Connect with us

प्रादेशिक

अब बाइक पर पीछे बैठने वाले को भी लगाना होगा हेलमेट, वर्ना कटेगा चालान

Published

on

लखनऊ। प्रदेश में दोपहिया वाहनों पर पीछे बैठने वालों के लिए भी अब हेलमेट पहनना अनिवार्य होगा। 1 नवंबर से यातायात माह की शुरुआत होगी। इस नियम को न मानने वाले वाहन चालकों का चालान किया जाएगा। इसके अलावा कार चालक के साथ-साथ बगल की सीट पर बैठने वाले को भी सीट बेल्ट लगानी होगी।

एक सितंबर से नया मोटर व्हीकल एक्ट पूरे देश में लागू है लेकिन, विरोध के चलते तमाम प्रदेशों में जुर्माने को लेकर छूट जारी है। उप्र सरकार भी करीब दो महीने से ऐसा कर रही है लेकिन, धीरे-धीरे लोग फिर बेपरवाह हो गए। नए एक्ट का उल्लंघन करने लगे। इसीलिए सरकार ने नए ट्रैफिक एक्ट के नियम सख्ती से लागू करने का फैसला लिया है।

नए एक्ट की धारा (129) के तहत चार वर्ष से अधिक की आयु वाला जो भी शख्स दोपहिया की सवारी कर रहा है, उसके लिए भी हेलमेट अनिवार्य है। वहीं, धारा (128) के तहत दो पहिया वाहन का चालक अपने अतिरिक्त एक से अधिक व्यक्ति को नहीं ले जाएगा।

अगर तीन बार किसी का चालान हो चुका है तो ऐसे वाहन मालिकों के घर जाकर यातायात कर्मी जुर्माना वसूलेंगें। साथ ही गाड़ी सीज करेंगे। फिर भी नियम तोड़ने पर लाइसेंस निरस्तीकरण की प्रक्रिया होगी।

प्रादेशिक

हापुड़: कोर्ट ने पेश की नज़ीर, रेप के दोषी को महज 22 दिन की सुनवाई में दी सजा

Published

on

हापुड़। हापुड़ में 6 साल की बच्ची के साथ रेप और अपहरण के दोषी को 22 दिन में सजा सुनाकर कोर्ट ने नजीर पेश की है। कोर्ट ने दोषी को उम्रकैद की सजा सुनाने के साथ ही 2 लाख रु का जुर्मना भी लगाया है। पांच दिन पहले दो दुष्कर्मियों को फांसी की सजा सुनाने वाली जिला एवं सत्र न्यायाधीश/विशेष न्यायाधीश(पाक्सो) वीना नारायण ने यह निर्णय दिया है।

मामला हापुड़ के थाना गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र का है जहां एक शख्स ने छह साल के बच्ची का अपहरण कर उसके साथ रेप किया था। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी को एनकाउंटर के बाद गिरफ्तार कर लिया था।

सोमवार को इस मुकदमे की सुनवाई करते हुए अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश/विशेष न्यायाधीश (पोक्सो अधिनियम) वीना नारायण ने दलपत सिंह को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है।

पुलिस ने इस मामले में 31 अगस्त को आरोपी के खिलाफ अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया। जिसके बाद सभी गवाहों के बयान दर्ज किए गए। सोमवार को अदालत ने महज 22 कार्य दिवस में सुनवाई पूरी कर एक नजीर पेश की है।

Continue Reading

Trending