Connect with us

प्रादेशिक

मशहूर साहित्यकार नरेश सक्सेना ने “बोलती रोशनाई” पुस्तक का किया विमोचन

Published

on

लखनऊ। मुद्रक प्रिंटर्स के तत्वावधान में प्रेस क्लब, तुलसी सिनेमा के निकट, हजरतगंज, लखनऊ में रविवार को डॉ. फूलकली ‘पूनम’ द्वारा लिखित गजल संग्रह ‘बोलती रोशनाई’ का विमोचन देश के प्रख्यात साहित्यकार नरेश सक्सेना ने किया। इस अवसर पर विशिष्ट साहित्यकार राम मनोहर मिश्र (आई.ए.एस) एवं हीरालाल (आई.पी.एस) ने विशिष्ठ अतिथि के रूप में कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई।

कार्यक्रम का संचालन (पूर्व एडिशनल सॉलिसिटर जनरल भारत सरकार) आर पी शुक्ला ने किया। कार्यक्रम का संचालन करते हुए उन्होंने कहा कि डॉक्टर फूलकली ‘पूनम’ में तमाम संघर्षों को सहते हुए ये मुकाम हासिल किया। उन्होंने कहा कि सुल्तानपुर की विभूति की पुस्तक का प्रदेश स्तर पर विमोचन हो रहा है। ये हर्ष का विषय है।

इस अवसर पर अपने उद्बबोधन में देश के प्रख्यात साहित्यकार नरेश सक्सेना ने कहा कि इस ग़ज़ल संग्रह में डॉक्टर फूलकली जी ने अपने भाव को बेहद सुंदरता से परिभाषित किया है।

डॉ. फूलकली ‘पूनम’ ने कहा कि साहित्य सृजन के द्वारा मनुष्य अपने अंतर्मन में छुपे हुए भाव को लेखनी के  द्वारा कागज पर उतरता है। कई बार लेखनी से कुछ ऐसे भाव प्रवाहित जो जाते है जो कालजई बन जाते हैं। और समाज के लिए हर समय प्रासंगिक होते है।  इस ग़ज़ल संग्रह में डॉ. फूलकली ‘पूनम’ ने इस पुस्तक में यथार्थ परक, प्रेम आधारित और संदेश परक ग़ज़लों को स्थान दिया है।

 

Continue Reading

प्रादेशिक

कोरोना की वजह से 14 तारीख को लॉकडाउन नहीं हटाएगा यह राज्य, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान

Published

on

नई दिल्ली। ओडिशा सरकार ने गुरुवार को कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया है। कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लॉकडाउन की अवधि को और 15 दिनों के लिए बढ़ाने का फैसला किया है।

अब राज्य में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन रहेगा। कैबिनेट बैठक के बाद सीएम नवीन पटनायक ने कहा कि इस महत्वपूर्ण मोड़ पर हमें लोगों की जान बचाने और आर्थिक गतिविधियों को पटरी पर लाने के बीच फैसला लेना है।

आज कैबिनेट ने फैसला किया कि हमारे लोगों की जान बचाना इस समय सबसे बड़ी प्राथमिकता है। इस वजह से हमने 30 अप्रैल तक लॉक डाउन का विस्तार करने का फैसला लिया है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending