Connect with us

आध्यात्म

आज लगने जा रहा सदी का सबसे बड़ा चंद्रग्रहण, दुष्प्रभावों से बचने के लिए करें ये उपाय

Published

on

नई दिल्ली। सदी का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण आज यानि मंगलवार को लगने जा रहा है। इस बार चंद्र ग्रहण पर जो दुर्लभ योग बन रहा है वैसा आज से 149 साल पहले बना था।

12 जुलाई, 1870 को गुरू पुर्णिमा के दिन ही चंद्रग्रहण लगा था। चंद्रग्रहण को लेकर धार्मिक मान्यताएं हैं कि इससे लोगों पर भी गहरा प्रभाव पड़ता है।

इन प्रभावों से बचने के लिए लोगों की राशियों के हिसाब से कुछ उपाए बताए गए हैं जिससे ग्रहण से होने वाले नुकसान से आप बच सकते हैं।

मेष राशि-
मेष राशि वाले ग्रहण के बाद लाल कपड़ा/लाल मसूर की दाल/ सबूत हल्दी आदि का दान करें. ग्रहण काल के बाद किसी निर्धन को खाना भी खिलाएं। ऐसा करने से आपके मन की इच्छाएं जरूर पूरी होंगी।

वृषभ राशि-
वृषभ राशि वाले ग्रहण के बाद हल्के गुलाबी कपड़े और साबुत चावल का दान करें। ग्रहण काल के बाद किसी गौशाला में गाय को चारा खिलाएं। ऐसा करने से आपकी सेहत से जुड़ी समस्या दूर होंगी।

मिथुन राशि-
मिथुन राशि वाले कम से कम 5 गायों को हरा चारा खिलाएं। हरी मूंग, हरे कपड़े का दान करें. ग्रहण काल के बाद किसी किन्नर को खाना खिलाएं. भाई बहन में आपसी प्यार बढ़ेगा।

कर्क राशि-
कर्क राशि वाले लोग चंद्र ग्रहण के बाद जरूरतमंद लोगों को सफेद कपड़े का दान करें। शिव के मंत्र का जाप करते रहे. ऐसा करने से आपका मानसिक तनाव दूर होगा।

सिंह राशि-
सिंह राशि वाले सभी लोग चंद्र ग्रहण के दौरान गायत्री मंत्र का 108 बार जाप करें। गेहूं, गुड़ और कपड़ों का दान करें. इससे आपके दांपत्य जीवन में मधुरता आएगी।

कन्या राशि-
कन्या राशि वाले सभी लोग चंद्र ग्रहण के दौरान अपने माता पिता की सेवा करें। जरूरतमंद लोगों को खिचड़ी आदि का दान करें। इससे आपके घर में मां लक्ष्मी का आगमन होगा।

तुला राशि-
तुला राशि वाले सभी लोग ग्रहण काल के दौरान श्री सूक्त का 11 बार पाठ करें। ग्रहण के बाद सफेद चावल, वस्त्र, मिश्री तथा खिचड़ी जरूरतमंद लोगों को दान करें। इससे आपके प्रोपर्टी के विवाद हमेशा के लिए खत्म होंगे।

वृश्चिक राशि-
वृश्चिक राशि वाले सभी लोग ग्रहण काल के दौरान हनुमान चालीसा का तथा बजरंग बाण का पाठ करें। ग्रहण के बाद कम से कम 11 लोगों को मीठा दलिया दान करें। ऐसा करने से आपको ईश्वर की मदद मिलेगी, नौकरी व्यापार की समस्या खत्म होगी।

धनु राशि-
धनु राशि वाले सभी लोग ग्रहण काल के दौरान विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें। ग्रहण के बाद गाय को केला खिलाएं। हल्दी का दान करें.जरूरतमंद लोगों में कपड़ों का दान करें। इससे आपके पारिवारिक वाद-विवाद खत्म होंगे।

मकर राशि-
मकर राशि के सभी लोग ग्रहण काल के दौरान सुंदरकांड का पाठ करें। ग्रहण के बाद जरूरतमंद लोगों को तिल के लड्डू का दांन करें। पीपल के वृक्ष में जल चढ़ाएं. नौकरी की समस्या खत्म होगी।

कुंभ राशि-
कुंभ राशि के सभी लोग ग्रहण काल के दौरान हनुमान बाहुक का 3 बार पाठ करें। ग्रहण के बाद तिल के लड्डू के साथ साथ अन्न का भी दान करें। पीपल के पेड़ के नीचे दिया जलाएं। इससे व्यापार की समस्या खत्म होगी।

मीन राशि-
मीन राशि के सभी लोग ग्रहण काल के दौरान 3 बार नारायण स्तोत्र का पाठ करें। ग्रहण के बाद गाय को केला गुड़ खिलाएं. इससे मित्रों के आपसी वाद विवाद खत्म होंगे।

कृपालु महाराज

जेकेपी ने की 10 हजार लोगों की मदद, बांटी दैनिक उपयोगी वस्तुएं

Published

on

मनगढ़। जगद्गुरु कृपालु परिषत् द्वारा वर्ष भर लोकोपकारी गतिविधियां चलाई जाती हैं। संस्था द्वारा वर्ष में अनेक बार निर्धन व्यक्तियों, अनाश्रित महिलाओं व अभावग्रस्त विद्यार्थियों को दैनिक उपयोगी वस्तुएं दान-स्वरूप प्रदान की जाती हैं। इन लोकोपकारी गतिविधियों को नई राह प्रदान करते हुए दिनांक 4 अगस्त 2019 को भक्ति धाम, मनगढ़ द्वारा मनगढ़ एवं आस-पास के अभावग्रस्त क्षेत्र के निर्धन ग्रामवासियों को दैनिक उपयोगी वस्तुओं का निःशुल्क वितरण किया गया।

जगद्गुरु कृपालु परिषत् की अध्यक्षाओं सुश्री डाॅ विशाखा त्रिपाठी जी, सुश्री डाॅ श्यामा त्रिपाठी जी एवं सुश्री डाॅ कृष्णा त्रिपाठी जी द्वारा निःशुल्क वितरण के अन्तर्गत लगभग 10,000 निर्धन गरीबों को एक-एक स्टील का भगोना एवं तकिया प्रदान की गई। सम्पूर्ण कार्यक्रम राधे गोविन्द, गोविन्द राधे के मधुर संकीर्तन के मध्य सम्पन्न हुआ। इससे पूर्व 27 मार्च 2019 को लगभग 10,000 निर्धन ग्रामवासियों को एक-एक स्टील की परात, तौलिया एवं टाॅर्च प्रदान की गई।

संस्था के तीन प्रमुख केंद्रों (मनगढ़, बरसाना व वृन्दावन) में निर्धन वर्ग की आवश्यकताओं का ध्यान रखते हुए अनेक वर्षों से इस प्रकार के वितरण कार्य संपन्न किए जाते रहे हैं। जेकेपी का उद्देश्य क्षेत्र के ग्रामीण अंचलों में रह रहे निर्धनों की दैनिक जरूरतें पूरी करना है ताकि उनका जीवन सुचारु रूप से चल सके। जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज की सुपुत्रियाँ डॉ विशाखा त्रिपाठी, डॉ श्यामा त्रिपाठी और डॉ कृष्णा त्रिपाठी जो जेकेपी की अध्यक्ष भी हैं, महाराज जी के दिखाए मार्ग का अनुसरण करते हुए उन्हीं की तरह निरन्तर सामाजिक उत्थान के कार्यों में पूरी तरह से समर्पित हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending