Connect with us

नेशनल

अरुण जेटली की हालत नाजुक, राष्ट्रपति मिलने पहुंचे एम्स

Published

on

नई दिल्ली। लंबे समय से बीमार पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत नाजुक बनी हुई है। जेटली को 9 अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जेटली के फेफड़ों में पानी जमा हो रहा है, जिसकी वजह से उन्हें सांस लेने में दिक्कत आ रही है। जानकारी के मुताबिक उनके फेफड़े से बार-बार पानी निकाला जा रहा है लेकिन उनमें फिर से पानी जमा हो जा रहा है।

एम्स की ओर से आखिरी बार जारी किए बयान के मुताबिक जेटली को हेमोडायनैमिकली स्टेबल बताया गया था। इसका मतलब है कि उनका ब्लड प्रेशर और पल्स रेट ठीक से काम कर रही है। हालांकि पिछले शुक्रवार के बाद से एम्स की तरफ से कोई बयान जारी नहीं हुआ है।

शुक्रवार को उनका हाल जानने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद एम्स पहुंचे। वहां उन्होंने पूर्व वित्त मंत्री का हाल जाना। सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी आज जेटली से मिलने एम्स आएंगे।

आपको बता दें कि अरुण जेटली लंबे समय से डायबिटीज से पीड़ित हैं जिसके चलते उनका किडनी ट्रांसप्लांट भी हो चुका है। कुछ समय पहले उनकी सॉफ्ट टिशू कैंसर बीमारी के बारे में पता चला था। जानकारी के अनुसार जेटली ने मोटापे से छुटकारा पाने के लिए बैरिएट्रिक सर्जरी भी कराई है।

नेशनल

कपिल सिब्बल का मोदी सरकार पर पलटवार, बोले-आपने वाजपेयी की नहीं सुनी हमारी क्या सुनेंगे

Published

on

दिल्ली में हुई हिंसा पर कांग्रेस और केंद्र सरकार के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के कांग्रेस पार्टी पर दिए बयान पर कपिल सिब्बल ने पलटवार किया है।

कपिल सिब्बल ने शनिवार को एक ट्वीट किया, ‘कानून मंत्री कांग्रेस से कहते हैं कि प्लीज, हमें राजधर्म न सिखाएं। हम कैसे आपको सिखा सकते हैं मंत्री महोदय। जब आपने गुजरात में वाजपेयी जी की नसीहत नहीं सुनी, आप हमें क्यों सुनेंगे। सुनना, सीखना और राजधर्म का पालन करना आपके मजबूत बिंदुओं में से एक नहीं है।’

दरअसल साल 2002 में जब गुजरात में दंगे भड़के थे, तब तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने उस वक्त के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी से राजधर्म का पालन करने को कहा था।

गुजरात दंगों में सैकड़ों लोग मारे गए थे। बता दें कि दिल्ली हिंसा के बाद कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने राष्ट्रपति से मुलाकात कर राष्ट्रपति से अपील की थी वह केंद्र सरकार से राजधर्म का पालन कराएं और गृह मंत्री अमित शाह को हटाने के लिए कदम उठाएं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending