Connect with us

नेशनल

नहीं रहे भारत के मशहूर वकील राम जेठमलानी, 95 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

Published

on

नई दिल्ली। भारत के जानेमाने वकील वकील राम जेठमलानी का रविवार को 95 साल की उम्र में निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार थे।

उम्र संबंधी बीमारियों की वजह से वह पिछले एक हफ्ते से बेड से भी नहीं उठ पा रहे थे। बीमारी की वजह से वह काफी कमजोर हो गए थे। उनके बेटे महेश ने बताया कि उनके पिता (राम जेठमलानी) का अंतिम संस्कार आज शाम लोधी रोड श्मशान में किया जाएगा।

पीएम मोदी ने जताया दुख

राम जेठमलानी के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुख जताया है। ट्विटर पर पीएम मोदी ने जेठमलानी को श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया, राम जेठमलानी जी के निधन से, भारत ने एक असाधारण वकील और प्रतिष्ठित सार्वजनिक व्यक्ति को खो दिया। राम जेठमलानी ने न्यायालय और संसद दोनों में समृद्ध योगदान दिया है। वह मजाकिया, साहसी और कभी भी किसी भी विषय पर साहसपूर्वक बोलने से नहीं कतराते थे।

पीएम मोदी ने कहा, श्री राम जेठमलानी जी के सबसे अच्छे पहलुओं में से एक उनके मन की बात कहने की क्षमता थी और, उन्होंने बिना किसी डर के ऐसा किया। आपातकाल के काले दिनों के दौरान, उनकी स्वतंत्रता और सार्वजनिक स्वतंत्रता के लिए लड़ाई को याद किया जाएगा. जरूरतमंदों की मदद करना उनके व्यक्तित्व का एक अभिन्न हिस्सा था।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, मैं खुद को सौभाग्यशाली मानता हूं कि मुझे राम जेठमलानी के साथ बातचीत करने के कई अवसर मिले। इन दुखद क्षणों में उनके परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदना।

 

नेशनल

पीएम मोदी पहुंचे कानपुर, नमामि गंगे पर करेंगे समीक्षा बैठक

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विशेष विमान से कानपुर के चकेरी एयरपोर्ट पर उतरे, जहां पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उनके मंत्रिमंडल के सहयोगियों और केंद्रीय मंत्रियों ने उनका स्वागत किया।

प्रधानमंत्री चकेरी एयरपोर्ट पर उतरने के बाद हेलीकॉप्टर से चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय पहुंच गए हैं। यहां पर सबसे पहले चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर नमन किया। इसके बाद उन्होंने नमामि गंगे मिशन के तहत लगी प्रदर्शनी का अवलोकन किया।

मोदी आज यहां गंगा परिषद (राष्ट्रीय गंगा परिषद) के राष्ट्रीय कायाकल्प, संरक्षण और प्रबंधन की पहली बैठक की अध्यक्षता करेंगे। शनिवार को यहां चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय परिसर बैठक में गंगा की निर्मलता और अविरलता पर मंथन किया जाएगा।

इस बैठक में दो राज्यों उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री, बिहार, उप्र के उप मुख्यमंत्री, केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के अलावा गंगा किनारे स्थित सभी पांच राज्यों के कई मंत्री, मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और एनएमसीजी के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्र सहित 40 से अधिक प्रमुख लोग मौजूद रहेंगे।

बैठक में पांच राज्यों उप्र, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल में गंगा की स्थिति को लेकर मंथन किया जाएगा। इन प्रदेशों में गंगा को निर्मल और अविरल बनाने के लिए अभी तक जो भी कार्य हुए हैं, मोदी उनकी समीक्षा करेंगे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending