Connect with us

नेशनल

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, पीएम मोदी को बताया ‘हिंदू जिन्ना’

Published

on

नई दिल्ली। असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी की है। पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए गोगोई ने उन्हें हिंदू जिन्ना करार दिया। उन्होंने पीएम मोदी पर दो राष्ट्र के सिद्धांत का अनुसरण करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह देश को धर्म के आधार पर बांट रहे हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गोगोई ने रविवार रात को जेएनयू के छात्रों पर हुए हमले की निंदा की। उन्होंने कहा कि यह भाजपा की ‘दमन की नीति जो देश के लिए और अधिक दुर्भाग्य लाएगी’ को दर्शाती है। उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ भारतीयों के विरोध से यह स्पष्ट है कि भारतीयों को वैसा हिंदुत्व नहीं चाहिए जैसा कि भाजपा और आरएसएस वाले लाना चाहते हैं।

मोदी पर हमला करते हुए गोगोई ने कहा, ‘प्रधानमंत्री यह आरोप लगाते हैं कि हम (कांग्रेस) पाकिस्तान की भाषा बोलते हैं लेकिन उन्होंने खुद का स्तर पड़ोसी देश के बराबर कर लिया है। वह धर्म के आधार पर देश के विभाजन के लिए (मुहम्मद अली) जिन्ना के दो-राष्ट्र सिद्धांत का अनुसरण कर रहे हैं और वह भारत के हिंदू जिन्ना की तरह उभरे हैं।’

मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘हम हिंदू हैं लेकिन हम अपने देश को हिंदू राष्ट्र नहीं बनाना चाहते। विरोध करने वाले बहुसंख्यक लोग और यहां तक कि जो लोग मारे गए हैं, वे हिंदू हैं। वे उस तरह का हिंदुत्व नहीं चाहते जिसका प्रचार भाजपा और आरएसएस कर रहे हैं।’

कांग्रेस नेता ने कहा कि जेएनयू में रविवार रात को जिस तरह की हिंसा हुई उसने देश की एकता और अखंडता के लिए खतरा पैदा कर दिया है। असम के तीन बार के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में एंटी-सीएए विरोध शुरू हुआ लेकिन भाजपा की ‘दमन की नीति’ के कारण यह देश भर में फैल गया। मोदी सरकार को घंमडी बताते हुए गोगोई ने दावा किया कि नए नागरिकता कानून को लागू करने के लिए सरकार किसी भी हद तक जा सकती है।

नेशनल

CWC की बैठक बाद बोलीं सोनिया गांधी- दिल्ली हिंसा प्री-प्लान्ड, गृह मंत्री दें इस्तीफा

Published

on

नई दिल्ली। कांग्रेस की अंतरिम प्रमुख सोनिया गांधी की अध्यक्षता में कांग्रेस कार्यकारिणी समिति (सीडब्ल्यूसी) की महत्वपूर्ण बैठक हुई। इस बैठक में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी नदारद रहे।

नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर 23 फरवरी से दिल्ली में हुई हिंसक झड़पों में जान गंवाने वाले सभी लोगों की याद में पार्टी के नेताओं ने दो मिनट का मौन रखा।

बैठक के बाद अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं पर जमकर निशाना साधा। मीडिया से बात करते हुए सोनिया ने कहा कि दिल्ली में मौजूदा हालात चिंताजनक है।

एक साजिश के तहत हालात बिगड़े। बीजेपी नेताओं ने भड़काऊ भाषण दिए। चुनाव के दौरान नफरत फैलाया। दिल्ली की स्थिति के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह जिम्मेदार हैं।

गृह मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए। सोनिया गांधी ने पूछा कि रविवार को गृह मंत्री कहां थे और क्या कर रहे थे? हिंसा वाली जगहों पर कितनी पुलिस फोर्स लगी?

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending