Connect with us

प्रादेशिक

जामिया हिंसा पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, CJI बोले-अगर हिंसा नहीं रुकी तो हम…

Published

on

नई दिल्ली। जामिया कैंपस में हुए बवाल को लेकर छात्रों का मिडनाइट प्रोटेस्ट खत्म हो गया है। प्रोटेस्ट खत्म होने के बाद सभी छात्र धीरे-धीरे चले गए। जामिया कैंपस में हिंसा पर भारी तनाव है।

जामिया हिंसा का मामला सुप्रीम कोर्ट में CJI कोर्ट तक भी पहुंच चुका है। चीफ जस्टिस एस. ए. बोबड़े ने इस मामले में कहा है कि हम किसी को भी आरोपी नहीं बता रहे हैं, बस हम कह रहे हैं कि हिंसा रुकनी चाहिए। हम किसी के खिलाफ कुछ नहीं कह रहे हैं, हम ये भी नहीं कह रहे हैं कि पुलिस या छात्र निर्दोष हैं।

” आप छात्र हैं इसलिए आपको हिंसा का अधिकार नहीं मिलता है। अगर हिंसा नहीं रुकी तो वे इस मामले में सुनवाई नहीं करेंगे।” CJI ने आगे कहा।

पुलिस ने देर रात दिल्ली के कालकाजी पुलिस स्टेशन से 35 छात्रों को छोड़ दिया है, जबकि फ्रेंड्स कॉलोनी से 15 छात्रों को रिहा किया गया है। वहीं, कांग्रेस ने देर रात को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर छात्रों की पिटाई की निंदा की है और सरकार को घेरते हुए कहा कि इस मामले में प्रधानमंत्री क्यों चुप हैं ?

प्रादेशिक

प्रयागराज में अतीक अहमद के आलीशान आशियाने को किया गया जमींदोज़

Published

on

प्रयागराज। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ अतीक अहमद के अवैध साम्राज्य का खात्मा करके ही दम लेंगे। मंगलवार को अतीक अहमद के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई की गई। प्रशासन ने उसके चकिया स्थित तीन मंजिला आलीशान मकान को बुलडोजर चलवाकर खंडहर में तब्दील करवा दिया। चार बीघा जमीन पर बने इस मकान के ध्वस्तीकरण की कार्रवाई के दौरान पूरा इलाका छावनी में तब्दील रहा। मौके पर पुलिस के साथ ही पीएसी भी मौजूद रही।

पीडीए के जोनल अधिकारी सत शुक्ला के अनुसार, पूरा आवास अवैध रूप से निर्मित है, इसलिए पूरे आवास को गिराने की कार्रवाई की गई है। प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने चार माह पहले नोटिस दिया था। अतीक के आवास में दर्जनों कमरे बने होने की बात कही जा रही है।

पूर्व सांसद अतीक अहमद की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन और प्रयागराज प्राधिकरण के द्वारा अतीक अहमद की संपत्तियों को जब्त करने और ध्वस्त करने का काम लगातार जारी है।

माफिया अतीक अहमद के खिलाफ चल रही कार्रवाई के दौरान उसके वकील व परिजन घर में मौजूद थे। अतीक इस समय अहमदाबाद जेल में बंद है, जबकि उसका छोटा भाई पूर्व विधायक अशरफ बरेली जेल में है।

Continue Reading

Trending