Connect with us

नेशनल

इमरान खान को भारत आने का न्योता देने की तैयारी में मोदी सरकार, ये है वजह

Published

on

नई दिल्ली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान इस साल भारत दौरा पर आ सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक मोदी सरकार पाक पीएम इमरान खान को न्योता भेजने की तैयारी में है।

दरअसल, इस साल के आखिर में होने जा रहे शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की मेजबानी भारत करेगा, लिहाजा सदस्य देश के राष्ट्राध्यक्ष होने के नाते मोदी सरकार इमरान खान को भी इस समिट में शामिल होने के लिए न्योता भेजेगी। दोनों देशों के बीच कई वर्षों से चल रहे तनाव के बीच यह पहला मौका होगा जब पाकिस्तानी प्रधानमंत्री भारत दौरे पर आएंगे।

भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री आम तौर पर राष्ट्राध्यक्षों के प्रमुखों की बैठक में शिरकत करते हैं, जबकि दोनों देशों की सरकारों के प्रमुखों की मीटिंग में विदेश मंत्री या किसी दूसरे कैबिनेट मंत्री को जिम्मेदारी दी जाती है। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि पाकिस्तान की तरफ से SCO समिट में कौन आता है।

साल 2001 में चीन के शहर शंघाई में एससीओ की नींव पड़ी थी। इस संगठन में रूस, चीन, कीर्गिस्‍तान, कजाख्‍स्‍तानख्‍ तजाकिस्‍तान और उजबेकिस्‍तान जैसे देश शामिल हैं।

इस संगठन का मकसद आतंकवाद को रोकना और आर्थिक व सांस्कृतिक सहयोग बढ़ाना था। हालांकि, भारत और पाकिस्तान को इस संगठन में काफी देरी से एंट्री मिली। साल 2017 में भारत और पाकिस्तान दोनों ही देशों को एक साथ इस संगठन के सदस्यों में शामिल किया।

जून 2019 में बिश्केक में हुए SCO समिट में पीएम मोदी पहुंचे थे और उन्होंने यहां आतंकवाद के मुद्दे पर एकजुट होने की अपील की थी। पीएम मोदी ने अपने भाषण में सदस्यों देशों से आह्वान किया था कि आतंकवाद के मुद्दे पर इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस बुलानी होगी और आतंकवाद का सफाया करने के लिए सबको एक होने की जरूरत है।

इस साल SCO समिट के लिए भारत को मौका मिला है। हाल ही में SCO के महासचिव व्लादिमीर नोरोव भारत दौरे पर थे, जिन्होंने समिट की तैयारियों का जायजा लिया।

नेशनल

आगरा में ट्रंप की सुरक्षा में लगाए गए लंगूर

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आगामी 24-25 फरवरी को भारत दौरे पर हैं। उनके दौरे पर पूरी दुनिया की निगाहे हैं। ट्रंप की सुरक्षा के लिए भारत में सुरक्षा के तगड़े प्रबंध किए गए हैं। जमीन से आसमान तक ट्रंप की सुरक्षा ऐसी है कि परिंदा भी पर नहीं मार सकता।ट्रंप की सुरक्षा में सीक्रेट सर्विस एजेंट्स, मिलटरी-पैरा मिलिटरी फोर्स तो तैनात रहेंगी ही। साथ ही ड्रोन और हेलीकाप्टर से भी ट्रंप की सुरक्षा पर पैनी निगाह रखी जाएगी। बताया जा रहा है कि ट्रंप अपनी भारत यात्रा के दौरान ताज के भी दीदार करेंगे। हालांकि अभी इसपर संशय बना हुआ है लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार ट्रंप की सुरक्षा के मामले में कोई भी रिस्क नहीं लेना चाहती। इसलिए ताज दर्शन के दौरान लंगूरों को ड्यूटी पर लगाया गया है।

दरअसल, भारतीय सुरक्षा एजेंसियों के चिंता इलाके में बंदर हैं। जिन्होंने इलाके में काफी उत्पात मचा रखा है, लिहाजा सुरक्षा व्यवस्था में कोई चूक न हो जाए इसके लिए खासतौर पर लंगूरों को भी तैनात किया जा रहा है। इन लंगूरों के पास बंदरों के उत्पात को रोकने का दारोमदार होगा। ऐसे पांच लंगूरों की तैनाती राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के रूट पर की जा रही है।

हालांकि, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर अफसरों को कुछ भी बताने का निर्देश नहीं है लेकिन जो जानकारी सामने आई है उसके अनुसार 10 कंपनी अर्धसैनिक बल, 10 कंपनी पीएसी के साथ एटीएस और एनएसजी के कमांडो को तैनात किया जाएगा। ताजमहल का दीदार करने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया का 24 फरवरी को आगरा आने का कार्यक्रम है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending