Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

लखवी की रिहाई पर अमेरिका चिंतित, इजराइल ने भी नाराजगी जताई

Published

on

lakhvi

वाशिंगटन। मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड जकीउर रहमान लखवी की रिहाई पर चिंता व्यक्त करते हुए अमेरिका ने पाकिस्तान को आतंकवादी हमले के दोषियों को सजा देने की प्रतिबद्धता का पालन करने को कहा है। विदेश विभाग के प्रवक्ता जेफ रैथके ने कहा कि हम मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड लखवी को रिहा करने पर गंभीर रूप से चिंतित हैं। नई दिल्ली में मौजूद इजराइल के राजदूत डेनियल कारमन ने भी मुंबई में 26 नवंबर 2008 को हुए आतंकवादी हमलों के मास्टरमाइंड जकीउर रहमान लखवी की रिहाई पर हैरानी और नाराजगी जताई है। इजराइल ने इसे आतंकवाद के खिलाफ युद्ध के अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों के लिए दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता जेफ रैथके ने कहा कि अमेरिका इस मुद्दे पर पिछले कई महीनों से पाकिस्तान के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बात कर रहा है और कल भी इस विषय पर बात की गई है। उन्होंने पाकिस्तान से मुंबई हमले के दोषियों को सजा देने की प्रतिबद्धता का पालन करने का आग्रह किया। रैथके ने कहा, “आतंकवादी हमले सभी देशों की सामूहिक सुरक्षा व बचाव पर एक हमला है।”

लाहौर उच्च न्यायालय द्वारा लखवी की हिरासत रद्द कर तुरंत रिहाई का निर्देश देने के एक दिन बाद शुक्रवार को उसे रावलपिंडी की अदियाला जेल से रिहा कर दिया गया था। प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान ने मुंबई आतकंवादी हमले के दोषियों, उन्हें आर्थिक मदद करने वालों और उनके प्रायोजकों को न्याय के कटघरे में खड़ा करने में सहयोग का संकल्प लिया था। उन्होंने कहा कि हम पाकिस्तान से इस आतंकवादी हमले में मारे गए 166 निर्दोष लोगों के लिए न्याय सुनिश्चित करने की दिशा में प्रतिबद्धता का पालन करने का आग्रह करते हैं। इस हमले में छह अमेरिकी नागरिकों की भी मौत हुई थी। यह पूछे जाने पर कि क्या इस फैसले से पाकिस्तान पर कोई प्रभाव पड़ेगा, रैथके ने कहा कि अमेरिका ने पाकिस्तान के समक्ष अपनी चिंता व्यक्त की है। लेकिन वह किसी तरह के परिणामों और नतीजों का अनुमान नहीं लगा सकते। रैथके ने कहा, “यह पिछले कुछ घंटों में ही हुआ है। इसलिए यकीनन, हम इस घटना पर नजर रखेंगे और फैसला लेंगे कि इसके क्या परिणाम निकलते हैं।”

दूसरी ओर नई दिल्ली में इजराइली राजदूत डेनियल कारमन ने कहा, “इजराइल, मुंबई हमलों के मास्टमाइंड जकीउर रहमान लखवी की रिहाई पर हैरान हो निराश है। उस घातक हमले में यहूदी सेंटर-नरीमन हाउस में इजराइली नागरिकों को भी शिकार बनाया गया था। यह रिहाई आतंकवाद के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है, जिसमें इजराइल और भारत करीबी साझेदार हैं।

अन्तर्राष्ट्रीय

म्यांमार में बड़ी प्राकृतिक आपदा, बारिश के बाद खदान धंसने से 113 मजदूरों की मौत

Published

on

यंगून| म्यांमार के कचिन राज्य में गुरुवार को एक हरिताश्म खनन क्षेत्र में भूस्खलन की चपेट में आने के बाद करीब 113 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य लोगों के लापता होने की सूचना है। लोगों ने बताया कि भारी बारिश के बाद कीचड़ का एक बड़ा सैलाब लहर की तरह आया जिसके नीचे पत्थर इकट्ठा कर रहे लोग दब गए| म्यांमार में दुनिया में सबसे अधिक जेड पत्थर या हरिताश्म यानी हरे रंग के कीमती रत्न पाए जाते हैं|

सूचना मंत्रालय के एक स्थानीय अधिकारी टार लिन माउंग ने कहा कि अभी तक हमने 100 से अधिक शव बरामद किए हैं। अभी और शव कीचड़ में फंसे हुए हैं। मृतकों की संख्या बढ़ने वाली है। इस इलाके में पिछले एक हफ्ते से भारी बारिश हो रही है जिससे बचाव कार्य में भी परेशानी पैदा हो रही है।

बता दें कि जेड की इन खदानों में पहले भी भूस्खलन से कई लोगों की मौत हो चुकी है। हादसे के प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि उन्होंने लोगों को मलबे के एक ढेर पर देखा जो ढहने के कगार पर था। थोड़ी ही देर बाद पहाड़ी से पूरा मलबा भरभराकर नीचे आ गिरा। जिसकी चपेट में आने से सैकड़ों लोग मारे गए।

#myanmar #death #mine

Continue Reading

Trending