Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

दोस्त की जान बचाने के लिए मगरमच्छ से भिड़ गई लड़की, और फिर….

Published

on

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली। जिम्बाब्वे से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे जानकर आप भी कांप उठेंगे। यहां 11 वर्षीय लड़की अपनी दोस्त की जान बचाने के लिए बिना कुछ सोचे समझे मगरमच्छ से भिड़ गई।

लड़की की यह दिलेरी काम आई और उसकी दोस्त की जान बच गई। दरअसल, 9 साल की लाटोया मुवानी अपने दोस्तों के साथ गांव के नज़दीक एक नदी में तैर रही थी, तभी एक मगरमच्छ ने उस पर हमला कर दिया।

मगरमच्छ उसे खींच कर पानी में ले जा रहा था कि तभी उसकी चीख सुनकर 11 वर्षीय दोस्त रेबेका मुंकोंब्वे ने मगरमच्छ की पीठ पर छलांग लगा दी। मगरमच्छ ने लाटोया का हाथ और पैर पकड़ रखा था।

यह देखकर रेबेका मगरमच्छ से भिड़ गई और उसकी आंख पर तबतक हमला करती रही जबतक मगरमच्छ की पकड़ ढीली नहीं हुई।

रेबेका मुंकोंब्वे ने मीडिया को बताया कि, “हम सब दोस्त गांव के पास नदी में तैर रहे थे। तभी मगरमच्छ ने लाटोया पर हमला कर दिया। बच्चों में सबसे बड़ी मैं थी। इसलिए उसे बचाने के लिए मैं नदी में कूद गई।”

रेबेका ने कहा, “मगरमच्छ ने लाटोया का हाथ और पैर जकड़ रखा था। आजाद होते ही मैं उसके साथ किनारे पर तैरकर आ गई. मगरमच्छ ने हम पर दोबारा हमला नहीं किया।”

अन्तर्राष्ट्रीय

रूस के राष्ट्रपति का एलान- हमने बना ली कोरोना की वैक्सीन, मेरी बेटी को लगा टीका

Published

on

मॉस्को। जब पूरी दुनिया में कोरोना जमकर कहर बरपा रहा है ऐसे में रूस से एक उम्मीद की किरण जगी है।
दरअसल रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने ऐलान किया है कि हमने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन बना ली है और इसे देश में रजिस्टर्ड भी करा लिया है। पुतिन ने बताया कि इस वैक्सीन का टीका उनकी बेटी को भी लगाया गया है। पुतिन ने कहा- मेरी बेटी ने भी इस वैक्सीन का टीका लिया है, शुरू में उसे हल्का बुखार था लेकिन अब वह बिलकुल ठीक है।

पुतिन ने कहा कि इस सुबह दुनिया में पहली बार, नए कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्‍सीन रजिस्‍टर्ड हुई।” उन्‍होंने उन सभी को धन्‍यवाद दिया जिन्‍होंने इस वैक्‍सीन पर काम किया है। पुतिन ने कहा कि वैक्‍सीन सारे जरूरी टेस्‍ट से गुजरी है। अब यह वैक्‍सीन बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए भेजी जाएगी।

रूसी अधिकारियों के मुताबिक, Gam-Covid-Vac Lyo नाम की इस वैक्सीन को तय योजना के मुताबिक रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय और रेग्युलेटरी बॉडी का अप्रूवल मिल गया है। बताया जा रहा है कि इस वैक्सीन को सबसे पहले फ्रंटलाइन मेडिकल वर्कर्स, टीचर्स और जोखिम वाले लोगों को दिया जाएगा। रूस ने कई देशों को भी वैक्‍सीन सप्‍लाई करने की बात कही है। रूस का कहना है कि वह अपने कोरोना टीके का बड़े पैमाने पर उत्‍पादन सितंबर से शुरू कर सकता है।

Continue Reading

Trending