Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

सुलेमानी को मारने के बाद अमेरिका ने उठाया ये बड़ा कदम

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आदेश पर किए गए हमले में ईरानी मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद इस सप्ताहांत तक अमेरिका मध्यपूर्व में लगभग 3,500 और सैनिकों को तैनात करेगा।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, एनबीसी न्यूज ने शुक्रवार को बताया कि 82 वें एयरबोर्न डिवीजन से अतिरिक्त सैनिकों को इराक, कुवैत और क्षेत्र के अन्य हिस्सों में तैनात किया जाएगा।

एनबीसी न्यूज ने अमेरिकी अधिकारियों का हवाला देते हुए कहा कि सैनिक इस क्षेत्र में पहले से तैनात 650 अन्य लोगों के साथ शामिल होंगे और करीब 60 दिनों तक रहेंगे।

पेंटागन ने एक बयान में कहा, “जैसा कि पहले घोषणा की गई थी कि 82 वें एयरबोर्न डिवीजन की तत्काल प्रतिक्रिया बल (आईआरएफ) ब्रिगेड को तैनाती के लिए सतर्क किया गया था, और अब उन्हें तैनात किया जा रहा है।”

बयान में आगे कहा गया, “ब्रिगेड कुवैत में अमेरिकी कर्मियों और फैसिलिटीज के खिलाफ बढ़ते खतरे के स्तर के जवाब में एक उपयुक्त और एहतियाती कार्रवाई के रूप में सैनिकों की तैनाती करेगी।”

पेंटागन का ताजा कदम ईरान के इस्लामिक रेवोल्यूशन गार्ड कॉर्प्स के कुद्स फोर्स के कमांडर सुलेमानी की मौत के बाद आया है। हवाई हमले में सुलेमानी के साथ इराकी मिलिशिया के कमांडर अबू महदी अल-मुहांदिस भी मारे गए।

बगदाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास हवाई हमले में दोनों मारे गए। ईरान के सर्वोच्च नेता अयासुल्ला अली खामेनी और राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अमेरिका से मेजर जनरल की मौत का बदला लेने और उसे करारा जवाब देने का संकल्प लिया है।

 

अन्तर्राष्ट्रीय

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने CAA-NRC को लेकर दिया ये बयान

Published

on

नई दिल्ली। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) को लेकर बड़ा बयान दिया है।

शेख हसीना ने गल्फ न्यूज को दिए इंटरव्यू के दौरान कहा कि यह भारत का आंतरिक मामला बताया है। इंटरव्यू में शेख हसीना ने सीएए पर कहा कि हम यह नहीं समझते कि (भारत सरकार) ने ऐसा क्यों किया। यह जरूरी नहीं था।

हसीना का यह बयान बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए.के. अब्दुल मोमन बयान के बाद आया है। मोमन ने कहा था कि सीएए और एनआरसी भारत के आंतरिक मुद्दे हैं, लेकिन चिंता व्यक्त की कि देश में किसी भी अनिश्चितता से उसके पड़ोसियों को प्रभावित होने की संभावना होती है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending