Connect with us

प्रादेशिक

सिरफिरे युवक युवती ने पुलिस चौकी के सामने लहराए तमंचे

Published

on

मथुरा। केन्द्र सरकार की नीतियों के खिलाफ बुधवार को एक युवक और युवती तीन मासूम बच्चों के साथ सिविल लाइन चौकी के सामने पहुंचे जमकर हंगामा काटा।

दोनों के हाथ में पिस्टल व तमंचा था। इससे पहले कि लोग कुछ समझ पाते युवक ने अपनी पिस्टल से अपनी ही गाड़ी के पेट्रोल टैंक में गोली मार दी, जिससे गाड़ी में आग लग गई। दोनों के हाथों में पिस्टल व तमंचे थे और लोगों को धमकी दे रहे थे कि अगर कोई पास आया तो वह गोली मार देंगे। उसने हवाई फायर भी किए। संविधान की कॉपी को जलाया, जिससे लोगों में दहशत फैल गई।

सूचना पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर, एसपी सिटी, एसपी ग्रामीण, सीओ सिटी, सीओ रिफाइनरी, सीओ ट्रेफिक सहित काफी संख्या में फोर्स मौके पर पहुंच गया। वकीलों ने सूझबूझ से इस सिरफिरे युवक व युवती को पकड़ लिया और पुलिस को सौंप दिया। इस दौरान गाड़ी जलकर पूरी तरह खाक हो गई। फायर बिग्रेड की गाडियों ने आग पर काबू पाया। पुलिस दोनों से पूछताछ कर रही है। दोनों बिजनेस पार्टनर बताए गए।

पूछताछ में युवक ने अपना नाम शुभम चौधरी पुत्र विक्रम सिंह निवासी राधाटाउन रिफाइनरी बताया। उसने महिला का नाम अंजुला शर्मा पत्नी दिनेश शर्मा निवासी यमुना एंक्लेव लक्ष्मीनगर यमुनापार बताते हुए कहा कि यह तीनों बच्चे अंजुला के हैं। उसने इनके नाम वंशू 9 वर्ष, यशु 3 वर्ष, सक्षम 6 माह बताए। कहा कि हम दोनों बिजनेस पार्टनर हैं। एक मल्टीनेशनल कंपनी में मार्केटिंग का कार्य करते हैं। उसने यह भी बताया कि 17 नवंबर को उसकी शादी होने वाली थी, लेकिन अंजुला के ससुरालियों ने हम दोनों के बारे में गलत सूचनाएं मेरी ससुराल वालों को दे दी, जिससे मेरी शादी टूट गई।

पुलिस से भी शिकायत की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। पहले मैं प्रोपर्टी का कार्य करता था, लेकिन नोटबंदी के बाद मेरा सारा कारोबार चौपट हो गया। इस वक्त भ्रष्टाचार का बोलबाला है। कहीं किसी कि कोई सुनने वाला नहीं। अंधेर नगरी चौपट राजा वाली कहानी चरितार्थ हो रही है।

रिपोर्ट – द्वारकेश बर्मन

प्रादेशिक

Breaking: महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन

Published

on

मुंबई। महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है। बुधवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्यपाल की सिफारिश पर मुहर लगाते हुए राज्य में राष्ट्रपति शासन की मंजूरी दे दी है। जानकारी के मुताबिक राष्ट्रपति शासन लगने के बाद राजभवन की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

आपको बता दें कि बीते मंगलवार शिवसेना द्वारा सरकार बनाने का दावा पेश नहीं कर पाने के बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने एनसीपी को सरकार बनाने का न्योता दिया था।

लेकिन करीब साढ़े ग्यारह बजे एनसीपी द्वारा राज्यपाल को पत्र लिखकर थोड़ा और समय मांगा गया जिसके बाद  राज्यपाल ने अपने विवेक से केंद्र सरकार को राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश कर दी।

कैबिनेट मीटिंग में राज्यपाल की सिफारिश की केंद्र सरकार ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से अनुशंसा कर दी जिसके बाद राष्ट्रपति ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की मंजूरी दे दी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending