Connect with us

प्रादेशिक

यूपी में CAA का विरोध, कई जिलों में धारा 144 लागू

Published

on

लखनऊ। नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) विधयेक के विरोध के नाम पर हो रही हिंसा की आग अब उत्तर प्रदेश तक पहुंच गई है। इसके मद्देनजर प्रदेश सरकार ने अलीगढ़, सहारनपुर, कासगंज और मेरठ समेत अन्य कई जिलों में एहतियात के तौर पर धारा 144 लागू कर दी हैं। इन जिलों की इंटरनेट सेवा भी बाधित है।

एएमयू में पथराव फायरिंग के वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होता देख जिला प्रशासन ने 15 दिसंबर की रात साढ़े दस बजे से 16 दिसंबर की रात दस बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं।

इस दौरान लीज लाइन और लूप लाइन की इंटरनेट की सेवाएं भी नहीं चलेंगी। इसके अलावा नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शन को देखते हुए सहारनपुर में रविवार रात 12 बजे से इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गईं।

उधर, देर रात राजधानी लखनऊ में करीब 500 छात्रों ने सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किया और जाम लगा दिया। छात्रों को नियंत्रण में रखने के लिए पुलिस को लाठी चलानी पड़ी।

दरअसल किसी ने सोशल मीडिया पर जामिया मिलिया विवि में हुए बवाल को लेकर तरह-तरह के मैसेज चला दिए। व्हाट्एप पर किसी ने पुलिस की गोली लगने से एक छात्र की मौत का मैसेज चला दिया उसके बाद माहौल गर्म हो गया और छात्र सड़क पर उतर आए। अब प्रशासन प्रदर्शनकारियों की सीसीटीवी फुटेज तलाशकर उन पर एफआईआर दर्ज करने की तैयारी कर रही है।

नदवा कालेज में देर रात तक आस-पास की गलियों में छात्रों का जमावड़ा लगा रहा। सुरक्षा के लिहाज से वहां पर बड़ी संख्या में पुलिस और पीएसी तैनात की गई है। साथ ही गृह विभाग ने इन जिलों के जिलाधिकारी और एसपी को सतर्क रहने को कहा है।

रविवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों ने कैंपस के गेट पर बिल का जमकर विरोध किया था। इस दौरान प्रदर्शनकारी छात्रों की पुलिस के साथ झड़प भी हुई थी, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस और वटर कैनन का इस्तेमाल किया।

एएमयू के छात्रों ने यह विरोध प्रदर्शन दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया के पास हुए विरोध प्रदर्शन के तुरंत बाद किया था। विश्वविद्यालय प्रशासन ने तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए यूनिवर्सिटी को 5 जनवरी 2020 तक बंद करने का आदेश दिया है।

मुख्यमंत्री योगी ने बयान जारी कर कहा है कि नागरिकता संसोधन कानून के संदर्भ में कुछ निहित स्वार्थी तत्वों द्वारा फैलाई जाने वाली किसी भी अफवाह ध्यान न देने को कहा है। उन्होंने कहा सभी कानून का पालन करना पड़ेगा। अमन के माहौल को किसी को भी खराब करने की इजाजत नहीं है।

प्रादेशिक

प्रयागराज में अतीक अहमद के आलीशान आशियाने को किया गया जमींदोज़

Published

on

प्रयागराज। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ अतीक अहमद के अवैध साम्राज्य का खात्मा करके ही दम लेंगे। मंगलवार को अतीक अहमद के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई की गई। प्रशासन ने उसके चकिया स्थित तीन मंजिला आलीशान मकान को बुलडोजर चलवाकर खंडहर में तब्दील करवा दिया। चार बीघा जमीन पर बने इस मकान के ध्वस्तीकरण की कार्रवाई के दौरान पूरा इलाका छावनी में तब्दील रहा। मौके पर पुलिस के साथ ही पीएसी भी मौजूद रही।

पीडीए के जोनल अधिकारी सत शुक्ला के अनुसार, पूरा आवास अवैध रूप से निर्मित है, इसलिए पूरे आवास को गिराने की कार्रवाई की गई है। प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने चार माह पहले नोटिस दिया था। अतीक के आवास में दर्जनों कमरे बने होने की बात कही जा रही है।

पूर्व सांसद अतीक अहमद की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन और प्रयागराज प्राधिकरण के द्वारा अतीक अहमद की संपत्तियों को जब्त करने और ध्वस्त करने का काम लगातार जारी है।

माफिया अतीक अहमद के खिलाफ चल रही कार्रवाई के दौरान उसके वकील व परिजन घर में मौजूद थे। अतीक इस समय अहमदाबाद जेल में बंद है, जबकि उसका छोटा भाई पूर्व विधायक अशरफ बरेली जेल में है।

Continue Reading

Trending