Connect with us

प्रादेशिक

पेड़े की वजह से बेहोश हो गए थे पतंजलि के सीईओ बालकृष्ण

Published

on

नई दिल्ली। पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ बालकृष्ण की तबीयत शुक्रवार को अचानक खराब हो गई जिसके बाद उन्हें पास के भूमानंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन डॉक्टरों के उनकी गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें तुरंत एम्स रेफर कर दिया।

बालकृष्ण की तबीयत बिगड़ने पर सोशल मीडिया पर अफवाहें उड़ने लगी कि बालकृष्ण को दिल का दौरा पड़ा है, लेकिन अब इस मामले में नया मोड़ आ गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक किसी व्यक्ति ने उन्हें पेड़ा लाकर दिया था जिसको खाने के बाद बालकृष्ण बेहोश हो गए और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

पतंजलि की तरफ से एसकेजी तिजरावाला ने पक्ष रखते हुए कहा कि अभी बालकृष्ण की हालत में सुधार है। उन्होंने कहा, ‘बाबा रामदेव ने आचार्य बालकृष्ण के स्वास्थ्य लिए चिंता जताने वाले करोड़ों लोगों का आभार जताते हुए कहा कि जन्माष्टमी पर एक व्यक्ति पेड़ा लेकर आया था, जिसे खाने के बाद वो बेहोश हो गए। हालांकि, अब स्थिति सामान्य हो रही है.’

उन्होंने आगे बताया कि एम्स द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन में कहा गया है कि उनके स्वास्थ्य के प्रमुख पैरामीटर सामान्य हैं। एम्स के मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक बालकृष्ण का ब्लड प्रेशर, ईसीजी और इको आदि जांच की रिपोर्ट नॉर्मल है।

 

प्रादेशिक

कुलदीप सेंगर की विधानसभा सदस्यता खत्म, अधिसूचना जारी

Published

on

लखनऊ। उन्नाव से विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की विधानसभा सदस्यता समाप्त कर दी गई है। इस बारे में उत्तर प्रदेश विधानसभा सचिवालय ने अधिसूचना जारी कर दी है।

विधानसभा के प्रमुख सचिव प्रदीप कुमार दुबे की ओर से जारी की गई अधिसूचना में सेंगर की सदस्यता उस दिन से ही समाप्त की गई थी, जिस दिन उसे सजा सुनाई गई थी।

अधिसूचना के मुताबिक 20 दिसंबर 2019 से उन्नाव जिले की बांगरमऊ विधानसभा सीट को रिक्त घोषित किया गया है। सेंगर उन्नाव दुष्कर्म मामले में आजीवन करावास की सजा भुगत रहे हैं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने दुष्कर्म का आरोप लगने पर सेंगर को पार्टी से बाहर कर दिया था। इससे बांगरमऊ विधानसभा सीट रिक्त हो गई है। इस सीट पर उपचुनाव होगा।

लेकिन, इसकी तिथि का ऐलान अभी होना बाकी है। कुलदीप सिंह सेंगर की विधानसभा सदस्यता 20 दिसंबर 2019 से ही खत्म मानी जाएगी। इसी दिन सेंगर को सजा सुनाई गई थी।

गौरतलब हो कि कुलदीप सिंह सेंगर पर आरोप है कि 2017 में उसने एक नाबालिग युवती को अगवा कर दुष्कर्म किया। सेंगर पर आरोप लगाने वाली महिला की कार को जुलाई में एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी, जिसमें वह गंभीर रूप से जख्मी हो गई थी।

दुर्घटना में महिला की दो रिश्तेदार मारी गईं और उसके परिवार ने इसमें षड्यंत्र होने के आरोप लगाए थे। फिलहाल, सेंगर तिहाड़ जेल में बंद है।

सामूहिक दुष्कर्म के दो साल पुराने मामले में दोषी कुलदीप सिंह सेंगर (53) को दिल्ली की एक कोर्ट ने 20 दिसंबर को उम्रकैद की सजा सुनाई। कोर्ट ने कहा कि उसे मृत्यु तक जेल में रखा जाए। सेंगर पर 25 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया था।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending