Connect with us

प्रादेशिक

हार्टफुलनेस इंस्टीट्यूट लखनऊ 24-25 दिसंबर को करने जा रहा विंटर कैंप का आयोजन, ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

Published

on

लखनऊ। बच्चों की फिजिकल, मेंटल और स्प्रिचुअल प्रोग्रेस के लिए हार्टफुलनेस इंस्टीट्यूट लखनऊ के चिल्ड्रेन सेन्टर द्वारा पहली बार विंटर कैंप का आयोजन 24 व 25 दिसंबर को किया जा रहा है।

इस कैंप में 5 से 15 वर्ष की आयु वर्ग का कोई भी बच्चा प्रतिभाग कर सकता है। कैंप में सभी बच्चों के रहने व खाने की व्यवस्था रहेगी। ठंड को देखते हुए ​बच्चों के लिए कैंप में व्यापक प्रबंध किए जाएंगे।

कैंप के लिए प्रति प्रतिभागी 500 रुपए का शुल्क निर्धारित किया गया है। पंजीकरण व विस्तृत जानकारी के लिए गुंजन गुप्ता मोबाइल नंबर 94157 54001 से सम्पर्क किया जा सकता है। रविवार को चिल्ड्रेन सेन्टर में रजिस्ट्रेशन डेस्क की भी व्यवस्था रहेगी।

विन्टर कैम्प : 24 व 25 दिसम्बर 2019

स्थान : हार्टफुलनेस इंस्टीट्यूट, आईआईएम रोड, लखनऊ

रिपोर्टिंग टाइम : 24 दिसम्बर 2019 प्रात: 8 बजे।

कैंप की अवधि : 24 दिसम्बर 2019 प्रात: 9 बजे से 25 दिसम्बर 2019 सायं 4 बजे तक।

मुख्य गतिविधियां : प्रार्थना, रिलेक्सेशन, योगा, गीता ज्ञान, ब्राइटर माइंड, खेलकूद, वृक्षारोपण, लाइव म्यूजिक, रंगोली, पेन्टिंग, क्विज, स्टोरी टाइम, फन एन लर्न, कैम्पफायर, ग्रुप एक्टिविटी, फिल्म, मैजिक व कठपुतली शो, फन विद सेंटा तथा अन्य।

प्रादेशिक

निर्भया के दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की क्यूरेटिव याचिका

Published

on

नई दिल्ली। निर्भया के दोषी पवन गुप्ता ने सुप्रीम कोर्ट सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल कर दी है। याचिका में पवन की तरफ से फांसी को उम्रकैद में बदलने की मांग की है।

इससे पहले इस केस में बाकि के तीन दोषियों की पिटीशन भी खारिज हो चुकी है। बता दें कि केवल पवन के पास ही कानून विकल्प बचे हैं बाकि सभी के पास दोषियों के पास फांसी से बचने के सभी विकल्प खत्म हो चुके हैं।

दिल्ली के वसंत विहार इलाके में 16 दिसंबर, 2012 की रात 23 साल की पैरामेडिकल छात्रा निर्भया के साथ चलती बस में बर्बर तरीके से सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। इस जघन्य घटना के बाद पीड़िता को इलाज के लिए सरकार सिंगापुर ले गई, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी।

इस घटना में दोषियों ने पीड़िता के प्राइवेट में रॉड तक डाल दी थी। इस भयावह घटना के बाद देशभर में विरोध प्रदर्शन हुए थे। इस घटना की चर्चा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी हुई थी। वहीं निर्भया के एक दोषी राम सिंह ने केस की सुनवाई के दौरान ही खुदकुशी कर ली थी।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending