Connect with us

उत्तराखंड

पर्यटन, कृषि, दुग्ध और वैकल्पिक ऊर्जा क्षेत्रों में बढ़ेगा निवेश का दायरा

Published

on

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में सिंगापुर, हांगकांग, मलेशिया और बड़े भारतीय उद्योगों के प्रतिनिधि मण्डल और शासन की सचिवों की बैठक हुई। प्रतिनिधि मण्डल में ऑर्गनिक तथा कान्ट्रेक्ट फार्मिंग, डेयरी, लाजिस्टिक, ऐग्रो प्रोसेसिंग, होम स्टे आदि क्षेत्र के विश्वस्तरीय निवेशक शामिल थे।

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह द्वारा निवेशकों को प्रदेश में संचालित औद्योगिक निवेश और नीतियों, प्रोत्साहन के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा निवेश का वातावरण बनाने के लिए पर्यटन, कृषि, दुग्ध, वैकल्पिक ऊर्जा आदि में नई नीतियां लाई गई हैं।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत जी के प्रभावी पहल पर प्रदेश सरकार ने विगत दो वर्षों में निवेश का वातावरण बनाने का प्रयास किया है, जिसमें विभिन्न देशों एवं राज्यों में प्रदेश में उद्योग स्थापना के लिए जानकारी दी गई। इसी क्रम में आज ऐग्रो प्रोड्क्ट एवं ऐग्रो प्रोसेसिंग, डेयरी, पर्यटन, ऊर्जा में निवेशकों के साथ चर्चा की जा रही है।

सचिव कृषि, दुग्ध एवं मत्स्य पालन विभाग मिनाक्षी सुन्दरम द्वारा ऐग्रो प्रोसेसिंग, कान्ट्रेक्ट फार्मिंग पर प्रदेश के परिपेक्ष्य में विस्तार से प्रकाश डाला गया।

सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर द्वारा प्रदेश में संचालित होमस्टे योजना पर विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने प्रस्तुतीकरण के दौरान होम स्टे योजना में दी जा रही सुविधाओं पर निवेशकों का ध्यान आकर्षित करते हुए बताया, कि प्रदेश में अनेक प्राकृतिक सौन्दर्य स्थल हैं, जहां पर होमस्टे योजना में कार्य करने की पर्याप्त संभावनाएं हैं।

उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा नये पर्यटन स्थल भी विकसित किये जा रहे हैं। उन्होंने रोजगार सृजन करने तथा स्थानीय युवाओं की आय के साधन विकसित करने की होमस्टे योजना के उद्देश्यों पर विस्तार से जानकारी दी।

निदेशक उद्योग सुधीर नौटियाल ने स्लाईड शो के माध्यम से प्रदेश में विभिन्न स्थलों में ऑर्गनिक फार्मिंग, पर्यटन, डेयरी, वैकल्पिक ऊर्जा आदि के क्षेत्र में निवेश की संभावनाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला गया तथा प्रदेश के बारे में विस्तार से जानकारी उपलब्ध कराई गई।

 

उत्तराखंड

उत्तराखण्ड बाल विधानसभा के सदस्यों से मिले सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत

Published

on

By

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से सोमवार को विधानसभा में उत्तराखण्ड बाल विधानसभा के सदस्यों ने शिष्टाचार भेंट की।

 

बाल अधिकारों के संरक्षण, बच्चों से संबंधित मुद्दों को विधानसभा में उठाने के उद्देश्य से उत्तराखण्ड में बाल विधानसभा बनाई गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि बच्चों का अपने अधिकारों के प्रति सचेत होना जरूरी है। इस तरह की प्रक्रियाओं से इन बच्चों को काफी सीखने को मिलेगा।

इस विधानसभा में  प्रदेश के सभी 13 जनपदों से 70 सदस्य हैं। जिसमें विधानसभा अध्यक्ष नमन जोशी, मुख्यमंत्री सृष्टि गोस्वामी एवं नेता प्रतिपक्ष आसिफ हसन हैं।

प्लान इण्डिया के प्रोजक्ट मैनेजर गोपाल थपलियाल ने बताया कि 2014 में पहली बाल विधानसभा का आयोजन देहरादून में किया गया। 2018 में तीसरी बाल विधानसभा का आयोजन किया गया।

उन्होंने बताया कि इस बार बच्चों में नशे की प्रवृत्ति को रोकने एवं बालिका सुरक्षा को फोकस किया जा रहा है। इन बच्चों ने आज विधानसभा की कार्यवाही को देखा।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending