Connect with us

प्रादेशिक

लखनऊ में बाबा साहब द्वितीय पत्रकारिता प्रशिक्षण कार्यशाला हुई शुरू, वरिष्ठ पत्रकारों ने रखे अपने विचार

Published

on

लखनऊ। साप्ताहिक अखबार निष्पक्ष दिव्य संदेश के तत्वावधान में हुई बाबा साहब द्वितीय पत्रकार प्रशिक्षण कार्यशाला में उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के चेयरमैन डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल ने कहा कि पत्रकारिता में समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के मुद्दो को वरीयता मिलनी चाहिए। मीडिया में दलितों की सहभागिता बढ़नी चाहिए। पत्रकारिता प्रशिक्षण कार्यशाला के उद्घाटन के दौरान लखनऊ के कई पत्रकारों ने भी विचार रखे।

वरिष्ठ पत्रकार डा.चंद्र सेन वर्मा ने कहा कि तकनीक ने पत्रकारिता की दशा दिशा बदल दी है। मीडिया का स्वरूप तेजी से बदला है। अब डिजिटल मीडिया का जमाना है। इसकी स्वीकार्यता तेजी से बढ़ रही है।

के न्यूज के संपादक प्रदीप विश्वकर्मा ने कहा कि आज पत्रकारिता में विश्वास का संकट बढ़ता जा रहा है। विमर्श और तथ्यों का अभाव है। एक समय था कि पत्रकारिता में नए नए नवाचार होते थे। इस दिशा में काम किए जाने की जरूरत है। पत्रकार अनुराग यादव ने डिजिटल मीडिया पर अपने विचार रखे।

उन्होंने कहा कि आज सूचना की रफ्तार बहुत ज्यादा है। ऐसे में डिजिटल मीडिया की आवश्यकता बहुत ज्यादा है। यदि कंटेंट आपका अच्छा है तो वह प्रिंट से अधिक डिजिटल पर देखा जाता है। डिजिटल से हम करोड़ों लोगों तक एक ही मिनट में पहुंच सकते हैं। पत्रकार मनोज मिश्रा ने कहा कि हमें पत्रकारिता को और विश्वसनीय बनाना होगा।

पत्रकार के उनका विषय अहम होता है। ऐसे में आप जिस भी विधा की रिपोर्टिंग करते हैं, उसकी गहराई को जानें।  समाजसेवी और प्रखर वक्ता ताहिरा हसन ने भी अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि आज आंबेडकर को पत्रकारिता में उतारने की जरूरत है। हाशिए के तबके की रिपोर्टिंग नहीं हो रही है। उनके मुद्दे गायब हैं। हमें ऐसे लोगों को खोज कर लाना होगा जो विकास की मुख्य धारा से बहुत पीछे छूट गए हैं।

अपर महानिदेशक पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार लखनऊ अरिमर्दन सिंह ने भी विचार रखे। उन्होंने कहा कि निष्पक्ष पत्रकारिता एक चुनौती है, लेकिन इस चुनौती को स्वीकार करना ही होगा। विश्वसनीयता सबसे अहम है। यदि आपकी खबरों में विश्वसनीयता नहीं है, तो यह घातक है। पूर्व वित्त मंत्री के.के.गौतम ने कहा कि मीडिया मनी रोग से ग्रसित है। इस रोग के कारण मीडिया की छवि धूमिल होति है। दूरदर्शन के पूर्व निदेशक प्रभु झींगरन ने भविष्य की मीडिया के बारे में प्रकाश डाला। बाबा साहेब आंबेडकर प्रशिक्षण कार्यशाला का समापन 4 अगस्त को होगा। इस कार्यशाला में विभिन्न स्कूल और कॉलेजों से सैकड़ों छात्र और छात्राएं प्रशिक्षण के लिए आ रहे हैं। ग्रैंडियर थर्ड 302 अपार्टमेंट में चल रहे कार्यशाला में अनुभवी पत्रकार भी अपने अनुभव साझा करेंगे।

प्रादेशिक

दिल्लीः शाहीन बाग में तिरंगा फहराकर मनाया गया गणतंत्र दिवस

Published

on

नई दिल्ली। आज के दिन पूरा देश गणतंत्र दिवस मना रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार सुबह भारत के 71वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर देशवासियों को हार्दिक बधाई दी। प्रधानमंत्री ने ट्वीट में लिखा, “सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत बधाई। जय हिन्द!”

इस बीच गणतंत्र दिवस पर दिल्ली के शाहीन बाग में भी तिरंगा फहराया गया है। यह तिरंगा शाहीन बाग में उस जगह फहराया गया है, जहां पिछले करीब डेढ़ महीने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स (NRC) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। गणतंत्र दिवस के मौके पर पूरे इलाके को तिरंगे के रंग से सजाया गया। बता दें कि धरने पर बैठे लोग लगातार नागरिकता संशोधन कानून, एनआरसी और एनपीआर का विरोध कर रहे हैं। लोग सीएए कानून को वापस लिए जाने की मांग कर रहे हैं।

एक तरफ जहां शाहीन बाग में लगातार सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चल रहा है, तो दूसरी तरफ केंद्र सरकार इस कानून को लेकर सख्त है। गृहमंत्री अमित शाह ने साफ कर दिया है कि वह इस कानून को वापस नहीं लेंगे, जिसे विरोध करना है करे।

गौरतलब है कि शाहीन बाग में 15 दिसंबर से ही बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलाएं धरने पर बैठी हैं। ये महिलाएं नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी का लगातार विरोध कर रही हैं। इनका कहना है कि ये कानून उनके साथ भेदभाव करता है। वे पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से इस कानून को वापस लेने की मांग कर रही हैं। हालांकि, अमित शाह ने पिछले दिनों कहा था कि सरकार इस मुद्दे पर पीछे नहीं हटेगी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending