकिस्तान से आए आतंकियों ने मुंबई पर धावा बोल दिया था। इस हमले में अनेक लोगों की मृत्यु हुई थी। अनेक देशों के लोग मारे गए थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “आज की तारीख, देश पर सबसे बड़े आतंकी हमले के साथ जुड़ी हुई है। 2008 में पाकिस्तान से आए आतंकियों ने मुंबई पर धावा बोल दिया था। इस हमले में अनेक भारतीयों की मृत्यु हुई थी। कई और देशों के लोग मारे गए थे। मैं मुंबई हमले में मारे गए सभी को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “मैं आज मुंबई हमले जैसी साजिशों को नाकाम कर रहे, आतंक को एक छोटे से क्षेत्र में समेट देने वाले, भारत की रक्षा में प्रतिपल जुटे हमारे सुरक्षाबलों का भी वंदन करता हूं।

Continue Reading

Trending