Connect with us

प्रादेशिक

ऐश्वर्या राय ने किया बड़ा खुलासा, कहा-पति को है गांजे की बुरी लत

Published

on

नई दिल्ली। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव पर उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय ने गंभीर आरोप लगाए हैं। ऐश्वर्या ने तेजप्रताप के बारे में बताया कि उन्हें गांजा पीने की लत है।

तेजप्रताप के बारे में ये बातें ऐश्वर्या ने अदालत में चल रहे तलाक के मामले में अपने जवाब में कही हैं। बता दें, शादी के कुछ ही महीनों बाद ऐश्वर्या ने अदालत में अपने पति तेजप्रताप से तलाक के लिए अर्जी दाखिल कर दी थी।

ऐश्वर्या राय ने धारा 26 (महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा अधिनियम, 2005) के तहत फैमिली कोर्ट से सुरक्षा की मांग भी की है। ऐश्वर्या ने दावा किया है कि शादी के बाद उन्हें तुरंत ही इस बात का पता चल गया कि उनके पति ड्रग्स लेते हैं।

ड्रग्स के नशे में वो कई बार भगवान शिव के अवतार भी बनते हैं। ऐश्वर्या की तरफ से कहा गया है कि तेजप्रताप राधा और भगवान कृष्ण के कपड़े पहनकर भगवान की तरह दिखने की कोशिश करते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं ड्रग्स लेने के बाद तेजप्रताप यादव घाघरा-चोली पहन कर बालों में विग लगाते हैं और राधा बनते हैं।

अदालत में दाखिल किए गए जवाब में ऐश्वर्या ने आगे बताया कि इस बात को लेकर वो अपनी सास राबड़ी देवी और ननद से कई बार बात की लेकिन उनके व्यवहार में कोई बदलाव नहीं आया।

ऐश्वर्या ने कहा कि जब उन्होंने तेजप्रताप से कहा कि वो गांजा ना पियें तो उन्होंने उनसे कहा था कि गांजा तो भोले बाबा का प्रसाद है, उसको कैसे मना करें? ऐश्वर्या के मुताबिक उनके पति उनसे कहते थे कि वो सिर्फ खाना बनाने और परिवार चलाने के लिए ही हैं।

प्रादेशिक

स्मार्ट सिटी परियोजना के लिए सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उठाया ये बड़ा कदम

Published

on

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को सचिवालय में स्मार्ट सिटी परियोजना के अन्तर्गत हरिद्वार रोड, देहरादून स्थित उत्तराखण्ड के परिवहन निगम के वर्कशॉप परिसर में इंटीग्रेटेड ग्रीन बिल्डंग स्थापित किए जाने के सम्बन्ध में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक व परिवहन मंत्री यशपाल आर्य के साथ अधिकारियों की बैठक ली है।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत लोगों को सरकारी सुविधाएं एक ही स्थान पर मिल सके इसके लिए परिवहन निगम के वर्कशॉप परिसर में इंटीग्रेटेड ग्रीन बिल्डंग स्थापित की जाएगी। यह एक तरह का डिस्ट्रिक सचिवालय होगा।

इस परिसर में कलक्ट्रेट, विकास भवन, परिवहन निगम के मुख्यालय सहित कुल 25 विभागों के कार्यालय स्थापित किए जाएंगे।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने परिवहन निगम की इस भूमि की प्रतिपूर्ति के लिए मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में एक समिति बनाने के निर्देश दिए। समिति एक प्रस्ताव बनाकर मुख्यमंत्री को सौंपेगी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending