Connect with us

नेशनल

चिदंबरम ने की पीएम मोदी की जमकर तारीफ, कह दी ये बड़ी बात

Published

on

नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हमेशा आलोचना करने वाले पूर्व गृहमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने इस बार सबको चौंकाते हुए पीएम मोदी की जमकर तारीफ की है।

शुक्रवार को पी. चिदंबरम ने कहा कि जनसंख्या विस्फोट, सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करने और संपत्ति सृजित करने वालों का सम्मान करने को लेकर प्रधानमंत्री के विजन की सराहना की जानी चाहिए।

उन्होंने ट्वीट कर कहा, “स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री द्वारा की गई तीनों घोषणाओं का हम सभी को स्वागत करना चाहिए – छोटा परिवार रखना देशभक्ति वाला कर्तव्य है, संपत्ति सृजित करने वालों का सम्मान करें और सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करे।”

पूर्व वित्त मंत्री ने कहा, “मैं आशा करता हूं कि इन तीनों बातों में से वित्त मंत्री और उनके कर अधिकारियों और जांचकर्ताओं की टीम ने प्रधानमंत्री के दूसरे उद्बोधन को जोर से और स्पष्ट रूप से सुना होगा।”

जनसंख्या विस्फोट और सिंगल यूज प्लास्टिक के उन्मूलन के संदर्भ में चिदंबरम ने कहा, “पहली और तीसरी उद्घोषणाएं लोगों के मूवमेंट का जरूर हिस्सा बननी चाहिए। सैकड़ों समर्पित स्वयंसेवक संगठन हैं जो स्थानीय स्तरों पर इन अभियानों की अगुवाई करने के लिए तैयार हैं।”

लाल किले की प्राचीर से मोदी के स्वतंत्रता दिवस भाषण के एक दिन बाद चिदंबरम की यह टिप्पणी सामने आई है। मोदी ने कहा था कि जनसंख्या विस्फोट हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए कई समस्याएं पैदा करेगा।

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कहा था, “लेकिन जनता का एक जागरूक तबका है, जो एक बच्चे को दुनिया में लाने से पहले सोचता है कि क्या वे बच्चे के साथ न्याय कर सकते हैं, क्या उन्हें वह सब दे सकते हैं जो बच्चा चाहता है या चाहती है। जिनका एक छोटा परिवार है, वह भी एक तरह से अपनी देशभक्ति व्यक्त करते हैं। आइए उनसे सीखते हैं। सामाजिक जागरूकता की आवश्यकता है।”

संपत्ति सृजन करने वालों के बारे में मोदी ने कहा कि धन सृजन एक महान राष्ट्रीय सेवा है।

सिंगल यूज वाले प्लास्टिक के उन्मूलन के बारे में, मोदी ने कहा कि ये पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा हैं और कहा कि 2 अक्टूबर तक एक महत्वपूर्ण कदम सामने आना चाहिए।

नेशनल

रेलवे में ख़त्म होगा खलासी सिस्टम, नहीं होंगी नई भर्तियां

Published

on

नई दिल्ली। अगर आप भी भारतीय रेलवे में नौकरी करने का सपना संजोए हुए हैं तो आपके लिए बुरी खबर है। दरअसल रेलवे अपने वरिष्ठ अधिकारियों के आवास पर काम करने वाले ‘बंगला पियुन’ या खलासियों की नियुक्ति की औपनिवेशिक काल की प्रणाली को समाप्त करने की तैयारी कर रहा है और इस पद पर अब कोई नई भर्ती नहीं की जाएगी। रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में बृहस्पतिवार को आदेश जारी किया।

रेलवे बोर्ड ने आदेश में कहा है कि टेलीफोन अटेंडेंट सह डाक खलासी (TADK) संबंधी मामले की समीक्षा की जा रही है. आदेश में कहा गया है, ‘टीएडीके की नियुक्ति संबंधी मामला रेलवे बोर्ड में समीक्षाधीन है इसलिए यह फैसला किया गया है कि टीएडीके के स्थानापन्न के तौर पर नए लोगों की नियुक्ति की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ाई जानी चाहिए और न ही तत्काल नियुक्ति की जानी चाहिए।

आदेश में कहा गया है, ‘इसके अलावा, एक जुलाई 2020 से इस प्रकार की नियुक्तियों को दी गई मंजूरी के मामलों की समीक्षा की जा सकती है और इसकी स्थिति बोर्ड को बताई जाएगी। इसका सभी रेल प्रतिष्ठानों में सख्ती से पालन किया जाए।

#indianrailways #india #centralgovernment

Continue Reading

Trending