Connect with us

प्रादेशिक

हादसे का शिकार हुईं उमा भारती, हिमालयन अस्पताल में भर्ती

Published

on

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती अपने उत्तराखंड दौरे पर हादसे का शिकार हो गईं। जानकारी के अनुसार उनके पैर के पंजे में माइनर फ्रैक्चर हो गया है। फिलहाल उन्हें हिमालयन हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

वरिष्ठ हड्डी रोग चिकित्सक डॉक्टर विजेंद्र चौहान और डॉ राजेश माहेश्वरी उनका इलाज कर रहे हैं। डॉक्टर ने देखरेख के लिए 24 घंटे तक हॉस्पिटल में ही रहने की सलाह दी है।

उमा भारती ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर अपने साथ घटी एक घटना की सिलसिलेवार ढंग से जानकारी दी है। बीजेपी नेता ने ट्विट कर कहा कि अयोध्या के फैसले के बाद मैं 10 तारीख को वापस कोटेश्वर पहुंची एवं वहां पर आसीन गंगा जी के साथ मैं पुनः गंगा प्रवास पर 11 तारीख को कोटेश्वर से चल पड़ी।

11 से लेकर रविवार तक मैंने आपसे कोई संवाद नहीं किया, मैं तो गंगा की सुंदरता एवं अलौकिकता से अभिभूत हूं। उन्होंने अपने तीसरे ट्विट में कहा कि, रविवार जब मैं ऋषिकेश से थोड़ा ऊपर गरुड़ चट्टी पहुंची वहां पर घने जंगलों के बीच में गंगा किनारे पर राम तपस्थली है वहीं पर हमारा आज एक दिन का ब्रेक था किंतु मंगलवार को ही एक ऐसी अनचाही घटना घटित हुई कि मुझे देहरादून के हिमालयन हॉस्पिटल में भर्ती होना पड़ा।

उमा भारती ने अपने चौथे ट्विट में बताया कि रविवार दोपहर के भोजन के बाद फिसल गई जिससे मेरे पांव में सूजन आई, रात में बहुत सूजन एवं दर्द बढ़ गया। आज सवेरे मुझे देहरादून के हिमालयन अस्पताल में जांच के लिए लाया गया, एक्स-रे से पता लगा है कि मेरे बाएं पांव के पंजे में दो जगह फैक्चर हुआ है तथा सिर में भी चोट लगी है।

साथ ही उन्होंने कहा कि योग्य डॉक्टरों की टीम ने मुझे अस्पताल से छोड़ा ही नहीं, अब मैं यहां अस्पताल में 24 घंटे के लिए भर्ती हूं, पांव में प्लास्टर चढ़ चुका है जो डेढ़ महीने तक रहेगा। उन्होंने जानकारी को लेकर कहा कि मैं आगे की बात बुधवार को बताऊंगी।

प्रादेशिक

कोरोना पॉजिटिव पत्रकार ने एम्स की चौथी मंजिल से छलांग लगाकर की आत्महत्या

Published

on

नई दिल्ली। दैनिक भास्कर में काम करने वाले पत्रकार तरुण सोसोदिया ने दिल्ली स्थित एम्स ट्रॉमा सेंटर की चौथी मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली। तरुण कोरोना पॉजिटिव थे और उनका इस अस्पताल में इलाज चल रहा था। बताया जा रहा है कि तरुण के ट्यूमर भी था लेकिन उनकी सर्जरी कामयाब हो गई थी।

बताया जा रहा है कि कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन में दैनिक भास्कर से कई पत्रकारों की नौकरी चली गई थी। वो भी इसी बात से चिंतित थे कही उनकी नौकरी भी न चली जाए।

तरुण उत्तर पूर्व दिल्ली के भजनपुरा में रहते थे। उनकी तीन साल पहली शादी हुई थी। उनकी दो बेटियां थीं। दूसरी बेटी का जन्म इसी साल अप्रैल में हुआ था।

#corona #coronavirus # dainikbhaskar #suicide

Continue Reading

Trending